बेंगलुरू में होटल के बाहर धरने पर बैठे दिग्विजय सिंह, बागी विधायकों से नहीं कर सके मुलाकात

Congress Leader Digvijaya Singh Dharna Near Ramada Hotel in Bengaluru - Sakshi Samachar

बागी विधायकों से मिलने बेंगलुरू पहुंचे थे दिग्विजय सिंह

पुलिस के रोकने पर होटल के बाहर धरने पर बैठे दिग्विजय

मध्य प्रदेश में फ्लोर टेस्ट के मामले में सुप्रीम कोर्ट में आज होगी सुनवाई

बेंगलुरु : मध्य प्रदेश का राजनीतिक दंगल अब प्रदेश के बाहर भी देखा जा रहा है। कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह आज तड़के बेंगलुरू पहुंचे और कांग्रेस के बागी विधायकों से मुलाकात की जिद्द पर अड़ गए। इस दौरान पुलिस ने उन्हें रोकने की कोशिश की तो वह रामदा होटल के बाहर धरने पर बैठ गए। यह वही होटल है, जहां सभी बागी विधायक ठहरे हुए हैं।

दरअसल, दिग्विजय सिंह आज सुबह फ्लाइट से बेंगलुरू पहुंचे। एयरपोर्ट पर ही पुलिस अधिकारियों के साथ उनकी कहासुनी हुई। इसके बाद वह कर्नाटक कांग्रेस अध्यक्ष डीके शिवकुमार के साथ होटल रामदा पहुंचे, लेकिन पुलिस ने उन्हें होटल के अंदर जाने की अनुमति नहीं दी। 

इस बात से नाराज होकर दिग्विजय सिंह होटल के बाहर ही धरने पर बैठ गए। उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा ने सभी विधायकों को कैद करके रखा है, जबकि बागी विधायकों ने पहले ही प्रेस कांफ्रेंस के जरिए कमलनाथ सरकार पर गंभीर आरोप लगाए और कहा कि उन्हें जबरदस्ती यहां बंद नहीं किया गया है।

सुप्रीम कोर्ट में आज सुना जाएगा मामला
भाजपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने सोमवार को सदन में बहुमत परीक्षण ना हो पाने के बाद सुप्रीम कोर्ट का रुख किया था। अदालत ने मंगलवार को सुनवाई तो नहीं की लेकिन स्पीकर, राज्य सरकार और बागी विधायकों को नोटिस जरूर दे दिया। अब इसी याचिका पर आज सुबह 10.30 बजे सुनवाई होगी।

यह भी पढ़ें :

मिशन तख्तापलट : पहले मध्य प्रदेश फिर राजस्थान की तैयारी में भाजपा

जानिए कौन हैं भाजपा के 'जय और वीरू', जिसने बिछाई मध्य प्रदेश में सियासी बिसात 

शिवराज ने दी अफसरों को चेतावनी
भारतीय जनता पार्टी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष एवं मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने ऐसे अधिकारियों को सख्त चेतावनी दी है, जो भाजपा नेताओं को धमका रहे हैं। शिवराज ने मंगलवार को कहा कि कई अधिकारी मौजूदा राजनीतिक हालात में कांग्रेस के एजेंट की भूमिका निभाते हुए सरकार का विरोध करने वाले विधायकों के परिवारों को डराने, धमकाने और प्रलोभन देने का काम कर रहे हैं।

Loading...
Advertisement
Back to Top