ओवैसी का अखिलेश पर हमला, बोले सपा सरकार ने यूपी आने से 12 बार रोका, अब दोस्ती निभाने आया हूं

Asaduddin Owaisi Attacks Akhilesh Yadav In Lucknow Over SP Rule - Sakshi Samachar

असदुद्दीन ओवैसी का वाराणसी दौरा

ओम प्रकाश राजभर से मिले ओवैसी 

लखनऊ : ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन (AIMIM) के मुखिया असदुद्दीन ओवैसी (Asaduddin Owaisi) पूर्वाचल के दौरे पर हैं। इस दौरान उन्होंने वाराणसी (Varanasi) के एयरपोर्ट पर ही समाजवादी पार्टी के मुखिया अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) पर बड़ा हमला बोल दिया।

ओवैसी ने कहा कि, "प्रदेश में जब अखिलेश यादव की सरकार की थी तो हमें 12 बार प्रदेश में आने से रोका गया था। अब मैं आ गया हूं। सुभासपा के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर के साथ गठबंधन किया है, मैं दोस्ती निभाने आया हूं। हम दोनों यूपी में टक्कर देंगे।" इसके बाद ओवैसी जौनपुर के लिए रवाना हो गए।

उन्होंने कहा कि, "बिहार विधानसभा चुनाव में अच्छा प्रदर्शन करने के बाद हम पश्चिम बंगाल में भी चुनाव लड़ेंगे। इसके बाद प्रदेश में जनसहभागीदारी मोर्चा के साथ मिलकर मैदान में उतरेंगे। इसके लिए हम पूर्वाचल में अपनी सक्रियता बढ़ा रहे हैं। हम एक-एक कर हर जनपद में जाकर अपनी पार्टी के अहम कार्यकर्ताओं व आम लोगों से मिलेंगे।"

जौनपुर जिले के जलालपुर में सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के प्रमुख ओमप्रकाश राजभर के साथ पहुंचने पर एआईएमआईएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी का कार्यकर्ताओं ने जोरदार स्वागत किया। दोनों पर फूल बरसाए और माला पहनाई। सुभासपा प्रमुख ओम प्रकाश राजभर के साथ ओवैसी नए गठजोड़ की संभावना तलाशेंगे।

जौनपुर के बाद मुस्लिम बहुल जिले आजमगढ़ और मऊ में भी ओवैसी और ओपी राजभर कार्यकर्ताओं के साथ बैठक व सभाएं करेंगे। हाल ही में सुभासपा और प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के अध्यक्ष की मुलाकात के बाद गठजोड़ की उम्मीद है।

इसे भी पढ़ें :

मोदी के संसदीय क्षेत्र में ओवैसी की 'एंट्री', M-O समीकरण से योगी को टक्कर देने की तैयारी

बंगाल के मुस्लिम वोटों को लेकर आपस में लड़ रहे मौलाना और ओवैसी, निशाने पर ममता बनर्जी भी

उधर, एआईएमआईएम के प्रदेश अध्यक्ष शौकत अली ने भी शिवपाल यादव से मुलाकात की थी। वहीं, सुभासपा और आजाद समाज पार्टी के बीच भी बातचीत का दौर जारी है। ऐसे में ओवैसी की पूर्वाचल में मौजूदगी से सियासी सरगर्मी तेज होने की उम्मीद है। फिलहाल विधानसभा चुनाव अगले साल होंगे, इससे पहले मतदाताओं को अपने पाले में करने के लिए सियासी दल कोई मौका नहीं छोड़ना चाहेंगे। वैसे ओवैसी के इस दौरे को उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव से जोड़कर देखा जा रहा है।

Advertisement
Back to Top