क्या आप जानते हैं एक्सरसाइज से जुड़ी ये बातें, स्वस्थ रहने के लिए जरूर पढ़ें WHO के ये गाइडलाइंस

WHO Releases New Guidelines for Physical Exercise according to Age - Sakshi Samachar

व्यायाम पर WHO के नए गाइडलाइंस जारी

अधिक शारीरिक श्रम वाले एक्सरसाइज से बच्चों को फायदा

युवा और वयस्कों को हल्के व्यायाम से लाभ

वृद्धों के लिए फायदेमंद है एरोबिक्स

हैदराबाद :  सभी जानते हैं कि हर वक्त स्वस्थ रहना है तो व्यायाम करना चाहिए। पर किस उम्र में कितने समय तक और किस तरह के व्यायाम करना चाहिए ? इस विषय पर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) ने नए गाइडलाइंस जारी किए हैं। लंबी बीमारियों से ग्रस्त और गर्भवती महिलाओं को पांच कैटेगरियों में विभाजित कर किसको कितना एक्सराइज करना चाहिए, इसकी जानकारी दी है। बीपी, शुगर, मोटापा, कैंसर और हृदय रोग आदि जीवनशैली की बीमारियों से परेशान लोग फिर से स्वस्थ जीवन बिता सके, इसके लिए  शारीरिक मेहनत पर पहली बार साइंटिफिक गाइडलाइंस रिपोर्ट जारी की है।

5-17 साल के लोग

विश्व स्वास्थ्य संगठन के आंकड़ों के मुताबिक पांच से 17 साल की आयु वाले बच्चों को हर दिन कम से कम एक घंटे तक व्यायाम करना चाहिए। ज्यादा दौड़ना, जागिंग या एरोबिक व्यायाम करना चाहिए। सप्ताह में तीन दिन मांसपेंशियां और हड्डी मजबूत होने वाले एक्सरसाइज करना चाहिए और खेल खेलना चाहिए।

18-64 साल की आयु के लोग

इस विभाग के लोगों को हर सप्ताह कम से कम एक घंटे से पांच घंटे तक (प्रति दिन अधिकतम 45 मिनट) हलके से कठिण एक्सरसाइज करना चाहिए। सप्ताह में कम से कम 99 मिनट से ढाई घंटे तक कठिन व्यायाम करने से दिल की बीमारी,बीपी, कैंसर, ट्राइव-२ शुगर आदि से बच सकते हैं। शारीरिक स्वास्थ्य और मानसिक संतुलन के लिए व्यायाम आवश्यक है।

65 साल से अधिक उम्र के लोग
वृद्ध भी 18-64 साल के कैटेगरी वाले करने सभी व्यायाम कर सकते हैं। उनके साथ वे सप्ताह में कम से कम तीन दिन शारीरिक संतुलन बनाए रखने में उपयोगी एक्सरसाइज करना बेहतर होगा। वृद्धों को वजह कम होने से भी ये व्यायाम बचाते हैं।

गर्भवती महिलाएं....
गर्भवती महिलाएं या जच्चा को अगर किसी तरह की समस्या नहीं है तो डॉक्टरों के सुझाव पर हर सप्ताह कम से कम ढाई घंटे तक सीमित एरोबिक्स करना चाहिए। परंतु व्यायाम के समय निर्धारित मात्रा में पीने का पानी जरूर पीना चाहिए। कठिण व्यायाम नहीं करना चाहिए।

लंबे समय से बीमार रहने वाले....
दीर्घकालीन जीवनशैली से जुड़ी बीमारियों से ग्रस्त लोग सप्ताह में कम से कम डेढ़ घंटे से पांच घंटे तक एरोबिक्स करना चाहिए या सप्ताह में कम से कम 75 मिनट से ढाई घंटे तक कठिन एक्सरसाइज और एरोबिक्स करना चाहिए। उसी तरह, सप्ताह में कुछ बार अपनी क्षमता बढ़ाने के लिए बैलेंस एक्सरसाइज करना चाहिए।

शारीरिक श्रम को प्रोत्साहन करना चाहिए...

WHO की रिपोर्ट्स  में मौजूद गाइडलाइंस अत्यांत साइंटिफिक हैं। इसलिए शारीरिक श्रम करने के लिए बच्चों को प्रोत्साहिक करना चाहिए। ऐसा करने से उनके हृदय और फेफड़ों की क्षमता बढ़ेगी। हड्डियां मजबूत होंगी और मानिसक आनंद मिलेगा। शारीरिक श्रम करने वाली गर्भवती महिलाओं में बीपी की समस्या नहीं आएगी और समय से पहले प्रसव का खतरा टल जाएगा।

- डॉक्टर किरण मादल, हेड ऑफ दि डिपार्टमेंट.  क्रिटिकल केयर, निजामाबाद सरकारी मेडिकल कॉलेज

ये हैं WHO के गाइडलाइंस 
►हर दिन 10-12 घंटे तक लगातार बैठकर काम करने वालों में समयपूर्व मृत्यु होने की संभावना दूसरों के मुकबले 1.5 फीसदी अधिक
►अधिक शारीरिक श्रम करने वालों में किडनी, पेट में जलन, कैंसर आदि 10 से 20 फीसदी घट जाते हैं। अधिक वजन की समस्या नहीं पैदा होगी। शुगर पेशेंट्स की हृदयरोग से होने वाली मृत्यु दर में 40 फीसदी कटौती होगी।
►27.5 फीसदी बढ़े और 81 फीसदी युवा शारीरिक श्रम नहीं कर रहे हैं।
 

Advertisement
Back to Top