जीवन मंत्र : आधा गिलास पानी से जानिए जीवन को आसान बनाने का राज, कठिन हालातों को कुछ ऐसे करें डील

Life style motivation know how positive thinking overcome all problems - Sakshi Samachar

सकारात्मक सोच से बदलता है नजरिया

सकारात्मक नजरिए से बदल जाता है जीवन

प्रकृति ने इस दुनिया को बहुत खूबसूरत बनाया है। आप जिधर भी देखें, चाहे नदियां हो, झरने हों, जंगल हों, पहाड़ हो या फिर कोई भी जगह, आप जहां भी जाएंगे प्रकृति खुद को अभिव्यक्त करती हुई मिलेगी। बावजूद इसके इस खूबसूरत दुनिया में जब हम खुद की तरफ देखते हैं तो, जीवन की तमाम समस्याओं से जूझ रहे होते हैं । 

नजरिए के महत्व को समझें 
तो इतना तो साफ है कि, इस खूबसूरत जीवन में समस्याएं भी हैं, जिंदगी उतनी आसान भी नहीं जैसी कि हम होने की कल्पना करते हैं। तो फिर क्या करें ? आखिर में हम यही पाते हैं कि हम अपनी उन परिस्थितियों से जूझ ही रहे होते हैं । अंतर केवल इतना होता है कि, हर व्यक्ति का इन हालातों से निपटने का तरीका अलग होता है। जिसकी वजह होती है नजरिया, जी हां नजरियां एक ऐसा गुण है, जिसके चलते हम अपने जीवन को आसान बना सकते हैं । 

सकारात्मक सोच से कम होने लगती हैं समस्याएं  
जो लोग विषम हालातों में भी सकारात्मक सोचते हैं, उनके जीवन में समस्याएं खुद ब खुद कम होने लगती हैं । वहीं नकारात्मक विचार हमारे काम को और भी खराब कर देतें हैं । इस लिए हमेशा सकारात्मक सोचना चाहिए। इससे हमारे मन मष्तिष्क में हमेशा ऊर्जा भरी रहती है। 

आधा गिलास पानी में छिपा सफल जीवन का राज 
यहां आपको बतातें है, कि एक खाली गिलास को लेकर किस तरह दो इंसानों का नजरिया अलग- अलग होता है। दो व्यक्तियों को आप एक गिलास में पानी आधा भर कर दीजिए, और उनसे पूछिए कि गिलास में कितना पानी है। जिस व्यक्ति का नजरिया सकारात्मक होगा, उसका जवाब होगा कि गिलास आधा भरा हुआ है। वहीं दूसरा व्यक्ति आपसे कहेगा कि गिलास आधा खाली है।

इस छोटी सी बात से समझा जा सकता है कि इंसान अपने मूल स्वभाव के तहत चीजों के प्रति अपना दृष्टिकोण बना लेता है, और जीवन में आने वाली तमाम परिस्थितियों को उसी प्रकार डील करने लगता है। हां सकारात्मक सोच वाले इंसान को ये भरोसा होता है कि इन हालातों पर वह जीत दर्ज कर लेगा । तो वहीं नकारात्मक सोच का व्यक्तिऔर भी निराश हो जाता है, और पूरी ऊर्जा के साथ अपने हालातों से नहीं निपटता । जिसका नतीजा होता है वह हार मान लेता है।  

तो सफल जीवन को जीने का मूल मंत्र है आपका नजरिया, जिनका नजरिया पॉजिटिव होता है, तो अपने कठिन हालातों से भी निजात पा लेते हैं, जबकि जिनका नजरिया निगेटिव होता है, वो छोटी समस्याओं को भी इतना बड़ा बना कर देखते है कि कभी भी उनसे निजात नहीं पा पाते हैं । नतीजा ये होता है कि उनकी समस्याएं बढ़ती जाती हैं । 

तो हमेशा  सकारात्मक सोचिए, अपने नजरिए को बदलिए और हालातों को अपने नियंत्रण में कर ले । नकारात्मक विचार के चलते कभी-कभी जीवन की अच्छी चीजों को भी नहीं देख पाते हैं ।

-विमल श्रीवास्तव 

Advertisement
Back to Top