जानिए, क्या है World Food Day 2020 की थीम? क्यों मनाते हैं यह दिन, हेल्दी ईटिंग के 5 सरल उपाय...

Know the reason why we celebrate World Food Day and the theme of this year - Sakshi Samachar

क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड फूड डे?

वर्ल्ड फूड डे 2020 की थीम

कब और क्यों किया गया शुरू?

World Food Day 2020: पूरी दुनिया में हर साल 16 अक्टूबर को 'वर्ल्ड फूड डे' मनाया जाता है। कई संगठनों द्वारा इस दिन को भूख से पीड़ित लोगों के लिए जागरुकता फैलाने के उद्देश्य मनाया जाता है। इसमें फूड और भूखमरी से जुड़े कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, जिसमें लोगों को खाद्य सुरक्षा और पौष्टिक आहार की जरूरत के बारे में भी जानकारी दी जाती है।

क्यों मनाया जाता है वर्ल्ड फूड डे?

कोरोना वायरस संक्रमण ने जहां पूरी दुनिया को परेशान कर दिया है। वहीं, उन्हें अभाव में जीना भी सिखा दिया है। हालां​कि खाद्यान्न का संकट हमने पहले भी कई बार देखा है और उससे उबरे भी हैं। लेकिन ऐसे ही खाद्यान्न संकट से पूरी दुनिया को उबरने के लिए तैयार करने का काम किया जाता है, हर साल 16 अक्टूबर को।

16 अक्टूबर को हर साल पूरी दुनिया विश्व खाद्य दिवस के तौर पर मनाती है। इससे इतर विश्व खाद्य दिवस को लॉन्च करने और मनाए जाने का मुख्य कारण दुनिया भर में खाद्य सुरक्षा को सुरक्षित और उन्नत करना है, खासकर संकट के दिनों में। गौरतलब है कि कृषि संगठन के सदस्य वाले देशों ने नवंबर 1979 को हुए 20वें महासम्मलेम में वर्ल्ड फूड डे की स्थापना की थी।

क्यों शुरू किया गया?

खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ) की स्थापना के जश्न के तौर पर दुनिया भर के 150 से अधिक देशों में अलग अलग कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। ये कार्यक्रम भूख से पीड़ित लोगों के लिए दुनिया भर में जागरुकता पैदा करते हैं। साथ ही, सभी के लिए खाद्य सुरक्षा और पौष्टिक आहार सुनिश्चित करने की आवश्यकता को ध्यान में रखकर भी जागरुकता पैदा की जाती है। इस दिन को मनाने के पीछे एक उद्देश्य यह भी है कि सभी को पता चले कि भोजन एक बुनियादी और मौलिक मानवाधिकार है।

कब हुआ शुरू?

संयुक्त राष्ट्र द्वारा शुरू किए गए खाद्य और कृषि संगठन की स्थापना की तिथि के सम्मान में यह वार्षिक उत्सव मनाया जाता है। खाद्य और कृषि संगठन के सदस्य वाले देशों ने नवंबर 1979 को हुए 20वें महासम्मलेम में वर्ल्ड फूड डे की स्थापना की। इसके बाद 16 अक्टूबर 1981 को वर्ल्ड फूड डे मनाने की शुरुआत की। वर्ल्ड फूड डे पर जानें कि हेल्दी रहने के लिए पौष्टिक आहार का सेवन करना कितना महत्वपूर्ण है?

वर्ल्ड फूड डे 2020 की थीम

इस साल कोविड-19 महामारी के प्रभाव ने दुनिया भर के देशों को प्रभावित किया है। वर्ल्ड फूड डे ने इस साल वैश्विक एकजुटता के लिए सबसे कमजोर लोगों को ठीक करने और खाद्य प्रणालियों को उनके लिए अधिक टिकाऊ बनाने में मदद करने का आह्वान किया है। ताकि लोगों को ज्यादा से ज्यादा ऐसे फूड्स के बारे में जानकारी दी जा सके, जो उनके स्वास्थ्य के लिए लाभदायक हों।

भारत में कैसे मनाते हैं वर्ल्ड फूड डे?

भारत में यह दिन कृषि के महत्व को दर्शाता है और इस तथ्य पर बल देता है कि भारतीयों द्वारा उत्पादित और उपभोग किए जाने वाला भोजन सुरक्षित और स्वस्थ है। विश्व खाद्य दिवस भारत में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है। भारत में लोग इस अवसर को रंगोली बनाकर और सड़क पर नुक्कड़-नाटक करके लोगों को फूड के बारे में जागरुक करते हैं और इस दिन को मनाते हैं।

आइए, जानते हैं कि World Food Day 2020 पर हेल्दी ईटिंग के 5 सरल उपाय

World Food Day 2020: भोजन तैयार होने के बाद आप उसका सेवन कैसे करते हैं, इसका आपके स्वास्थ्य पर काफी प्रभाव पड़ता है। हेल्दी लाइफस्टाइल के लिए जरूरी है पौष्टिक आहार (Nutritious Diet)। पौष्टिक आहार में अतिरिक्त पूरक जोड़ने के लिए आपको हेल्दी फूड ऑप्शन (Healthy Food Option) चुनना भी जरूरी है।

आज के दिन आपके लिए यह समझना जरूरी है कि स्वस्थ रहने के लिए हमें अपने खानपान समेत अन्य आदतों को सही करना होगा। इसके लिए जरूरी है कि हमें कुछ हेल्दी आदतों (Healthy Habits) के बारे में भी जानकारी हो।

1. रंग बिरंगी हो प्लेट

सब्जियां हमारी डाइट का एक महत्वपूर्ण हिस्सा हैं। यही वजह है कि हमें बहुत सारी हरी और पत्तेदार सब्जियां खाने की सलाह दी जाती है। हालांकि, अगर आप एक पौष्टिक और संतुलित आहार की तलाश कर रहे हैं, जो​ कि आपकी सभी पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करता है तो समझ लें कि आपको अपनी प्लेट पर ज्यादा से ज्यादा रंगों को समेटने की कोशिश करनी होगी। वैसे भी हरी पत्तेदार सब्जियां एस्कॉर्बिक एसिड, फॉलिक एसिड आदि विटामिन से भरपूर होती हैं और आयरन, कैल्शियम और फॉस्फोरस जैसे खनिजों से भी भरपूर होती हैं। इस तरह हमारी प्लेट पोषक तत्वों का एक पावर हाउस बन जाता है। लाल रंग के फल और सब्जियां एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत हैं, जो कि हाई ब्लड प्रेशर, कैंसर और हृदय रोगों के जोखिम को कम करने में मददगार माने जाते हैं।

2. खुद बनाएं खाना

अब जब हमने अपनी प्लेट पर हेल्दी फूड्स का विस्तार कर लिया है, तो स्वयं अपना भोजन पकाने की आदत भी डालना चाहिए। आपके खाना पकाने की तुलना में आपके भोजन में क्या है, यह जानने का कोई बेहतर तरीका नहीं है। आप खाने में किन चीजों का इस्तेमाल कर रहे हैं, आप से बेहतर यह कोई नहीं जानता है। इसे स्वयं बनाकर, आप न केवल विभिन्न स्वादों और मसालों के साथ खेल सकते हैं, बल्कि आपके द्वारा उपभोग की जाने वाली शुगर और नमक की मात्रा को भी नियंत्रित कर सकते हैं।

3. खाना चबाकर खाएं

एक बार भोजन तैयार होने के बाद, आप इसका सेवन कैसे करते हैं, इसका आपके स्वास्थ्य पर भी प्रभाव पड़ता है। अगर आप भोजन कम चबाते हैं तो वह आपके शरीर के अंदर भोजन के उचित पाचन में बाधा डालता है। इससे मोटापा, डायबिटीज जैसी स्वास्थ्य समस्याएं भी बढ़ जाती हैं। इसलिए धीरे-धीरे खाने और हर बाइट को छोटी करने की प्रतिज्ञा करें क्योंकि आपका स्वास्थ्य आपके द्वारा सही खाने और बाइट पर ही निर्भर करता है।

4. माइंडफुल ईटिंग पर ध्यान दें

हेल्दी खाने की आदत के रूप में विचार करने के लिए एक और जरूरी पहलू चौकस भोजन करना होगा। हममें से अधिकांश लोग भोजन करते समय अपने भोजन पर ध्यान देने के महत्व को कम आंकते हैं। भोजन करते समय टीवी, कंप्यूटर और मोबाइल फोन से विचलित होने के कारण पाचन प्रक्रिया में बाधा उत्पन्न हो सकती है क्योंकि आपका मुंह पर्याप्त लार का उत्पादन नहीं कर सकता है। यह बदले में आपकी भूख को विनियमित करता है।

5. स्ट्रेस को मैनेज करें

हेल्दी खाने की आदत के कुछ सरल तरीके हैं। आपको ध्यान देना चाहिए कि 'तनाव' एक वास्तविक चीज है, जिससे स्वास्थ्य संबंधी बड़े खतरे पैदा होते हैं। खुद को हेल्दी बनाने के लिए बेहतर तरीके खोजने और अपने तनाव को बेहतर ढंग से प्रबंधित करने की प्रतिज्ञा करें। यह आपको पढ़ने, मालिश करने, खाना पकाने, स्ट्रेस को कम करने में आदि में भी मदद कर सकता है। यही नहीं, अपने तनाव को कम करने के लिए भोजन के अलावा कुछ और तरीके भी अपनाएं।

Advertisement
Back to Top