कोरोना वायरस : संक्रमण से बचाव के लिए अगर आप भी पी रहे हैं यह पेय, तो रहें सावधान वरना..

home remedy to improve immunity and have protection shield from covid-19 - Sakshi Samachar

कोरोना से कैसे करे बचाव

जानिए कैसे बढ़ेगी इम्मयुनिटी 

कोरोना वायरस : दुनिया भर में कोरोना की दहशत ने लोगों की नींद उड़ा रखी है। एक तरफ जहां दुनिया भर में वैक्सीन बनाने में वैज्ञानिक जुटे हुए हैं, तो वहीं लोग इससे बचाव के लिए इम्मूनिटी बढ़ाने का नुस्खा तैयार करने में जुटे हुए हैं। इसी कड़ी में लोग तरह-तरह के नुस्खे आजमा रहे हैं। लेकन ये नुस्खे आप को नुक्सान भी पहुंचा सकते हैं।  

इस दौर में सबसे ज्यादा जोर एक खास प्रकार के पेय पर दिया जा रहा है। लोगों का मानना है किआयुर्वेदिक पेय उन्हें सुरक्षा चक्र प्रदान करेगा।

 क्यों बिगड़ रही लोगों की सेहत ?

जी हां हम बात कर रहे हैं काढ़े की, लेकिन समस्या है यह है कि कोरोना वायरस से बचने के लिए लोग काढ़े का सेवन तो कर रहे हैं, लेकिन काढ़े का कितना सेवन किया जाए इस पर बिलकुल भी ध्यान नहीं दे रहे हैं। जिसकी जितनी मर्जी उतना काढ़ा वो पी रहा है। यहीं वजह है कि अधिक मात्रा में काढ़े का सेवन लोगों की सेहत को नुकसान पहुंचा रहा है। इस लिए इस बात की जरूरत है कि काढ़ा कैसा हो और कितनी मात्रा में इसका सेवन करना चाहिए इस पर ध्यान देना बहुत जरूरी है। 

काढ़ा कैसे बनाएं ?

काढ़ा बनाने के लिए आप काली मिर्च, दालचीनी, मुलेठी, तुलसी, सोंठ और हल्दी  को बराबर मात्रा में मिला कर पावडर बना कर रख लें। काढ़ा बनाने के लिए इसमें से 20 ग्राम मात्रा लेकर इसे गर्म पानी में तब तक उबाले जब तक पानी की मात्रा आधी न हो जाए। अब इसमें अपनी स्वाद के मुताबिक गुड़ भी मिला सकते है। 

कितनी मात्रा में करें काढ़े का सेवन ?  

काढ़ा पीने के लिए बच्चे बुजुर्ग और वयस्क तीनों के लिए अलग-अलग मात्रा होनी चाहिए। वयस्क आधिकतम 150 मिली लीटर काढ़ा पी सकते हैं। जबकि बुजुर्गों और बच्चों की मात्रा कम होनी चाहिए। बुजुर्ग 50 से 60 मिली लीटर काढ़ा पी सकते हैं।  वहीं बच्चों को यह काढ़ा देने में सावधानी बरतनी चाहिए, उन्हें 35 से 40 मिली लीटर काढ़ा पीने को दे सकते हैं। 

आप इस काढ़े का सेवन सुबह और शाम कर सकते हैं। लेकिन इस बात का ध्यान रखे कि हर बार पीने से पहले ताजा काढ़ा ही बनाएं। 

 अगर आप जरूरत से ज्यादा काढ़ा का सेवन करते हैं तो आपको नुकसान पहुंच सकता है। सीने में जलन, मुंह में छाला, चक्कर आना जैसी कई समस्याएं हो सकती हैं। आपको बतादें कि काढ़े में प्रयोग की जाने वाली वस्तुओं की तासीर गर्म होती है, इसलिए इनका प्रयोग सावधानी पूर्वक करना चाहिए। अगर आपको काढ़ा पीने से नाक से खून आना, पेट में जलन, चक्कर आने जैसी समस्याए हो रही हैं, तो तुरंत काढ़े का सेवन बंद कर दे और चिकित्सकीय सलाह लें । 

Advertisement
Back to Top