कोरोना : दिन में छह बार हाथ धोने और मास्क लगाए रहने से टल सकता है खतरा, रिसर्च में हुआ खुलासा

Hand washing and wearing masks 6 times a day may prevent corona - Sakshi Samachar

कोरोना का खतरा टला नहीं है और लॉकडाउन में छूट दे दी गई 

अब हमें ही सतर्क रहना होगा और सावधानी बरतनी होगी

रिसर्च कहता है बार-बार हाथ धोकर औ मास्क पहनकर हो सकता है बचाव

कोरोना वायरस का कहर पूरे विश्व में फैला है और यह कम होने का नाम ही नहीं ले रहा। हमारे देश में इसकी रोकथाम के लिए लॉकडाउन लगाया गया था, पर अब तो लॉकडाउन भी बहुत हद तक खुल चुका है और यही वह समय है जब हमें सावधान रहने की ज्यादा जरूरत है।  

जी हां, जब तक इस वायरस की वैक्सीन तैयार नहीं होती हमें सावधान रहना होगा, एहतियात बरतना होगा, तभी तो हम खुद को, परिवार को इसके चंगुल से बचा सकेंगे। 

हमें कोरोना से बचाव के तरीकों को अपनाना होगा ताकि हम सुरक्षित रह सकें। इसके लिए शुरुआत से ही सोशल डिस्टेंसिंग के साथ बार-बार हाथ धोने और मास्क का इस्तेमाल करने की सलाह दी जा रही है। इसी संबंध में एक नए रिसर्च में यह बात सामने आई है कि दिन में कम से कम छह बार हाथ धोकर और मास्क पहने रहने से कोरोना संक्रमण का खतरा 90 फीसदी तक कम किया जा सकता है। 

रिसर्च में सामने आई ये बात 

वेलकम ओपन रिसर्च जर्नल में प्रकाशित इस शोध के मुताबिक, 1663 लोगों पर अध्ययन के बाद शोधकर्ताओं का कहना है कि मास्क से चेहरा ढककर और दिन में कम से कम छह बार हाथ धोकर संक्रमण का खतरा 90 फीसदी तक कम किया जा सकता है। 

हाइजीन पर दें खास ध्यान

शोधकर्ताओं का कहना है कि मास्क लगाने से छींक या खांसी से निकले ड्रॉप्लेट्स से होने वाला संक्रमण 90 फीसदी तक रोका जा सकता है। साफ-सफाई और हाइजीन के इन दोनों जरूरी उपायों पर किए गए अध्ययन के परिणाम स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय से लेकर विश्व स्वास्थ्य संगठन के सुझाव और सलाहों से मेल खा रही है। 

1663 लोगों पर अध्ययन

शोधकर्ताओं के मुताबिक, कोरोना परिवार के सभी वायरस सर्दी, खांसी और सांस में होने वाली तकलीफों जैसी बीमारियों से जुड़े हैं। ऐसे संक्रमण से बचने के लिए बार-बार हाथ धोना बेहतर उपाय है। इस रिसर्च स्टडी के दौरान पाया गया कि जिन्होंने कम से कम 6 बार हाथ धोए उनमें संक्रमण का खतरा कम था। 

6 से 10 बार हाथ धोना जरूरी

यूनिवर्सिटी कॉलेज लंदन के शोधकर्ताओं के मुताबिक, साल 2006 से 2009 के बीच वायरस के कारण फैली बीमारियों का आंकड़ा जुटाया गया। इस पर अध्ययन के बाद पता चला कि साबुन और पानी से हाथ धोने से इन बीमारियों से बचा जा सकता है। शोधकर्ताओं का कहना है कि कोरोना संक्रमण से बचने के लिए रोजाना 6 से 10 बार  हाथ धोना जरूरी है। 

होममेड मास्क भी बेहतर  

विशेषज्ञों के मुताबिक, घर में तैयार मास्क ज्यादा बेहतर होते हैं। एडिनबर्ग यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं ने सात तरह के फेस मास्क पर रिसर्च की। बताया कि इनमें मेडिकल मास्क और होममेड मास्क भी शामिल हैं। शोधकर्ता डॉ. फेलिसिटी मेहनउेल के मुताबिक, घर के बने मास्क भी सीधे तौर पर आने वाले वायरस को रोकने में कारगर हैं। 

चेहरा ठीक से ढकें

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के मुताबिक, वैसे मास्क ज्यादा बेहतर होते हैं, जो ठीक से फेस कवर करते हों। सर्जिकल और अच्छे होममेड मास्क हवा में फैलने वाले संक्रमण को रोकता है। जिस मास्क में चारों तरफ से हवा जाने की जगह न हो, वह ज्यादा सुरक्षित होते हैं।

स्वास्थ्य संस्थाओं की अपील:

अमेरिका के सेंटर फॉर डिसीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन (सीडीसी) ने भी लोगों से कपड़े या फैब्रिक से बने मास्क पहनने की अपील की थी। वहीं भारत में घर पर बने मास्क भी पहनने की सलाह दी जा चुकी है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की ओर से इसे घर पर साफ करने और सुखाने के तरीके भी बताए जा चुके हैं। बाजार में मास्क की कमी को पूरा करने में घर पर बने मास्क ने बड़ी भूमिका निभाई है।

इसे भी पढ़ें : 

कोरोना : अश्वगंधा से कोविड-19 का इलाज संभव, शोध में हुआ खुलासा

कोरोना: जानें अगर हमारा इम्यून सिस्टम ही हमारे शरीर पर हमला कर दे तो आखिर क्या होगा?

Advertisement
Back to Top