कोरोना से ठीक हुए हैं तो जरूर लगवाएं ये टीका, वरना हो सकता हैं 'लांग्ड कोविड' का खतरा

Get flu vaccine when you recover from corona - Sakshi Samachar

प्रदूषण बन सकता है खतरनाक

फ्लू का टीका लगवाने की सलाह 

नई दिल्ली:  कोरोना वायरस से भारत में अब तक 70 लाख से ज्यादा लोग ठीक हो चुके हैं। लेकिन कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके लोगों का वायरस आसानी से पीछा नहीं छोड़ता है, इसलिए शायद ठीक होने के बाद भी मरीजों में कुछ लक्षण दिखते रहते हैं और इसे 'लॉन्‍ग कोविड' कहा जाता है। जिससे देखते हुए एक्सपर्ट्स ने ऐसे लोगों को एक नया टीका लगवाने की सलाह दी है।

दरअसल एक्सपर्ट्स का मानना है कि बढ़ता प्रदूषण कोरोना वायरस से ठीक हो चुके मरीजों के लिए ज्यादा खतरनाक हो सकता है। जिसके लिए उन्होंने फ्लू वैक्‍सीन लगवाने का सुझाव दिया है। एक अध्ययन में खुलासा हुआ है कि रोम के एक अस्पताल में कोरोना वायरस से ठीक हुए 134 मरीजों में से 87 फीसदी रोगियों में दो महीने बाद ही कोविड-19 के कम से कम एक लक्षण दिखाई देने लगे। मरीजों ने खांसी, थकान, दस्त, जोड़ों का दर्द, मांसपेशियों में दर्द और फेफड़े, दिल व गुर्दे में क्षति की शिकायत की।

अध्ययन के अनुसार वृद्ध, महिलाओं, अधिक वजन वाले और मोटे लोगों, अस्थमा के रोगियों में शुरुआती पांच सप्ताह में अगर कोरोना के लक्षण पाए जाते हैं, तो उन्हें लॉन्ग कोविड का खतरा अधिक होता है। वहीं, जिन लोगों में कोरोना के हल्के लक्षण या बिना लक्षण होते हैं, उनके लिए भी खतरा अधिक है।  

यह भी पढ़ें: अगर आप भी हैं ब्लड प्रेशर की समस्या से परेशान, तो अपनाएं ये असरदार टिप्स

किंग्स कॉलेज लंदन में एक अप्रकाशित शोध के हवाले से कहा गया है कि 20 में से एक व्यक्ति आठ सप्ताह तक बीमार रहता है। दिल्ली एम्‍स के डायरेक्‍टर डॉ रणदीप गुलेरिया का कहना है कि 'बढ़ते प्रदूषण, गिरते तापमान और त्‍योहारों के मौसम में बढ़ती भीड़ से खतरा ज्यादा है। जो लोग लॉन्‍ग कोविड वाले हैं, उन्हें फ्लू के खिलाफ टीकाकरण करा लेना चाहिए, ताकि लॉन्‍ग कोविड और फ्लू इन्‍फेक्‍शन से बच सकें। 

Advertisement
Back to Top