लॉकडाउन में जिस मजबूर युवती का पेट भरा, प्रेम में पड़कर उसे ही बना लिया जीवनसंगिनी

 The forced woman who was full in lockdown, fell in love and made her a life partner today - Sakshi Samachar

लखनऊ : लॉकडाउन की बंदिशों के चलते जहां एक तरफ देश में हजारों लोगों ने अपनी शादी टाल दी, वहीं कानपुर में इसी दौरान एक गरीब अनाथ लड़की की शादी चर्चा का विषय बनी हुई है। 

फुटपाथ पर भिखारियों के साथ बैठने वाली एक युवती को कभी पेट भरने के लिए राहत पैकेट देने वाला युवक आज उसकी मांग भर रहा है। असल में हुआ कुछ यूं कि युवक अक्सर खाना बांटने के लिए उस जगह पर जाया करता था। वहां उसने एक युवती को अकेला देखा तो उसका दर्द बांटने के उद्देश्य से उसकी आपबीती पूछ ली। 

युवती ने फिर जो बताया, उसने युवक के दिलोदिमाग में उथल—पुथल मचा दी। आखिरकार उसने तय कर लिया कि इसे लॉकडाउन का उपहार मानकर इस युवती को वह अपनी पत्नी बनाएगा। और हुआ भी ऐसा ही। कानपुर की नीलम से उसने विवाह रचा ली। यह अनूठी शादी वहां लोगों के बीच चर्चा का विषय बनी हुई है। 

दरअसल, नीलम की कहानी किसी फिल्म की कहानी से कम नहीं है। नीलम के पिता नहीं हैं। मां पैरालेसिस से पीड़ित है, भाई-भाभी ने मारपीट कर घर से भगा दिया था। उसके पास गुजारा करने को कुछ नहीं था, इसीलिए लॉकडाउन के दौरान खाना लेने के लिए वह फुटपाथ पर भिखारियों के साथ खाने के लाइन में बैठती थी। 

अनिल अपने मालिक के साथ रोज सबको खाना बांटने आता था। इसी दौरान अनिल को जब नीलम की मजबूरियों का पता चला, तो वो नीलम से प्यार कर बैठा। फिर क्या था, भिखारियों की लाइन से निकलकर नीलम उसके सात जन्मों की हमसफ़र बन गई। नीलम को तो अभी तक अपनी शादी किसी सपने से कम नहीं लग रही, वहीं अनिल अपनी शादी को लॉकडाउन की शादी का नाम दे रहा है।

यह भी पढें : राज की वो 6 बातें, जो बनाए रखेंगी आपके रिश्ते की खूबसूरती​

Advertisement
Back to Top