"कॉम्पिलिमेंट योर मिरर डे" पर शीशे के सामने खड़े होकर कहिए... कहीं तुम्हें मेरी ही नजर न लग जाए... फिर देखिए 'जादू'

On This Compliment Your Mirror Day, Praise yourself and see the Magic - Sakshi Samachar

"क्या गजब ढा रही हो आज तुम। मानो कहर बरपा रही हो। कहीं तुम्हें मेरी ही नजर न लग जाए। आओ, इन आंखों में सुरमा सजा दूं।"... शीशे के सामने खड़े होकर आपने भी कभी ऐसा कहा है! नहीं कहा हो तो आज जरूर कहिएगा।

अमेरिका में आज यानि हर साल 3 जुलाई के दिन को "कॉम्पिलिमेंट योर मिरर डे" के तौर पर मनाया जाता है। यकीन मानिए, इस दिन की जरूरत और महत्ता जब अन्य देशों में भी लोगों को समझ आई तो उन्होंने भी इसे मनाने का फैसला किया। आप भी करिए। और इस कोरोना काल में तो यह करना और भी जरूरी और फायदेमंद होगा।

दरअसल, कोरोना ने पूरी दुनिया में लोगों को मानसिक तौर पर कमजोर और बीमार कर दिया है। ऐसे में अगर आप मिरर के सामने खड़े होकर खुद की तारीफ करेंगी, तो इससे आपके अंदर एक नई स्फूर्ति का संचार भी होगा।

यकीन न हो तो जरा रुकिए और सोचिए। दूसरों की तारीफ तो हम अक्सर करते हैं और उसका असर सामने वाले पर कैसा हुआ, यह देखकर खुश भी होते हैं। तो फिर कभी खुद की तारीफ करने से पीछे क्यों रह जाते हैं? खासकर तब, जब ऐसा करके आपके अंदर नई उर्जा, नई स्फूर्ति, नए जोश और नए आत्मविश्वास का संचार हो सकता है। यह बिल्कुल वैसा ही है, जैसा किसी दूसरे की तारीफ करके हम महसूस करते हैं।

अब भी यकीन न हो तो आज एक बार बस, इसकी शुरुआत करके देखिए। फिर हर रोज आप ऐसा ही करना चाहेंगे। और सच कहूं तो इसमें कुछ बुरा भी नहीं है। बल्कि अपनी बेहतरी और खुशी के लिए आप हर रोज ऐसा कर सकते हैं। आखिर किसी दूसरे की हर रोज तारीफ करने में कोई बुराई नहीं है तो भला खुद की तारीफ हर रोज की जाए तो उसमें बुरा क्या होगा?

तो हो जाइए शुरू। जब आपको इसके फायदे महसूस होने लगें तो अपने आसपास भी लोगों को ऐसा करने के लिए जरूर कहें। आखिर दूसरों को भी खुश रहने का अधिकार है!

— सुषमाश्री

Advertisement
Back to Top