अब मलेरिया की दवा से नहीं हो सकेगा कोरोना का इलाज, WHO ने लगाई रोक

WHO Stop Trial Of Anti Malarial Drug To Treat Corona - Sakshi Samachar

मलेरिया की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन की दवा पर रोक

कोरोना वायरस के इलाज के लिए क्लनिकल ट्रायल

नई दिल्ली : विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सुरक्षा चिंताओं की वजह से मलेरिया की दवा हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का कोरोना वायरस से संक्रमितों के इलाज के लिए ट्रायल रोक दिया है। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने सोमवार को कहा कि इसने एहतियात के तौर पर हाइड्रॉक्सीक्लोरोक्वीन का कोरोना वायरस के इलाज के लिए क्लनिकल ट्रायल अस्थायी रूप से बंद कर दिया है। 

आप को बता दें कि अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कोरोना के मरीजों के इलाज के लिए इस दवा का समर्थन किया था। राष्ट्रपति ट्रंप ने यहां तक कहा था कि वह मलेरियारोधी इस दवा को एहतियात के तौर पर स्वयं भी ले रहे हैं।

बहरहाल, संगठन ने पिछले हफ्ते लैंसेंट में छपी एक अध्ययन की रिपोर्ट के बाद यह फैसला किया है। रिपोर्ट में कहा गया था कि इस दवा के इस्तेमाल से कोरोना के मरीजों की मौत की संभावना बढ़ जाती है। यही वजह है कि वैश्विक स्तर पर इस दवा के इस्तेमाल पर फिलहाल अस्थायी रोक लगाई गई है। WHO के प्रमुख ने एक वर्चुअल प्रेस कॉन्फ्रेंस में यह जानकारी दी।

भारत की शीर्ष स्वास्थ्य अनुसंधान संस्था आईसीएमआर भी कोरोना वायरस संक्रमित रोगियों के उपचार में हाइड्रॉक्सी क्लोरोक्वीन (एचसीक्यू) के प्रयोग की अपनी सिफारिशों की समीक्षा करने पर विचार कर रहा है। ऐसा दवा की प्रभावी क्षमता को लेकर उठ रहे संदेहों के बाद किया जा रहा है। यह पूछे जाने पर कि क्या सरकार चिकित्सा योजना से एचसीक्यू को एक एहतियाती दवा के रूप में निकालने की योजना बना रही है।

इसे भी पढ़ें : 

आखिरकार चीन को मिली सफलता, पहले कोविड-19 टीके की मानव शरीर पर की सफल टेस्टिंग​

भारत में तेजी से बढ़ रहा कोरोना, अपने नागरिकों को वापस बुलाएगा चीन

Advertisement
Back to Top