40 करोड़ की लागत से लंदन में बनेगा पुरी के जगन्नाथ सा मंदिर, 2024 तक पूरा होगा प्रोजेक्ट

Puri Jagannath Temple to be built in London at a cost of Rs 40 crore - Sakshi Samachar

दुनियाभर के जगन्नाथ भक्तों को जोड़ा जा रहा

10 से 12 एकड़ में बनेगा जगन्नाथ मंदिर

कई देशों में हैं भगवान जगन्नाथ के मंदिर

देश ही नहीं, पूरी दुनिया में भारत के लोग फैले हुए हैं। उनके साथ ही विस्तार पा रहा है भारतीय धार्मिक और सांस्कृतिक परंपरा भी। इसी क्रम में अब एक और मंदिर का निर्माण शुरू किया जा रहा है। यह मंदिर पुरी के जगन्नाथ मंदिर की तर्ज पर ब्रिटेन में बनाया जा रहा है। मंदिर की लागत तकरीबन 40 करोड़ रुपये तक होने का अनुमान लगाया गया है। इस मंदिर की और क्या क्या खासियत होगी, आइए जानें।

दुनियाभर के जगन्नाथ भक्तों को जोड़ा जा रहा

ओडिया सोसाइटी ऑफ यूके लंदन में भगवान जगन्नाथ का एक मंदिर बना रही है। ये मंदिर हू-ब-हू उड़ीसा के जगन्नाथ मंदिर की तरह ही होगा। जगन्नाथ पुरी सनातन परंपरा के चार धामों में से एक है। शंकराचार्य द्वारा स्थापित चार पीठों में से एक गोवर्धन मठ यहां है। मंदिर के लिए ट्रस्ट बनाकर दुनियाभर के जगन्नाथ भक्तों को जोड़ा जा रहा है।

करीब 40 करोड़ रुपये में तैयार होगा मंदिर

मंदिर की लागत करीब 4 मिलियन पाउंड (करीब 40 करोड़ रुपये) है, जो दान के जरिए ही जुटाए जाएंगे। फिलहाल ग्रेटर लंदन में इसके लिए जमीन खोजी जा रही है। हाल ही में, ओडिया सोसाइटी ऑफ यूके ने अपने सालाना समारोह में इसका फैसला किया है। मंदिर का डिजाइन पुरी मंदिर की तरह ही होगा।

सोसाइटी सदस्यों ने शुरुआती खर्चों के लिए ब्रिटेन में रह रहे लोगों को ही जोड़कर इकट्ठा किया है। सोसाइटी की योजना है कि मंदिर निर्माण के लिए बनाए जा रहे ट्रस्ट में पूरी दुनिया के ओडिया लोग और भगवान जगन्नाथ के भक्त शामिल हों।

10 से 12 एकड़ में बनेगा मंदिर

ग्रेटर लंदन में सोसाइटी द्वारा 10 से 12 एकड़ जमीन तलाशी जा रही है। जिसमें मंदिर का मूल स्वरूप तो होगा ही, साथ ही ओडिया कल्चर से जुड़ी चीजें भी होंगी। इस बारे में सोसाइटी ने पुरी शंकराचार्य जगतगुरु स्वामी निश्चलानंद सरस्वती से भी मार्गदर्शन लिया है। वीडियो कांफ्रेंस के जरिए यूके सोसाइटी ने शंकराचार्य से चर्चा की और मंदिर निर्माण पर उनसे सलाह भी ली है।

2024 तक पूरा हो जाएगा प्रोजेक्ट

सोसाइटी की योजना है कि मंदिर का निर्माण जल्द शुरू हो और 2024 तक इसे किसी भी सूरत में पूरा कर लिया जाए। हालांकि, लंदन में पहले से एक जगन्नाथ मंदिर है लेकिन वो छोटा है और अब सोसाइटी उड़ीसा की परंपराओं को, जिन्हें जगन्नाथ कल्चर कहा जाता है, उन्हें दुनियाभर में फैलाना चाहती है। इसे सिर्फ मंदिर की तरह नहीं, ​बल्कि ओडिया सभ्यता के केंद्र की तरह तैयार किया जाएगा।

ब्रिटेन में 200 से ज्यादा मंदिर

ब्रिटेन दुनिया के उन चंद देशों में से है, जहां सबसे ज्यादा हिंदू मंदिर हैं। इस समय ब्रिटेन में मौजूद हिंदू मंदिरों की संख्या 210 के आसपास है। ग्रेटर लंदन जहां जगन्नाथ मंदिर बनाने का प्रस्ताव है, उसमें भी करीब 35 मंदिर हैं। इस्कॉन स्वामीनारायण संप्रदाय, रामकृष्ण मिशन सहित कई बड़े समूहों ने यहां मंदिर बनाए हैं।

कई देशों में हैं भगवान जगन्नाथ के मंदिर

अकेले भारत में ही नहीं, भगवान जगन्नाथ के दुनियाभर में कई मंदिर हैं। भारत के बाहर सबसे पुराना जगन्नाथ मंदिर बांग्लादेश में है। यहां कोमिला में 16वीं शताब्दी का जगन्नाथ मंदिर है। इसके अलावा पाकिस्तान के सियालकोट में 2007 में एक मंदिर बनाया गया था। इनके साथ ही आस्ट्रेलिया, इटली, लंदन, सेन फ्रांसिस्को, शिकागो, मास्को और मॉरिशस में भी भगवान जगन्नाथ के मंदिर हैं। जहां रथयात्राएं भी निकाली जाती हैं।

Advertisement
Back to Top