आखिरकार चीन को मिली सफलता, पहले कोविड-19 टीके की मानव शरीर पर की सफल टेस्टिंग

China Successful Testing of Covid-19 Vaccine on human body - Sakshi Samachar

टीके का परीक्षण 108 वयस्कों के बीच किया गया

यह टीका संक्रमण की प्रभावी रोकथाम कर सकेगा या नहीं, संशय बरकरार

विश्व में कोविड-19 की रोकथाम के लिए 120 से अधिक टीकों पर चल रहा रिसर्च

बीजिंग : चीनी अनुसंधान टीम ने कोविड-19 टीके का मानव पर परीक्षण किया है। इस बात की जानकारी चीनी अनुसंधान टीम ने ब्रिटिश चिकित्सा पत्रिका द लासेंट को दी है। पहले चरण के क्लिनिकल परीक्षण परिणाम से जाहिर है कि यह टीका सुरक्षित है। 

चीनी विज्ञान अकादमी के सदस्य रो त्सी ह ने बताया कि निसंदेह चीनी वैज्ञानिकों के अध्ययन कार्य ने कोविड-19 महामारी के अंतरराष्ट्रीय मुकाबले के लिए अहम वैज्ञानिक प्रमाण प्रदान किये हैं।

द लासेंट पर जारी इस टीके का परीक्षण 108 वयस्कों के बीच किया गया। पहले चरण के परीक्षण से पता चला है कि यह टीका सुरक्षित है और इस की अच्छी सहनशीलता है, लेकिन अधिक अध्ययन की जरूरत है कि क्या यह टीका कोविड-19 संक्रमण की प्रभावी रोकथाम कर सकेगा या नहीं।

द लासेंट के मुख्य संपादक रिचोर्ड होर्टन ने सोशल मीडिया पर इस खबर को शेयर किया और इस परीक्षण के परिणाम को मील का पत्थर बताया। विश्व स्वास्थ्य संगठन के अनुसार अब विश्व में कोविड-19 की रोकथाम के लिए 120 से अधिक टीकों का अनुसंधान चल रहा है, जिन में से कुछ का क्लिनिकल आकलन किया जा रहा है ।

अमेरिका में भी दवा का मनुष्यों में परीक्षण शुरू

चीन के बाद अमेरिका की एक बायोटेक्नोलॉजी कंपनी ने ऑस्ट्रेलिया में कोरोना वायरस संक्रमण की दवा का मनुष्यों में परीक्षण शुरू करने की घोषणा की और इस महामारी की इसी वर्ष दवा आने की उम्मीद जताई है। बायोटेक्नोलॉजी कंपनी ‘ नोवावैक्स ' के प्रमुख शोधकर्ता डॉ. ग्रिगोरी ग्लेन ने बताया कि कंपनी ने पहले चरण का परीक्षण शुरू कर दिया है जिसमें मेल्बर्न और ब्रिस्बेन शहरों के 131 स्वयंसेवियों पर दवा का परीक्षण किया जाएगा। 

यह भी पढ़ें : 

भारत में तेजी से बढ़ रहा कोरोना, अपने नागरिकों को वापस बुलाएगा चीन

कोरोना के बढ़ते मामलों के बीच राहत की खबर, नए केस में आई कमी

ग्लेन ने ‘नोवावैक्स' के मैरीलैंड स्थित मुख्यालय से ऑनलाइन प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा,‘‘हम दवा और टीकों का साथ-साथ यह सोच कर निर्माण कर रहे है कि हम दिखा पाएंगे कि यह कारगर है और वर्ष के अंत तक इसे लोगों के लिए उपलब्ध करा सकेंगे।'' 

गौरतलब है कि चीन , अमेरिका और यूरोप में करीब दर्जन भर प्रायोगिक दवाएं परीक्षण के प्रारंभिक चरण हैं अथवा उनका परीक्षण शुरू होने वाला है। अभी यह स्पष्ट नहीं है कि इनमें से कोई भी दवा सुरक्षित और कारगर साबित होगी भी या नहीं लेकिन कई दवाएं अलग-अलग तरीकों से काम करती हैं और भिन्न तकनीकों से बनाई गई हैं, इससे इस बात की उम्मीद बढ़ी है कि इनमें से कोई दवा सफल हो सकती हैं।

Advertisement
Back to Top