लंदन कोर्ट में नहीं चल पाए माल्या के तर्क, जानिये इस CBI ऑफिसर ने कैसे आसान की प्रत्यर्पण की राह ?

cbi officer suman kumar playing important role in Vijay Malya case  - Sakshi Samachar

सीबीआ ऑफिसर ने आसान बनाई राह

जल्द होगा विजय माल्या का प्रत्यर्प

9 हजार करोड़ के घोटाले का आरोपी है माल्या

नई दिल्ली: भगोड़े विजय माल्या को प्रत्यर्पण मामले में बड़ा झटका लगा है । लंदन कोर्ट ने उसकी प्रत्यर्पण के खिलाफ अपील की अनुमति को खारिज कर दिया है। इस पूरे मामले में सीबीआई अधिकारी सुमन कुमार की भूमिका बेहद अहम रही है। करीब तीन साल तक इस केस की जांच, और कई बार की उनकी लंदन की यात्राओं के बाद उनकी मेहनत रंग लाई है । अब माल्या के प्रत्यर्पण की प्रक्रिया 28 दिन के अंदर पूरी करनी होगी । 

आपको विजय माल्या के प्रत्यर्पण का ये मामला IDBI बैंक से 9  हजार करोड़ रुपये की कथित धोखाधड़ी से जुड़ा हुआ है । CBI अधिकारी सुमन कुमार को अक्टूबर 2015 में माल्या के खिलाफ जांच की जिम्मेदारी सौंपी गयी थी । सुमन कुमार फिलहाल सीबीआई में अतिरिक्त पुलिस अधीक्षक के पद पर तैनात  हैं ।

आपको बतादें कि गंभीर आरोपों के बाद भी कर्ज देने वाले बैंकों  ने माल्या के खिलाफ मामला दर्ज नहीं कराया,  तब CBI को इस मामले में मुश्किलो का सामना करना पड़ा । जिसके बाद सीबीआई ने अपने सूत्रों का इस्तेमाल कर माल्या के खिलाफ 9 हजार करोड़ का मामला दर्ज किया, और इस मामले की जिम्मेदारी सुमन कुमार को सौंपी गयी । जिसके बाद सुमन कुमार ने माल्या के खिलाफ ठोस मामला तैयार किया और माल्या के खिलाफ चार्ज शीट तैयार की गयी ।

यहां इस बात पर विशेष ध्यान देना था कि माल्या के खिलाफ एसे सुबूत तैयार किये जाएं जो ब्रिटेन के कानून के तहत दंडनीय अपराध की श्रेणी में आते हों । सीबीआई अधिकारी सुमन कुमार ने इन्ही बातों को ध्यान में रखते हुए केस तैयार किया । 

इसे भी पढ़ें 

लॉकडाउन-4 में राहत के आसार, कुछ जगहों पर प्लेन और बस सेवा शुरू होने के संकेत

सुमन कुमार ने अपनी जांच के बलबूते  इस कथित धोखाधड़ी और मनी लॉन्डरिंग मामले के रूप में तैयार कर कामयाबी प्राप्त की, उन्होने अपनी जांच में जो भी निष्कर्ष निकाले उससे भारत को माल्या के प्रत्यर्पण मामले में तर्क सामने रखने में सफलता मिली । उम्मीद की जानी चाहिये कि विजय माल्या का बहुत जल्द ही प्रत्यर्पण होगा । 
 

Advertisement
Back to Top