जानिए, 60 साल के बेरोजगार ने ऐसा क्या किया कि रातों-रात उनके सामने नौकरियों की लाइन लग गई..?

60 Years old Unemployed Paul suddenly started getting many offers for Jobs, Know why? - Sakshi Samachar

60 की उम्र में साबित की फिटनेस

कई देशों में नौकरी के लिए किया था आवेदन

लिंक्डइन पर वीडियो किया था पोस्ट

कहते हैं कुछ कर गुजरने का जज्बा हो तो उम्र आपके लिए बस एक नंबर के सिवाय और कुछ भी नहीं होगा। फिर तो आप किसी भी उम्र में कुछ भी हासिल कर सकते हैं। कुछ ऐसा ही कर दिखाया है, स्कॉटलैंड में जन्मे 60 साल के पॉल मार्क्स ने।

बढ़ती उम्र और लॉकडाउन ने छीन ली थी नौकरी

लॉकडाउन के दौरान मार्क्स की नौकरी चली गई थी और बढ़ती उम्र की वजह से उन्हें कहीं काम भी नहीं मिल रहा था, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी और कुछ ऐसा किया, जिसे देखकर लोग दांतों तले उंगलियां दबाने को मजबूर हो गए। इतना ही नहीं, उनका यह कारनामा पूरी दुनिया ने अपनी आंखों से देखा और देखते देखते हर किसी की जुबान उनकी तारीफ करने को मजबूर हो गई।

60 की उम्र में साबित की फिटनेस

दरअसल, पॉल ने किया भी कुछ ऐसा ही था। 60 साल की उम्र में वह कितने फिट हैं, यह साबित करने लिए उन्होंने सोशल मीडिया पर अपना एक वीडियो शेयर किया, जिसमें वह पुशअप करते हुए दिख रहे हैं। उनका यह वीडियो कम ही समय में वायरल हो गया। खुद को साबित करने का उनका यह अंदाज लोगों को इतना भाया कि उनके पास नौकरियों की लाइन लग गई।

कई देशों में नौकरी के लिए किया था आवेदन

इंग्लैंड के लंकाशायर के रहने वाले पॉल मार्क्स पांच महीने पहले तक दुबई के क्रियोल ग्रुप में मुख्य संचालन प्रबंधक के पद पर काम कर रहे थे, लेकिन लॉकडाउन में कंपनी ने उन्हें नौकरी से निकाल दिया। इसके बाद मार्क्स ने भारत, यूएई, ब्रिटेन और स्पेन जैसे देशों में नौकरी के लिए आवेदन दिया, लेकिन उम्र के चलते उन्हें कहीं काम नहीं मिला।

लिंक्डइन पर वीडियो किया था पोस्ट

पॉल मार्क्स को यह साबित करना था कि वो 60 की उम्र में भी पूरी तरह से फिट हैं। फिर उन्होंने लिंक्डइन पर एक वीडियो पोस्ट किया, जिसमें वो सूट-बूट पहनकर पुशअप लगा रहे हैं। इस वीडियो के वायरल होते ही उनके पास ढेरों नौकरी के ऑफर आने लगे।

जरूरी नहीं टीवी देखकर ही दिन गुजारूं

मार्क्स रोज का कहना है कि वो रोज 50 पुशअप और हफ्ते में 30 किलोमीटर दौड़ते हैं। उनका मानना है कि उम्र कभी काबिलियत या उत्पादकता का पैमाना नहीं हो सकती है और यह जरूरी नहीं कि 60 पार हर व्यक्ति अखबार पढ़कर या टीवी देखकर ही अपना दिन गुजारे।

लिंक्डइन पर मार्क्स के इस वीडियो को कई लाख लोग देख चुके हैं। कई नियोक्ताओं ने उन्हें जॉब की पेशकश भी की है, जबकि वीडियो डालने से पहले 50 से ज्यादा कंपनियों ने उनका सीवी ठुकरा दिया था।

Advertisement
Back to Top