भारतीय नागरिकों ने एच-1बी वीजा पर ट्रंप सरकार के आदेश के खिलाफ मुकदमा ठोका

174 Indians in US file lawsuit against Trump's proclamation on H-1B visa - Sakshi Samachar

एच-1बी वीजा पर ट्रंप सरकार के आदेश के खिलाफ भारतीय गोलबंद

एच-1बी वीजा पर आदेश के लिए कोर्ट का खटखटाया दरवाजा

वाशिंगटन: एच-1बी वीजा पर हाल में आए एक शासकीय आदेश के खिलाफ सात नाबालिगों समेत 174 भारतीय नागरिकों के एक समूह ने मुकदमा दायर किया है। इस आदेश के तहत उनके अमेरिका में प्रवेश पर रोक लग सकती है अथवा उन्हें वीजा जारी नहीं किया जाएगा। डिस्ट्रिक्ट ऑफ कोलंबिया में अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट अदालत के न्यायाधीश केतनजी ब्राउन जैक्सन ने बुधवार को विदेश मंत्री माइक पोम्पिओ और होमलैंड सुरक्षा विभाग के कार्यकारी मंत्री चाड एफ वोल्फ के साथ श्रम मंत्री युजिन स्कालिया को सम्मन जारी किए। यह मुकदमा मंगलवार को अमेरिकी डिस्ट्रिक्ट अदालत में दायर किया गया। 

वकील वास्डेन बैनियास ने 174 भारतीय नागरिकों की ओर से दायर मुकदमे में कहा, ‘‘एच-1बी/एच-4 वीजा पर प्रतिबंध का शासकीय आदेश अमेरिका की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाता है, परिवारों को अलग करता है और कांग्रेस को खारिज करता है।'' इस मुकदमे में एच-1बी या एच-4 वीजा जारी करने पर पाबंदी लगाने या नए एच-1बी वीजा धारकों को देश में प्रवेश करने से रोकने वाले शासकीय आदेश को गैरकानूनी घोषित करने की मांग की गई है। साथ ही अदालत से अनुरोध किया गया है कि वह विदेश विभाग को एच-1बी और एच-4 वीजा के लिए लंबित अनुरोधों पर फैसले देने के लिए निर्देश जारी करे। गौरतलब है कि ट्रंप ने 22 जून को शासकीय आदेश जारी कर इस साल के अंत तक एच-1बी कार्य वीजा जारी करने पर अस्थायी रोक लगा दी। 

क्या होता है एच-1बी वीजा?

भारत से बड़ी संख्या में प्रोफेशनल्स एच1बी वीजा पर ही अमेरिका में लंबे समय तक काम कर रहे हैं। एच1बी वीजा अमेरिका में कारोबार करने वाली कंपनियों के विदेशी कामगारों को देश में रहने की अनुमति देता है। ट्रंप सरकार के एच1बी वीजा के खिलाफ आदेश सबसे अधिक भारतीयों को ही प्रभावित करेगी। भारत से बड़ी संख्या में आईटी प्रफेशनल्स एच1बी वीजा के साथ अमेरिका में नौकरी करने जाते हैं। 

एच1बी वीजा के लिए क्या है योग्यता?

H1B वीजा हर किसी को नहीं मिलता और न ही कोई इसके लिए व्यक्तिगत तौर पर आवेदन ही कर सकता है। अगर आपके पास बैचलर डिग्री है और वो भी अमेरिकी या किसी अन्य विदेशी यूनिवर्सिटी की, साथ ही 12 साल काम का अनुभव और अमेरिकी कंपनी से ऑफर लेटर है। तभी आप एच1बी वीजा के हकदार होंगे। आपके लिए कंपनी ही एच1बी वीजा के लिए आवेदन करती है। कंपनी को ये साबित करना होता है कि जिस काम के लिए एच1बी वीजा के लिए आवेदन किया जा रहा है। वो काम अमुक खास आदमी ही कर सकता है। 

कितने सालों के लिए मिलता है एच1बी वीजा 

H1B वीजा 3 सालों के लिए आम तौर पर दिया जाता है। हालांकि इसकी अधिकतम समयसीमा 6 साल तक हो सकती है। H1B वीजा खत्म होने के बाद आवेदक अमेरिकी नागरिकता के लिए अप्लाय कर सकता है। हालांकि इससे पहले ग्रीन कार्ड हासिल करने की प्रक्रिया पूरी करनी होती है। अगर H1B वीजा खत्म हुआ और आपको ग्रीन कार्ड नहीं मिलता है तो अमेरिका से कम से कम एक साल के लिए बाहर होना पड़ेगा। सालभर बाद लौटने पर फिर से H1B वीजा के लिए आवेदन किया जा सकता है। 

H1B वीजा के फायदे

अगर किसी शख्स को H1B वीजा मिल जाता है तो वो अपने ही वीजा पर पत्नी और बच्चों को भी अमेरिका में रख सकता है। H1B वीजा हासिल करने के बाद ही अमेरिका की स्थाई नागरिकता के लिए आवेदन किया जा सकता है। 
 

Advertisement
Back to Top