Indo-China Dispute: अब पांचवें दौर की सैन्य वार्ता आयोजित करेंगे भारत-चीन

Now Fifth Round of Military Talk will organise on Indo-China Dispute - Sakshi Samachar

नई दिल्ली : भारतीय और चीनी सैन्य प्रतिनिधियों के बीच चल रही असहमति पर चर्चा करने के लिए पांचवें दौर की वार्ता रविवार को मोल्दो में होने वाली है। गौरतलब है कि बीजिंग ने 3,488 किलोमीटर लंबी वास्तविक नियंत्रण रेखा (एलएसी) की गहराई वाले क्षेत्रों में सैन्य टुकड़ियां बढ़ाने के साथ ही अन्य सामग्रियों की आपूर्ति शुरू कर दी है।

चीनी पक्ष ने एलएसी, पश्चिमी (लद्दाख), मध्य (उत्तराखंड, हिमाचल प्रदेश) और पूर्वी (सिक्किम, अरुणाचल) के तीन क्षेत्रों में सेना, तोपखाने और कवच का निर्माण शुरू कर दिया है। चीन ने उत्तराखंड के लिपुलेख दर्रा के पास भी सैनिकों को जुटाया है। भारत, नेपाल और चीन के बीच एक त्रिकोणीय जंक्शन लिपुलेख दर्रा, कालापानी घाटी में स्थित है।

14 कॉर्प्स कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल हरिंदर सिंह और दक्षिण शिनजियांग डिस्ट्रिक्ट प्रमुख मेजर जनरल लियू लिन के बीच कोर कमांडर स्तर की वार्ता का पांचवां दौर सुबह 11 बजे शुरू होगा। वे पैंगोंग झील और गोगरा में मौजूदा स्थिति पर विचार-विमर्श करेंगे।

पैंगोंग झील में चीन ने फिंगर 5 और 8 के बीच अपनी स्थिति मजबूत कर ली है और भारत को बहुत सख्ती से इस कदम को उठाना है। भारत ने लद्दाख में 35,000 से अधिक सैनिकों को तैनात किया है। चीन 14 जुलाई को कोर कमांडर स्तर की बैठक के दौरान निकाले गए पुलबैक रोडमैप का पालन नहीं कर रहा है। अब तक मोल्दो (चीन) में दो दौर के विचार-विमर्श और दो दौर की वार्ता चुशुल (भारत) में हुए हैं।
-आईएएनएस

Advertisement
Back to Top