कोरोना से निपटने में डोनाल्ड ट्रंप की नीति से 60 फीसदी अमेरिकी नहीं है खुश

 60 Percent of Americans not  Happy with Trump over Dealing Coronavirus Outbreak - Sakshi Samachar

52 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने ट्रंप के संकट से निपटने के तरीके को अस्वीकार कर दिया

राष्ट्रपति की कोविड-19 को लेकर प्रतिक्रिया को 'निराशाजनक'

वाशिंगटन : अमेरिका के 60 फीसदी लोगों ने राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की अमेरिका में कोविड-19 महामारी को संभालने के तरीके को अस्वीकार कर दिया है। गौरतलब है कि दुनिया के सबसे अधिक मामलों और मौतों के साथ देश शीर्ष पर है।समाचार एजेंसी सिन्हुआ की रिपोर्ट के अनुसार, वाशिंगटन पोस्ट-एबीसी न्यूज पोल में 12 और 15 जुलाई के बीच एकत्र किए गए आंकड़ों में नजर आए 60 प्रतिशत अस्विकृति को शुक्रवार को जारी किया गया, जिसमें मार्च के बाद से 15 प्रतिशत अंकों में वृद्धि हुई है।

नवीनतम सर्वेक्षण में 52 प्रतिशत उत्तरदाताओं ने ट्रंप के संकट से निपटने के तरीके को अस्वीकार कर दिया है, जिसमें मई से 9 प्रतिशत अंकों की और मार्च के बाद से 16 अंकों की वृद्धि दर्ज की गई है। वहीं, जिन लोगों ने महामारी से निपटने के ट्रंप के तरीकों को मंजूरी दी थी, वह अब मार्च के 51 फीसदी और मई के 46 फीसदी से गिर 38 प्रतिशत हो गए हैं।
इसके अलावा वायरस के प्रसार को नियंत्रित करने पर विचार करने वाले उत्तरदाताओं का अनुपात उन उत्तरदाताओं के 33 प्रतिशत अनुपात के दोगुना यानी 63 प्रतिशत हो गया है, जो मानते थे कि अर्थव्यवस्था को फिर से शुरू करना आवश्यक है।


इस सर्वेक्षण में करीब 1,006 वयस्कों के सैंपल लिए गए हैं। सर्वेक्षण के ये सैंपल तब लिए गए हैं, जब वर्तमान और पूर्व प्रशासन के अधिकारियों द्वारा महामारी को रोकने में असफल रहे ट्रंप की कड़ी आलोचना की गई । एक रिपब्लिकन मैरीलैंड गवर्नर लैरी होगन ने गुरुवार को द वाशिंगटन पोस्ट के लिए एक लेख लिखा, जिसमें राष्ट्रपति की कोविड-19 को लेकर प्रतिक्रिया को 'निराशाजनक' बताया।

इसे भी पढ़ें : 

ट्रंप की अप्रूवल रेटिंग में भारी गिरावट : सर्वे
होगन ने कहा, "मैं यह देख रही थी कि राष्ट्रपति ने प्रकोप की गंभीरता को कितने हल्के में लिया और व्हाइट हाउस सार्वजनिक चेतावनी जारी करने में विफल रहा है। साथ ही 50-राज्य की रणनीति तैयार करने, या मेडिकल स्टॉक या नेशनल स्टॉकपाइल से वेंटिलेटर को अमेरिकी अस्पतालों में भेजने में असफल रहा है।"

उन्होंने आगे कहा, "आखिरकार, यह स्पष्ट हो गया कि राष्ट्र को लेकर किए गए उपाय, प्रतिक्रिया के लिए राष्ट्रपति का इंतजार करना निराशाजनक था; यदि हम और देरी करते हैं, तो हम अपने और नागरिकों को पीड़ा और मृत्यु से खो देंगे।

Advertisement
Back to Top