चैत्र नवरात्रि 2020 : इन नौ दिनों में यूं राशि अनुसार मां दुर्गा को फूल चढ़ाएं और मनोवांछित फल पाएं

 Navratri offer flower to devi durga according zodiac signs - Sakshi Samachar

नवरात्रि के नौ दिन बेहद महत्वपूर्ण होते हैं 

इन नौ दिनों की पूजा से मां प्रसन्न होती है

राशि अनुसार फूल चढ़ाएं और शुभ फल पाएं  

चैत्र नवरात्रि शुरू हो चुकी है और इन नौ दिनों में मां दुर्गा के नौ अलग-अलग रूपों की विशेष पूजा की जाती है। घर में कलश स्थापना की जाती है, अखंड दीप जलाया जाता है। नौ दिनों तक व्रत भी रखा जाता है ताकि मां प्रसन्न हो और हमारे संकट हरने के साथ ही हमें सुख-समृद्धि का वरदान दे।

हमारे जीवन में ज्योतिष व ग्रहों की भी मुख्य भूमिका होती है इसीलिए तो शास्त्र कहते हैं कि ग्रहाः राज्यं प्रयच्छन्ति, ग्रहाः राज्यं हरन्ति च। अर्थात ग्रह अनुकूल हों तो आपको राज्य दे सकते हैं और प्रतिकूल हों तो आपके राज्य का हरण भी कर सकते हैं।

हम अगर जीवन में आगे बढ़ना चाहें तो इसके लिए ग्रहों की अनुकूलता जरूरी है। यह तो हम जानते ही हैं कि माँ दुर्गा जी की तपस्या करके ग्रहों को शक्तियां प्राप्त होती हैं तो यदि आप भी इस नवरात्रि में उन्हीं माँ पर ग्रहों एवं उनकी राशियों के अनुसार पुष्प से पूजन अर्चन करें तो आपके ऊपर ग्रहों की अनुकूलता और भी बढ़ जायेगी। 

सभी राशियों के लिए अलग-अलग रंग के फूल बताए गए हैं जिससे वे नवरात्रि में माँ दुर्गा की पूजा अपने ग्रहों एवं राशि के अनुसार बताए गए फूलों से करके अपने मनोरथ पूर्ण कर सकते हैं। 
 
तो आइये यहां जानते हैं आपकी राशि के लिए कौन सा फूल शुभ
है जिसे आपको मां दुर्गा को चढ़ाना चाहिए ...

मेष - गुड़हल, गुलाब, लाल कनेर, लाल कमल अथवा किसी भी तरह के लाल पुष्प से आप पूजा करके मां भगवती को प्रसन्न कर मंगल जनित दोषों के कुप्रभाव से बच सकते हैं।

वृषभ- आपको श्वेत कमल, गुडहल, श्वेत कनेर, सदाबहार, बेला, हरसिंगार आदि जितने भी श्वेत प्रजाति के पुष्प हैं उनसे माँ की आराधना करना चाहिए। ऐसा करने से मां प्रसन्न होंगी। साथ ही ऐसा करने से शुक्र की शुभता में वृद्धि भी होगी।

मिथुन- इस राशि के जातक मां की पूजा पीला कनेर, गुडहल, गेंदा और केवड़ा जैसे फूलों से करके अभीष्ट कार्य सिद्ध भी कर सकते हैं और बुध की कृपा भी प्राप्त कर सकते हैं।

कर्क - आप श्वेत कमल, श्वेत कनेर, गेंदा, गुडहल, सदाबहार, चमेली रातरानी और अन्य जितने भी प्रकार के श्वेत और गुलाबी पुष्प हैं उन्हीं से माँ की आराधना करें। ऐसा करने से मां तो  प्रसन्न होंगी ही साथ ही आप चन्द्रजनित दोषों से भी मुक्त हो जाएंगे।

सिंह- इस राशि के जातक किसी भी तरह के पुष्प जैसे कमल, गुलाब, कनेर, गुड़हल से माँ की पूजा करके कृपा पा सकते हैं, गुड़हल का पुष्प सूर्य और माँ दुर्गा को अति प्रिय है।

कन्या - गुड़हल, गुलाब, गेंदा, हरसिंगार एवं किसी भी तरह के अति सुगंधित पुष्पों से मां दुर्गा की आराधना करके आप अपने मनोरथ पूर्ण करके बुध के साथ-साथ अन्य ग्रहों की अनुकूलता भी पा सकते हैं।

तुला - आप श्वेत कमल श्वेत, कनेर, गेंदा, गुड़हल, जूही, हरसिंगार, सदाबहार, केवड़ा, बेला चमेली आधी पुष्पों से माँ भगवती की आराधना करके उनकी अनुकूलता और शुक्र की कृपा पा सकते हैं।

वृश्चिक- आप किसी भी प्रजाति के लाल पुष्प, पीले पुष्प, एवं गुलाबी पुष्प से पूजा करके मां दुर्गा की कृपा पा सकते हैं। लाल कमल से पूजा कर पाएं तो घर परिवार में समृद्धि तो बढ़ेगी ही मंगल की कृपा भी प्राप्त होगी।

धनु- कमल पुष्प, कनेर, गुड़हल, गुलाब, गेंदा, केवडा, और कनेर की सभी प्रजातियां के पुष्पों से माँ का पूजन-अर्चन करके माँ का आशीर्वाद एवं बृहस्पति की भी और अधिक शुभता प्राप्त की जा सकती है।

मकर- इस राशि के जातक नीले पुष्प, कमल, गेंदा, गुलाब, गुड़हल आदि से माँ शक्ति की पूजा-आराधना करके माँ की कृपादृष्टि एवं शनिजनित दुष्प्रभावों से बचते हुए ईष्ट कामयाबी हासिल कर सकते हैं।

कुंभ- आप नीले पुष्प, गेंदा, सभी प्रकार के कमल, गुड़हल, बेला, चमेली, रातरानी, आदि से माँ भगवती की आराधना करके उनकी कृपा और शनिग्रह के दोष से मुक्त होते हुए मनोरथ भी पूर्ण कर  सकते हैं।

मीन- पीले कनेर की सभी प्रजातियां, सभी प्रकार के कमल, गेंदा, गुलाब, गुड़हल की सभी प्रजातियों से पूजा करके आप माँ की कृपा प्राप्त करते हुए बृहस्पति जन्य दोषों से भी मुक्त हो सकते हैं।

इसे भी पढ़ें : 

चैत्र नवरात्रि 2020 : जानें व्रत रखने का महत्व और लाभ, देवताओं ने भी रखा था उपवास

चैत्र नवरात्रि 2020 : इन नौ दिनों में यूं राशि अनुसार पूजा करें और मनचाहा फल पाएं

Advertisement
Back to Top