बुध ग्रह वृषभ से मिथुन राशि में करेंगे प्रवेश, सभी बारह राशियों पर होगा कुछ ऐसा असर

mercury transit effect on 12 zodiac signs  - Sakshi Samachar

25 मई, सोमवार को होगा बुध का राशि परिवर्तन 

बुध के राशि परिवर्तन का 12 राशियों पर असर

बुध ग्रह राशि परिवर्तन करने वाले हैं। 25 मई, सोमवार को बुध का राशि परिवर्तन होने जा रहा है। इस दिन बुध वृष राशि से मिथुन राशि में प्रवेश कर जाएंगे। 18 जून को ये ग्रह वक्री होगा और 12 जुलाई को फिर से मार्गी हो जाएगा। 1 अगस्त को बुध कर्क राशि में जाएगा। 
मिथुन बुध के स्वामित्व वाली राशि है इसीलिए मिथुन राशि के लोगों को बुध की वजह से विशेष लाभ मिलेगा। ये ग्रह मिथुन और कन्या राशि का स्वामी है।
बुध को ज्योतिष शास्त्र में राजकुमार की पदवी हासिल है। वाणी आधारित कार्यों से सम्बन्धित व्यक्तियों जैसे पत्रकारिता, शिक्षा, धर्मगुरुओं, राजनेता आदि के लिए बुध का गोचर विशेष प्रभाव देने वाला होता है।

बुध के मिथुन राशि में गोचर से सभी राशियों पर इसका शुभ- अशुभ प्रभाव पड़ेगा। कुछ राशियां ऐसी हैं, जिनको बुध के राशि परिर्वतन से फायदा मिलने जा रहा है। 

आइये यहां जानते हैं सभी 12 राशियों पर बुध के राशि परिवर्तन का कैसा असर होने वाला है...

मेष - आपके लिए तृतीय बुध लाभ दिलाने वाला रहेगा। लाभ के नए योग बनेंगे। बाधाएं दूर होंगी। साथियों का सहयोग मिलेगा। आपके साहस और पराक्रम में वृद्धि होगी।
छोटे भाई-बहनों के साथ रिश्ते बेहतर होंगे। 

वृष - इस राशि के लिए बुध द्वितीय रहेगा। आपके लिए पक्ष का समय रहेगा। पुरानी समस्याओं का निदान रहेगा। धन संबंधी कामों में मजबूती मिलेगी।
बुध का गोचर आपकी संवाद शैली को मजबूत करेगा।इस समय आप अपने धन की बचत कर पाने में कामयाब हो सकते हैं।

मिथुन - इस राशि के लिए बुध विशेष लाभ देने वाला रहेगा। तरक्की मिल सकती है। धन लाभ मिलने के योग बनेंगे।यहां बुध के साथ सूर्य समाज में आपको मान-सम्मान और पद-प्रतिष्ठा दिलाएगा। आपको शुभ समाचार प्राप्त हो सकता है।

कर्क - आपके लिए द्वादश बुध बाधाओं को बढ़ाने वाला रहेगा। सतर्क रहकर काम करना होगा। धन संबंधी कामों में धैर्य बनाए रखें। शत्रुओं के कारण हानि होगी। कर्यों असफ़लता प्राप्त होगी। विवाद के कारण अशान्ति रहेगी। 

सिंह - इन लोगों के लिए बुध एकादश हो जाएगा। काम में बढ़ोतरी होगी। करीबी रिश्तेदारों से मुलाकात हो सकती है। कार्य पूरे होंगे।आपकी आय में वृद्धि होगी।
इस दौरान आप कोई शुभ समाचार भी प्राप्त कर सकते हैं।

कन्या - आपके लिए बुध दशम हो रहा है। आत्मविश्वास में बढ़ोतरी होगी। पुराने समय से अटके काम पूरे हो सकते हैं। धन लाभ मिल सकता है। इस दौरान आपको न केवल कार्य क्षेत्र में बल्कि समाज में मान-सम्मान मिलेगा।
कार्यक्षेत्र में आ रही परेशानियां दूर होंगी।

तुला - इस राशि के लिए बुध की नवम स्थिति शुभ रहने वाली है। घर-परिवार में सुख बना रहेगा। धन लाभ मिल से मन प्रसन्न रहेगा।आप समाज कल्याण के कार्य में बढ़कर चढ़कर हिस्सा लेंगे। लोगों के हित में कार्य करने से आपको शांति मिलेगी।

वृश्चिक - इन लोगों के लिए अष्टम बुध परेशानियां बढ़ाने वाला रहेगा। अतिरिक्त सतर्कता रखनी होगी। हानि के योग बन रहे हैं। आलस्य से बचें।

धनु - इस राशि से बुध सप्तम रहेगा। ये लोग जितनी मेहनत करेंगे उतना लाभ प्राप्त कर पाएंगे। कार्य सफल होंगे।
आपके वैवाहिक जीवन में खुशियां आएंगी। अगर आप किसी के साथ साझेदारी में व्यापार कर रहे हैं तो परिस्थितियां आपके अनुकूल नजर नहीं आएंगी।

मकर - आपके लिए षष्ठम बुध शत्रुओं पर विजय दिलाने वाला रहेगा। परिवार में सुखद वातावरण रहेगा। कार्य की अधिकता रहेगी। आर्थिक लाभ होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी।

कुंभ- आपके लिए ये ग्रह पंचम रहेगा। कोई खास काम पूरा हो सकता है। प्रभाव में वृद्धि होगी। धन लाभ मिल सकता है। अटका काम पूरा होने के योग हैं। जीवनसाथी व सन्तान से विवाद होगा। आर्थिक हानि होगी। प्रेम सम्बन्ध असफ़ल होंगे।

मीन- इस राशि के लिए बुध चतुर्थ रहेगा। इस वजह से अनावश्यक चिंताएं बढ़ेंगी। नुकसान की संभवानाएं बनेंगी। विवादों से बचने की कोशिश करें। धन लाभ होगा। वाहन सुख प्राप्त होगा। सम्पत्ति से लाभ की प्राप्ति होगी। पारिवारिक सुख प्राप्त होगा। जन सहयोग मिलेगा।

बुध के अशुभ प्रभाव से बचने के लिए करें ये खास उपाय ...

- बुधवार के दिन बुध का दान करें।
(दान सामग्री- हरा वस्त्र, साबुत मूंग, हरे फ़ल, कांसा,गजदन्त, घी, पन्ना आदि)
- बुधवार के दिन किन्नरों को हरी चूड़ियां दान करें।
- बुधवार के दिन तोते को पिंजरे से मुक्त करें।
- किसी बटुक या विद्यार्थी को धर्मशास्त्र का पढ़ाई हेतु पुस्तक प्रदान करें।
- 250 ग्राम साबुत मूंग बहते जल में प्रवाहित करें।

इसे भी पढ़ें : 

पार्टनर को इस दिन करेंगे प्रपोज तो बन जाएगी बात, आगे बढ़ेगी प्यार की गाड़ी

शनिवार विशेष : जानें क्यों और कैसे हुई शनिदेव की दृष्टि अनिष्टकारी, क्या है इसका रहस्य

Advertisement
Back to Top