कार्तिक पूर्णिमा : आज के दिन करें ये उपाय, बन जाएंगे हर बिगड़े काम

Kartik Purnima 2020 Puja Vidhi - Sakshi Samachar

शास्त्रों में कार्तिक महीने (Kartik Purnima) का विशेष महत्व होता है। यह महीना भगवान के ध्यान, स्नान और दान का महीना माना गया है। कार्तिक महीने के समाप्ति के दिन कुछ ग्रहों का योग भी बन रहा है। कार्तिक पूर्णिमा आज पूरे देश में मनाई जा रही है। इस बार ग्रहों की ऐसी दिशा है कि पूर्णिमा शुभफलदायी मानी जा रही है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन गुरु नानक (Guru Nanak) जयंती भी मनाई जाती है। इसलिए इस दिन का महत्व सिर्फ हिंदुओं के लिए ही नहीं है बल्कि सिखों के लिए भी यह एक पावन दिन है।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन सर्योदय होने से पहले स्नान करके भगवान विष्णु की पूजा करें। नदी या जलकुंड में स्नान करके सूर्य भगवान को जल चढ़ाएं। इस जल में चावल और एक लाल पुष्प भी डाल दें। इस दिन व्रत रखे से विशेष फल मिलता है। साथ ही ब्राह्मणों को दान भी देना चाहिए।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन व्रत रखना बेहद शुभ माना जाता है। धार्मिक मान्यताओं के अनुसार इस दिन व्रत रखने वाले व्यक्ति को हजार अश्वमेध और सौ राजसूय यज्ञ का फल मिलता है। 

कार्तिक पूर्णिमा के दिन व्रत रखना काफी फलदायी है। कहते हैं इस दिन व्रत रखने से हजार अश्वमेध और सौ राजसूय यज्ञ का फल मिलता है। साथ ही घर में आने वाली कलह को दूर रखा जा सकता है। आज के दिन व्रत रखने का पुराणों में भी जिक्र है। 

कार्तिक के महीने में तुलसी पूजन का विशेष महत्व है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी के पास दीपक जरूर जलाएं। कहा जाता है कि अगर आप पूरे महीने तुलसी के पास दीपक नहीं जला सके हैं तो आज के दिन जलाने से पूरे महीने का फल मिल जाता है। इसके अलावा गौ, अश्व और घी आदि का दान करने से संपत्ति में बढ़ोतरी होती है और व्यक्ति को अपनी आर्थिक समस्याओं से मुक्ति मिलती है।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन घर पर सत्यनारायण की कथा करवाना भी बेहद शुभ माना जाता है। इस दिन भगवान विष्णु को खीर और हलवे का भोग लगाना चाहिए। माना जाता है कि ऐसा करने से व्यक्ति की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं और व्यक्ति का जीवन सुखमय रहता है।

कार्तिक मास की पूर्णिमा के दिन सरसों का तेल, तिल, काले वस्त्र किसी जरूरतमंद व्यक्ति को दान कर देने चाहिए। ऐसा करने से आपको पुण्य फल प्राप्त होकर कई क्षेत्रों में सफलता मिलेगी। साथ ही आपकी सामाजिक प्रतिष्ठा में भी वृद्धि होती है। 

Advertisement
Back to Top