कभी अपने लुक के लिए सुनने पड़ते थे ताने, गर्लफ्रेंड की इस एक बात ने बदल दी थी एक्टर की जिंदगी

Pareeksha Actor Aadil Hussain Birthday Special : Know Life Facts About Adil Hussain - Sakshi Samachar

कभी आदिल के दोस्त मारते थे काले रंग को लेकर ताना

अपने लुक को लेकर इनसिक्योर फील करते थे आदिल

18 की उम्र में आदिल ने छोड़ दिया था घर

बॉलीवुड के दिग्गज एक्टर आदिल हुसैन का आज यानी 5 अक्टूबर को बर्थडे है। उनका जन्म असम में हुआ है। उन्होंने अपने करियर की शुरुआत असमिया भाषा की फिल्मों से की थी।  इसके बाद उन्होंने हिंदी सिनेमा की ओर रुख करने का फैसला किया। आदिल हुसैन पहली बार टीवी सीरियल 'जासूस विजय' में नजर आए थे। उनकी पहली बॉलीवुड फिल्म 'कमीने' थी। यह फिल्म साल 2009 में आई थी। यही नहीं वे द रिलक्टेंट फंडामेंटलिस्ट और लाइफ ऑफ पाई (दोनों 2012) जैसी इंटरनेशनल फिल्म में काम किया है। इसके अलावा उन्होंने अंग्रेजी, हिंदी, असमी, बंगाली, तमिल, मराठी, मलयालम और फ्रेंच फिल्मों में भी अपनी एक्टिंग का जलवा बिखेर चुके हैं।

18 साल की उम्र  में छोड़ दिया था घर
असम के गोलपारा में  पले-बढ़े, आदिल के पिता एक पिता एक टीचर थे। हुसैन सात भाई बहनों में सबसे छोटे थे। हुसैन को बचपन से ही एक्टिंग को लेकर लगाव था। इस वजह से  बचपन के दिनों में  स्कूल नाटकों में हिस्सा लेते थे। जब वे 18 साल के हुए तो  गुवाहाटी के बोरुआ कॉलेज में दर्शनशास्त्र की पढ़ाई करने के लिए घर छोड़ दिया। उनका एक्टिंग का प्रेम यहां भी जारी रहा और कॉलेज के नाटकों में  एक स्टैंड-अप कॉमेडियन के रूप में करीब 6 साल तक काम किया। इसके बाद वे दिल्ली चले आए। यहां उन्होंने नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा में पढ़ाई की। इसके बाद उन्होंने ड्रामा स्टूडियो लंदन में भी पढ़ाई की। 

ऐसा हुई फिल्मी करियर की शुरूआत
आदिल लंदन से अपनी पढ़ाई पूर भारत लौटने के बाद, असम के 'हेंगुल थिएटर' के साथ जुड़ गए। यहाँ उन्होंने तीन साल तक काम किया। इसके बाद  उन्होंने दिल्ली में अपने स्टेज करियर की शुरुआत की। उनका यह सिलसिला कुछ सालों तक जारी रहा। साल 2004 में, उन्होंने सोहा अली खान के साथ पीरियड ड्रामा इति श्रीकांता में अपनी बंगाली फ़िल्म की शुरुआत की, जहाँ वे लीड रोल में दिखाई दिए।  आदिल हुसैन पहली बार टीवी सीरियल 'जासूस विजय' में नजर आए थे। उनकी पहली बॉलीवुड फिल्म 'कमीने' थी। यह फिल्म साल 2009 में आई थी। इसके बाद वे विशाल भारद्वाज की कामिनी और सोना जैन की फॉर रियल में एक छोटे रोल में नजर आए।

इसके बाद उन्हें 2010 में आई फिल्म इश्किया में काम करने का मौका मिला। यहीं से लोगों ने आदिल को नोटिस करना शुरू कर दिया। फिर क्या था साल 2012 में सैफ अली खान-करीना कपूर खान अभिनीत एजेंट विनोद में एक लीड एक्टर के रोल का किरदार निभाने का मौका मिला। उसी साल, वे इतालवी निर्देशक इटालो स्पिनेल्ली के गैंगोर, मीरा नायर की द रिलेटेंट फंडामेंटलिस्ट और एंग ली की लाइफ ऑफ पाई में दिखाई दिए। इसके बाद से फिर उन्होने पीछे मुड़कर नहीं देखा और बॉलीवुड की कई शानदार फिल्मों में अपने अभिनय से दर्शकों के दिलों को जीता।

कभी लुक को लेकर दोस्त मारते थे ताना
रिपोर्ट्स की मानें तो आदिल ने अपनी लाइफ को लेकर बड़ा खुलासा कर चुके हैं। आदिल ने एक बार बताया कि जब वे  अपने दोस्तों से कहते थे कि ''मैं एक्टिंग में करियर बनाने की सोच रहा हूं तो वे मुझे ताना मारते थे। वे मुझसे कहते थे, 'अरे तू तो काला है। एक्टिंग कैसे करेगा, तुम्हें कोई फिल्म नहीं देगा।

गर्लफ्रेंड ने समझाया था टीडीएच का मतलब 
आदिल ने बताया कि, 'साल 1986 में असम में मेरी एक गर्लफ्रेंड थी। उसने मुझे कहा था कि मैं 'TDH' हूं। इस पर मैंने उससे पूछा कि ये क्या है? तो उसने कहा 'टॉल, डार्क एंड हैंडसम' मैंने ये पहली बार सुना था और इसे एक कॉम्प्लिमेंट के तौर पर लिया।' और इसकी शुरूआत न्यूयार्क में हुई। तब हर तीसरे दिन लड़कियां मुझे डेट के लिए पूछती थी। इसी वजह से ही मेरे अंदर आत्मविश्वास बढ़ गया। क्योंकि मैं अपने लुक को लेकर काफी इन्सिक्योर महसूस करता था।

इंडो जर्मन फिल्म वीक में मिला बेस्ट एक्टर का अवॉर्ड
आदिल हुसैन को इंडो जर्मन फिल्म वीक में सर्वश्रेष्ठ कलाकार का पुरस्कार मिला था। उन्हें यह सम्मान प्रकाश झा की फिल्म 'परीक्षा' और एक और फिल्म 'निरवाना इन' के लिए मिला। आदिल हुसैन ने फिल्म 'परीक्षा' में एक रिक्शा खींचने वाले का किरदार निभाया है। 
 

Advertisement
Back to Top