'जग घूमया फेम' नेहा भसीन का खुलासा, 10 साल की उम्र में मुझे मोलेस्ट किया गया था, कई बार हो चुका यौनशोषण

Neha Bhasin Says She Was Face Many Time Sexual Abuse - Sakshi Samachar

मुंबई :  'सुल्तान' में 'जग घूमया', 'टाइगर जिंदा है' में 'दिल दियां गल्लां' और 'भारत' में 'चासनी' जैसे गानों की सिंगर नेहा चौंकाने वाला खुलासा किया है। भसीन की मानें तो उनका अब तक कई बार सेक्सुअल हैरेसमेंट हो चुका है। उनके मुताबिक, जब वे 10 साल की थीं, तब हरिद्वार में एक अजनबी ने उन्हें मोलेस्ट किया था।  एक इंटरव्यू में, उन्होंने एक दुखद घटना सुनाई, जो 10 साल की उम्र  में उनके साथ हुई थी। उन्होंने कहा कि जब वह हरिद्वार में अपनी मां के साथ थी तब यह घटना घटी।

जब वह अपनी मां के साथ हरिद्वार में थे, तो उनमें से एक ...
 नेहा भसीन (37) ने कहा- मैं उस समय केवल 10 साल की थी। मैं अपनी माँ के साथ हरिद्वार में था, जो देश के प्रमुख धार्मिक स्थानों में से एक था। माँ मुझसे थोड़ी दूर थी। उस समय, एक अजनबी ने मेरा पीछा किया और मुझे गलत तरीके से इशारा किया। वह बहुत ही घृणित तरीके से वहां से भाग गई थी जो अचानक हुई थी। इस घटना के कुछ साल बाद, हॉल में एक अन्य व्यक्ति ने गलती से मेरी छाती को छू लिया। मुझे आज भी अपने मांस में कांटे के साथ वो पल याद है। मुझे लगा कि मेरे साथ कुछ गलत हुआ है।

सोशल मीडिया पर बलात्कार की धमकी मिली
अब लोग सोशल मीडिया पर आते हैं और दूसरों को मानसिक, शारीरिक, भावनात्मक और धार्मिक रूप से परेशान करते हैं। मैं कहूंगी कि यह फेसलेस टेररिज्म है।साइबर बुलिंग को याद करते हुए नेहा बताया कि उन्हें एक बार के-पॉप बैंड के प्रशंसकों ने रेप करने और जान से मारने की धमकी दी थी। नेहा ने आगे कहा कि उन्होंने कभी भी के-पॉप बैंड पर कमेंट नहीं किया है।  सिर्फ इतना कहा था कि मैं इस पर्टिकुलर बैंड की फैन नहीं हूं। इसके बाद मुझे ट्रोल किया गया। मेरा रेप करने और मुझे जान से मारने की धमकी दी गई।  उसके बाद मुझे ट्रोल किया गया। मैं यह सब देखा है। मैं अब चुप नहीं रहती। पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई।

घटनाओं ने गाना बनाने को प्रेरित किया
नेहा की मानें तो इस तरह की घटनाओं ने उन्हें सॉन्ग 'कहंदे रहंदे' बनाने के लिए प्रेरित किया, जो साइबर बुलिंग के खिलाफ है। ट्रैक का उद्देश्य फूहड़ता, शेमिंग, सेक्सिज्म, साइबर बुलिंग और महिलाओं के प्रति समाज की रूढि़वादिता को उजागर करना है। नेहा कहती हैं- किसी को भी गलत को बर्दाश्त नहीं करना चाहिए। गलत कामों के खिलाफ अपनी आवाज बुलंद करनी चाहिए।

Advertisement
Back to Top