आखिर आ ही गया मोदी का 'राम राज', 'कोरोना' के अलावा अब नहीं किसी का डर

Modi ji Ram Raj has finally come now there is no fear of anyone except Corona - Sakshi Samachar

करोना के खिलाफ जंग में लॉकडाउन को ही हमारा सबसे बडा हथियार बताने वाले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को लेकर सोशल मीडिया में अलग-अलग अंदाज में लोग अपने अनुभव शेयर कर रहे हैं। उनमें से कुछ हम लेकर आए हैं आपके लिए... डालिए एक नजर...

--------------------------------

सिर्फ रामायण देखने से कुछ नहीं होगा।

इस वक्त रामायण के 1 पात्र से हमें कुछ सीखना होगा 

और उस पात्र का नाम है

कुंभकर्ण 

वही एक पात्र है जो हमें कोरोना से बचा सकता है

______________________________________________

वातावरण बिल्कुल शांत है , पैसे की जरूरत नही 
3 टाइम खा रहे है 😊 और अगर ऐसा ही रहा तो कपड़ों की जरूरत भी नही रहेगी 
सिर्फ 2 बरमुड़े और 2 बंडीयों से पूरा साल निकल जायेगा....
वातावरण इतना साफ की कार्बन डाइऑक्साइड का नामो निशान नही और साफ ऑक्सीजन ही लेंगे तो बीमार भी नही पड़ेंगे , 
मृत्युदर तो ना के बराबर कोरोना से मरे तो मरे बाकी एक्सीडेंट से कोई नही मरेगा , सारे झगड़े फसाद खतम 
न कोई प्रेम का चक्कर, न किसी को किसी पर शक, न शॉपिंग का चक्कर, न होटल या मूवी की फरमाइश......न घूमने जाने की जरूरत....न नई साड़ी की डिमांड न ज्वैलरी खरीदने की जिद्द सब कुछ ठीक ही चल रहा है
सही कहते थे लोग की राम राज आयेगा
सच मे रामराज आ गया है...
😊

______________________________________________________

@ lockdwon

वास्तव में वह सत्य जो मैंने लॉकडाउन के दौरान सीखा।

1. आज अमेरिका अग्रणी देश नहीं है।

2. चीन ने तीसरे विश्वयुद्ध का आगाज किया और बिना एक मिसाईल फायर किये उसे जीत भी लिया।

3. यूरोपीय उतने शिक्षित नहीं जितना उन्हें समझा जाता था।

4. हम अपनी छुट्टियाँ बिना यूरोप या अमेरिका गये भी आनन्द के साथ बिता सकते हैं।

5. भारतीयों की रोग प्रतिरोधक क्षमता विश्व के लोगों से ज्यादा है।

6. कोई पादरी, पुजारी, ग्रन्थी, मौलवी या ज्योतिषी एक भी रोगी को नहीं बचा सका।

7. स्वास्थ्य कर्मी, पुलिस कर्मी, प्रशासन कर्मी ही असली हीरो हैं ना कि क्रिकेटर ,फिल्मी सितारे व फुटबाल प्लेयर ।

8. बिना उपभोग के विश्व में सोना चाँदी व तेल का कोई महत्व नहीं।

9. पहली बार पशु-पक्षियों को लगा कि यह संसार उनका भी है।

10. तारे वास्तव में टिमटिमाते हैं यह विश्वास महानगरों के बच्चों को पहली बार हुआ।

11. विश्व के अधिकतर लोग अपना कार्य घर से भी कर सकते हैं।

12. हम और हमारी सन्तान बिना 'जंक फूड' के भी जिन्दा रह सकते है।

13. एक साफ सुथरा व स्वच्छ जीवन जीना कोई कठिन कार्य नहीं है। 

14. भोजन पकाना केवल स्त्रियां ही नहीं जानती।

15. मीडिया केवल झूठ और बकवास का पुलन्दा है।

16. अभिनेता केवल मनोरंजनकर्ता हैं जीवन में वास्तविक नायक नहीं।

17. नारी की वजह से ही घर मंदिर बनता है।

18. पैसे की कोई वैल्यू नहीं है क्योंकि आज दाल रोटी के अलावा क्या कर सकते हैं।

19. भारतीय अमीरों मे मानवता कुट-कुट कर भरीं हुईं है एक दो को छोड़कर। 

20. विकट समय को सही तरीक़े से भारतीय ही संभाल सकता है। 

21. सामुहिक परिवार एकल परिवार से अच्छा होता है।

_________________________

Advertisement
Back to Top