एनसीबी के निशाने पर अब करण जौहर, फॉरेंसिक जांच में वायरल वीडियो पाया गया सही

Karan Johar Party Video Forensic Report - Sakshi Samachar

एनसीबी की जांच के दायरे में आएंगे करण जौहर

2019 में करण के घर पर हुई पार्टी का वीडियो पाया गया सही

वायरल वीडियो में कई फिल्मी सितारे नशे में आ रहे नजर

मुंबई : बॉलीवुड में ड्रग्स मामले की जांच कर रही एनसीबी ने अब तक दीपिका पादुकोण, सारा अली खान और श्रद्धा कपूर जैसी टॉप एक्ट्रेस से पूछताछ की है। वहीं अब एनसीबी के रडार पर प्रोड्यूसर करण जौहर आ गए हैं। एनसीबी की पूछताछ में करण जौहर की उस पार्टी का भी जिक्र हुआ, जिसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद हंगामा मचा था। फॉरेंसिक जांच में खुलासा हुआ है कि पार्टी के दौरान का ये वीडियो असली है और एडिटेड नहीं है।

यह वीडियो साल 2019 का है, जब करण जौहर के घर एक पार्टी रखी गई थी। उस दौरान सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें कई फिल्मी सितारे नशे धुत नजर आ रहे थे। इसमें दीपिका पादुकोण, रणबीर कपूर, शाहिद कपूर, मलाइका अरोड़ा, अर्जुन कपूर, विक्की कौशल शामिल थे। फॉरेंसिक रिपोर्ट में खुलासा हुआ है कि वीडियो असली है और इसमें किसी भी तरह की एडिटिंग नहीं की गई है।

एनसीबी से जुड़े सूत्रों का कहना है कि जल्द जांच एजेंसी यह तय करेगी कि वीडियो से जुड़ी जानकारी हासिल करने के लिए किससे पूछताछ की जाएगी। हो सकता है एनसीबी करण जौहर को बुलाए। इससे पहले करण जौहर ने बयान जारी कर कहा कि मैं ना तो ड्रग्स लेता हूं और ना ही इसे प्रमोट करता हूं गलत खबरें फैलाई जा रही हैं कि मेरे घर 28 जुलाई 2019 को हुई पार्टी में ड्रग्स का इस्तेमाल किया गया।

क्षितिज प्रसाद न्यायिक हिरासत में

मुंबई की एक अदालत ने रविवार को क्षितिज रवि प्रसाद को तीन अक्टूबर तक एनसीबी की हिरासत में भेज दिया है। उसे अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जुड़े एक ड्रग्स मामले में गिरफ्तार किया गया था। क्षितिज ने फिल्म निर्माता एवं निर्देशक करण जौहर के एक फर्म में कार्यकारी निर्माता के तौर पर कुछ समय के लिये काम किया था। 

करण जौहर ने शुक्रवार को एक बयान में कहा था कि क्षितिज नवंबर 2019 में एक प्रोजेक्ट के लिये कॉन्ट्रैक्ट पर कार्यकारी निर्माता के तौर पर धर्मातिक इंटरटेनमेंट (जौहर के धर्मा प्रोडक्शन की सहायक कंपनी) से जुड़ा था, लेकिन यह क्रियान्वित नहीं हो सका था। प्रसाद को पूछताछ के बाद शनिवार को एनसीबी ने गिरफ्तार कर लिया। प्रसाद को वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिये यहां एक मजिस्ट्रेट के समक्ष पेश किया गया, जिन्होंने उसे आगे की पूछताछ के लिये तीन अक्टूबर तक एनसीबी की हिरासत में दे दिया। 

सुशांत की मौत और कथित बॉलीवुड-ड्रग्स साठगांठ से जुड़े मादक पदार्थ पहलू की जांच के सिलसिले में एनसीबी ने शनिवार को अभिनेत्री दीपिका पादुकोण, श्रद्धा कपूर और सारा अली खान के बयान दर्ज किये। जांच एजेंसी ने रविवार को अदालत से कहा कि प्रसाद ने अपने बयान में कहा है कि उसने एक अन्य आरोपी करमजीत सिंह आनंद और उसके सहयोगियों से ड्रग्स खरीदा था। एनसीबी ने कहा कि मामले की जांच में यह खुलासा हुआ कि आरोपी ड्रग्स खरीदने के लिये अन्य आरोपियों के साथ साजिश का हिस्सा था। वह सुशांत की मौत से जुड़े अन्य आरोपियों से जुड़ा हुआ था। 

जांच एजेंसी ने कहा कि प्रसाद, अनुज केशवानी से अप्रत्यक्ष रूप से जुड़ा हुआ था, जिसके पास से वाणिज्यिक मात्रा में ड्रग्स जब्त की गई है। ब्यूरो ने कहा कि इसलिए उससे इस बारे में गहन पूछताछ करने की जरूरत है कि वह बॉलीवुड में किसी ड्रग्स की आपूर्ति करता था। हालांकि, प्रसाद के वकील सतीश मानशिंदे ने अदालत से कहा कि आरोपी को बयान देने के लिये प्रताड़ित और ब्लैकमेल किया गया। वकील ने आरोप लगाया कि उसे ‘थर्ड डिग्री' (प्रताड़ना) दी गई और उसके साथ बदसलूकी की गई। इसके बाद मानशिंदे ने अदालत से प्रसाद का बयान दर्ज करने का अनुरोध किया, जिसकी उसने अनुमति दे दी। 

प्रसाद ने कहा कि जांच एजेंसी ने उसके जिन दो दोस्तों को उठाया था, उन्हें उसके खिलाफ बयान देने को कहा गया था। उसने अदालत से यह भी कहा कि उसके बयान उसके द्वारा कही गई बातों और भाषा के अनुरूप नहीं दर्ज किये गये। उसके वकील द्वारा साझा किये गये एक ‘नोट' में उसने दावा किया कि उसे करीब 50 घंटों की पूछताछ के बाद बयान पर नहीं चाहते हुए भी हस्ताक्षर करने पड़े। दोनों पक्षों को सुनने के बाद मजिस्ट्रेट ने कहा कि प्रसाद की हिरासत में विस्तृत पूछताछ न्यायसंगत है ताकि सच्चाई सामने आ सके। 

Advertisement
Back to Top