अपनेआप में एक संस्था हरिहरन, संगीत को कर दिया पूरा जीवन समर्पित

Hariharan a man fully devoted to music - Sakshi Samachar

संगीत की दुनिया के बेताज बादशाह हरिहरन

गायकी में बनाया विशेष मुकाम 

देश की कई भाषाओं में हासिल है महारत

गीत -संगीत की दुनिया का एक एक ऐसा नाम,  जिसकी संगीत की बात हो और चर्चा न हो, मान लीजिये सब कुछ अधूरा ही रह जाएगा। एक ऐसा नाम जिसने अपनी प्रतिभा से पूरे हिन्दुस्तान के दिलों में अपना विशेष स्थान बनाया हुआ है। जी हां हम बात कर रहे हैं महान गायक पद्मश्री हरिहरन की। हरिहरन एक ऐसा नाम है जिनका नाम लेते ही लोगों की जुबान पर वो गीत बरबस ही आने लगते हैं जिन्हे उन्होने काफी पहले सुना था। लेकिन  आज भी वो गीत तरोताजा बने हुये हैं । इनकी आवाज का जादू कुछ ऐसा है कि जब उनके गाये गीतों को हम सुनते हैं तो मन मयूर नाच उठता है।

विशेष प्रतिभा के धनी हैं हरिहरन
हरिहरन अय्यर विशेष प्रतिभा के धनी हैं। प्रतिभा ऐसी कि वो देश की कई महत्वपूर्ण भाषाओं में गायकी की अपनी छाप छोड़ चुके हैं। वो हिन्दी के अलावा कन्नड़ मराठी, मलयालम, तेलगु, तमिल, भोजपुरी सभी भाषाओं में गायिकी कर अपनी अमिट छाप छोड़ चुके हैं। इतना ही नहीं हरहरन लेओली लेविस के साथ भी काम कर चुके हैं ,जो एक भारतीय पॉप गायक हैं जिन्हें कॉलोनियल कजिन्स के नाम से जाता है। इसके अलावा गजल गायिकी में भी हरिहरन ने अपनी पहचान बनाई है। अपने बचपन के शुरआती दिनों से ही हरिहरन प्रसिद्ध पाकिस्तानी गजल गायक से काफी प्रभावित रहे हैं। 

3अप्रैल 1955 को जन्मे हरिहरन फिलहाल मुंबई में रहते हैं। उन्होने विज्ञान और कानून की उच्च शिक्षा प्राप्त की हुई है। लेकिन उन्होने अपना पैशन संगीत को बनाया। सुर -संगीत की दुनिया उन्हे बचपन से ही आकर्षित करती रही है। लिहाजा उन्होने अलमेलु से संगीत की शुरुआती शिक्षा ग्रहण की। जिसके बाद वो गायिकी की क्षेत्र में पारंगत होते चले गये। हरिहरन के गाये गीत और भजन हमेशा के लिये यादगार बन चुके हैं । उनके प्रशंसक उनके गीतों के संग्रह को सजो कर रखते हैं। हरिहरन को पहला ब्रेक संगीतकार जयदेव ने दिया था जिसे कभी भूल नहीं सकते हैं।

हरिहरन के परिवार की अगर बात की जाए तो उनके परिवार में पत्नी के अलावा दो पुत्र और एक बेटी हैं । करन हरिहरन और अक्षय हरिहरन, करन हरिहरन एक अभिनेता है जबकि अक्षय हरिहरन संगीत निर्देशक है।उनकी बेटी का नाम लावण्या है। 

 उपलब्धियां 
उनकी उपलब्धियों की बात की जाए तो एक लंबी फेहरिस्त है। आइये देखते हैं। 

पुरस्कार और सम्मान 
1979 को मेरे धूमान गाने के लिये राष्ट्रीय पुरस्कार
आशा भोसले पुरस्कार से नवाजे गये
भारत सरकार द्वारा दिया गया पद्मश्री पुरस्कार 
केरल सरकार ने  'पट्टु पादुवन' गाने के लिए सर्वश्रेष्ठ गायक का पुरस्कार दिया
फिल्म संगीत सेवा के लिए स्वर्णालय केरलै येसुदास पुरस्कार मिला
तमिलनाडु सरकार ने कोंचा नाल गीत के लिये पुरस्कृत किया
फिल्मफेयर अवार्ड से भी नवाजे गये हैं हरिहरन
मध्यप्रदेश सरकार ने लतामंगेशकर पुरस्कार दिया
मध्यप्रदेश में विक्रमादित्य अल्करन का सम्मान दिया गया

हरिहरन ने कभी न भूल सकने वाले गीत गाये हैं। गीत संगीत भजन गजल सभी विधाओं में महारत रखने वाले हरिहरन हमेशा लोगों के दिलों पर राज करते रहेंगे। उनकी इन उपलब्धि के पीछी कड़ी मेहनत छिपी हुई है। नई पीढी के लिये हरिहरन हमेशा प्रेरणा का माध्यम बने रहेंगे ।
 

Advertisement
Back to Top