BMC के खिलाफ बॉम्बे HC के फैसले पर कंगना ने जताई खुशी, बोलीं- 'विलेन का शुक्रिया, नहीं तो मैं हीरो..

 Bombay High Court Says 'Breaking Kangana's Bungalow is illegal, Will Have To Pay Compensation' - Sakshi Samachar

मुंबई : बॉम्बे हाईकोर्ट ( Bombay High Court) ने BMC द्वारा बॉलीवुड एक्ट्रेस कंगना रनौत ( Kangana Ranut) के बंगले पर की गई कार्रवाई को ग़लत बताया है। कोर्ट ने अपने फैसले में कहा कि BMC द्वारा कंगना का बंगला तोड़ना पूरी तरह से ग़ैरकानूनी था। कोर्ट ने फ़ैसले के दौरान साफ़ शब्दों में कहा कि (BMC) द्वारा की गई ये कार्रवाई पिटिशनर को कानूनी मदद लेने से रोकने की कोशिश थी। हम किसी भी नागरिक के ख़िलाफ़ 'मसल पावर' का इस्तेमाल करने की इजाज़त नहीं दे सकते। इस दौरान अदालत ने अवैध निर्माण के ख़िलाफ़ जारी किए गए बीएमसी के नोटिस को भी ख़ारिज़ कर दिया। हालांकि, कोर्ट ने कंगना को सार्वजनिक बयानों में संयम बरतने की हिदायत भी दी है।

कोर्ट के इस फैसले के बाद कंगना ने खुशी जाहिर की है।कंगना रनौत ने सोशल मीडिया साइट इंस्टाग्राम पर एक वीडियो शेयर किया है। उन्होंने ये वीडियो शेयर करते हुए कैप्शन लिखा- 'जब कोई व्यक्तिगत रूप से सरकार के खिलाफ खड़ा होता है और जीतता है। यह किसी एक व्यक्ति की जीत नहीं है, बल्कि यह लोकतंत्र की जीत है। आप सभी को धन्यवाद।

वीडियो में कंगना यह कहती हुई सुनाई दे रह हैं, 'हैलो आप सभी को, ''मैं इस वक्त थलाइवी की शूटिंग कर रही हूं। मुझे अच्छी खबर मिली कि मेरे बंगले का फैसला मेरे हित में आया है। जैसा कि मैंने कहा कि जब कोई सरकार के खिलाफ खड़ा होता है और उसकी जीत होती है। यह लोकतंत्र की जीत होती है। मैं आप सभी का धन्यवाद कहना चाहती हूं, जिन्होंने विलेन का रोल अदा किया, इस वजह से मैं एक हीरो का रोल अदा कर सकी।''

बता दें कि बीएमसी ने 9 सितंबर को कंगना के पाली हिल स्थित बंगले में बने ऑफ़िस के कई हिस्सों को अवैध बताते हुए तोड़ दिया था। इसके बाद कंगना ने BMC की कार्रवाई के ख़िलाफ़ हाईकोर्ट में याचिका दायर की थी। इस पर शुक्रवार को जस्टिस एसजे कैथावाला और आरआई छागला की बेंच ने फ़ैसला सुनाया है।

कंगना रनौत ने BMC से 2 करोड़ रुपये का हर्जाना मांगा है। इस पर हाईकोर्ट ने नुक़सान का पता लगाने के लिए एक सर्वेयर नियुक्त किया है। उन्हें मार्च 2021 तक रिपोर्ट सौंपनी है।

कंगना के वकील का दावा है कि कोर्ट के स्टे लगाने तक ऑफ़िस का 40% हिस्सा ध्वस्त कर दिया गया था। जिन चीजों को नुक़सान पहुंचा उनमें झूमर, सोफ़ा , दुर्लभ कलाकृतियां और कई क़ीमती सामान भी शामिल है।

 

Advertisement
Back to Top