कनाडा में इस गजल को सुनकर टूटने से बच गया था एक परिवार, आप भी सुनिए

Bhupinder Singh Birthday Special By Sakshi Samachar

इसे कहते हैं गीत संगीत का जादू

एक गजल से टूटने से बच गया था परिवार

कहते हैं कि गीत संगीत का जादू पर किसी को कितना प्रभावित करता है, यह उसको सुनने व समझने की काबिलियत पर निर्भर करता है। कुछ ऐसा ही भूपिंदर और मिताली की गजलों का होता था। एक बार जब उनसे इसके बारे में पूछा गया था तो कुछ इस तरह अपनी एक घटना शेयर की थी, जो विदेश में घटी थी। 

भूपिंदर और मिताली ने खुद अपनी एक घटना को याद करते हुए कहा था कि साल 1991 में वह कनाडा में एक प्रोग्राम करने गए थे। वहां पर उन्होंने अपनी पसंद की कई गजलों के साथ साथ लोगों की भी पसंद पर कुछ गजलें सुनाई थीं। भूपिंदर और मिताली ने जब एक साथ ...'शमा जलाए रखना, जब तक कि मैं न आऊं...' सुनाई तो उनके साथ एक अजीबोगरीब घटना हुई। 

गजल खत्म होने के बाद एक भारतीय जोड़ा स्टेज पर आया और कहा कि "हम लोग तलाक लेने वाले थे, लेकिन ये गजल और आप दोनों को देखकर हमने तय किया है कि अपनी शादी को एक मौका और देंगे.." इस तरह से एक टूटता हुआ घर बच गया। 

इसे भी जरूर पढ़ें..

जन्मदिन विशेष : गायन के साथ साथ साथ गिटार बजाने में बेजोड़ हैं भूपिंदर सिंह, ये है उसका प्रमाण

भूपिंदर व जगजीत सिंह में एक जैसी ये तीन बातें, ऐसे हुआ था प्यार

तो आप भी सुनिए वो गजल, जिससे टूटने से बच गया था परिवार

Advertisement
Back to Top