बॉलीवुड की इस एक्ट्रेस ने ताउम्र दुनियाभर से छिपा था रखा था यह राज, कोमा में जाने से पहले लिया था इस शख्स का नाम

Actress faces Dacoit in Midnight and Took this person name before going into Coma - Sakshi Samachar

मीना कुमारी ने खंजर से दिए था डाकू को ऑटोग्राफ

जन्म के बाद 4 साल तक अनाथालय में रही मीना कुमारी

मुंबई : भारतीय सिनेमा की 'ट्रेजडी क्वीन’ के नाम से मशहूर मीना कुमारी का आज 87वां बर्थडे है। उनका जन्म एक अगस्त 1933 को मुंबई के दादर जिले में हुआ था। मीना का असली नाम महजबीं बानो था। तीन दशक तक फिल्मी पर्दे पर दर्शकों का मन मोह लेने वाली मीना एक ऐसी एक्ट्रेस थीं। हालांकि उन्होंने ताउम्र अपना एक राज दुनिया से छिपा रखा था। 

क्या था वो राज 
 
मीना कुमारी ने एक राज दुनिया भर से छिपा रखा था। दरअसल उनके बाएं हाथ की सबसे अंति उंगली मुड़ी हुई थी।  को मीना कुमारी महाबलेश्वर से बॉम्बे (अब मुंबई) लौट रही थीं तभी उनकी कार का एक्सीडेंट हो गया। वे कई दिनों तक वे अस्पताल में रहीं और उनका बायां हाथ जख्मी हो गया तो छोटी उंगली टूटकर टेढी हो गई।  इसके बाद कई मौकों पर  मीना कुमारी ने  कैमरे की चकाचौंध से वे इसे छुपाती रहीं। 

जब डाकुओं से हुई थी मीना कुमारी की मुलाकात
एक बार आधी रात एक्ट्रेस मीना कुमारी का सामना डाकुओं से हुआ था। ये वो वक्त था जब अपने पति कमाल के साथ मध्यप्रदेश से दिल्ली जा रही थी। रास्ते में ही उनकी कार का पेट्रोल खत्म हो गया था। इस दौरान मीना के पति अमरोही ने कहा हम रात किसी तरह रोड पर ही काट लेंगे। दरअसल उन्हें इस बात की जानकारी नहीं थी कि वे जहां रूके हुए है वो डाकुओं का इलाका है।

इसी दौरान वहां कुछ डाकू पहुंच गए और उन्होंने कमाल की कार को घेर लिया। इसके बाद डाकुओं ने उन्हें नीचे उतरने को कहा लेकिन मीना के पति अमरोही ने कार से नीचे आने से इंकार करते हुए कहा जिसे भी मिलना हो वो मेरे पास आए। कुछ ही मिनटो बाद अमरोही से मिलने एक डाकू पहुंचा और कमाल से उनका परिचय पूछा । ''अमरोही ने पलटकर जवाब दिया मैं कमाल अमरोही हूं और मै इस इलाके में शूटिंग करके लौट रहा था तभी हमारी कार का पेट्रोल खत्म हो गया था तो हमे रूकना पड़ा। पीछे वाली कार में मेरी पत्नी मीना कुमारी बैठी हैं। "  

मीना कुमारी का नाम सुनते ही डाकुओं के स्वभाव बदल चुके थे। उन्होंने तुरंत मीना और उनके पति को अपने साथ ले गए। इसके बाद उन्होंने तत्काल डांस प्रोग्राम खाने का बंदोबस्त कराया था। यहीं नही दोनों के आराम करने की भी व्यवस्था की गई थी।  सुबह होते ही डाकुओं ने कमाल अमरोही की कार में पेट्रोल भी भरवाए। इस दौरान एक डाकु ने मीना से आटोग्राफ मांगा लेकिन उसने पेन की बजाय खंजर से आटोग्राफ देने को कहा। खैर मीना ने उसे खंजर से जैसे तैसे आटोग्राफ दिए। वहां से कुछ दूर बाद मीना को पता चला कि वो मध्यप्रदेश का खूंखार डाकू अमृतलाल था। 

जन्म के बाद अनाथ आश्रम में छोड़ आए थे माता- पिता
जन्म के बाद मीना कुमारी को करीब 4 साल अनाथ आश्रम में बिताने पड़े थे। दरअसल उनका जन्म पारसी रंगमंच के कलाकार अलीबख्स के यहां हुआ था। मीना कुमारी की मां भी अपने जमाने की मशहूर नृत्यांगना और थिएटर आर्टिस्ट हुआ करती थी।  मजहबी बानो उर्फ मीना कुमारी अपने पिता की दूसरी संतान थी। इससे पहले अलीबख्श को एक और बेटी हो चुकी थी। पैसों की तंगी और दो बेटियों के बोझ से घबराकर मीना के पिता ने उन्हें एक मुस्लिम अनाथ आश्रम में छोड़ दिया था।

18 साल की उम्र में की थी शादी 
मीना ने साल 1952 डायरेक्टर कमाल आरोही से शादी की थी। तब मीना की उम्र महज 18 साल थी। दोनों की मुलाकात शादी से  एक साल पहले एक फिल्म के सेट पर हुई थी।  लेकिन दोनों की शादी को जैसे जैसे वक्त बितता गया तो धीरे धीरे दोनों की रिश्ते में कड़वाहट आने लगी थी। दोनों के बीच इस रिश्ते में आई दरार की जो वजह सामने आई इसका जिक्र विनोद मेहता की मीना कुमारी की जिंदगी पर आधारित किताब ('मीना कुमारी) द क्लासिक बायोग्राफी' में है। किताब में बताया गया है कि  शादी के बाद से ही  अमरोही ने मीना कुमारी को एक्टिंग करने की इजाजत तो दी, लेकिन उनके आगे कई शर्ते और पाबंदिया लगा रखी थी। कहा जाता है कि अमरोही उनपर बेहद शक किया करते थे, इसी वजह से दोनों के रिश्तों में खटास आईं और शादी के 10 साल बाद दोनों की शादीशुदा  जिंदगी उजड़ गई।

39 साल की उम्र में हुआ निधन
शादी टूटने के बाद उनका नाम धर्मेंद्र से जुड़ा था, लेकिन मीना को यहां भी बेवफाई ही मिली। इसके बाद वे शराब की लत का शिकार हो गई। साल 1972 को उन्हें सेंट एलिजाबेथ के नर्सिग होम में भर्ती कराया गया। हॉस्पिटल में भर्ती होने के बाद उन्होंने आखिरी बार अपने पति का नाम लिया था। इसके बाद वे कोमा में चली गई। इसके बाद 39 साल की उम्र में दुनिया को अलविदा कह दिया।

Advertisement
Back to Top