अगर है आप में पूर्ण निष्ठा और समर्पण का जज्बा, तो ज्वाइन करिए भारतीय सिविल सेवा

India National Civil service day civil servants dedicate for the cause of commitments and excellence in work - Sakshi Samachar

देश की प्रतिष्ठित नौकरी है भारतीय सिविल सेवा

देश के युवाओं की पहली पसंद होती है यह सेवा

इसे ज्वाइन कर देश के युवा करते हैं गौरव का अनुभव 

सिविल सेवा दिवस पर विशेष

21 अप्रैल का दिन बेहद खास है। भारत सरकार इस दिन को सिविल सेवा दिवस / लोक सेवा दिवस के तौर पर मनाती है । इस दिन को भारतीय प्रशासनिक सेवा, राज्य प्रशासनिक सेवा सहित सभी सिविल सेवाओं की बेहतरी के लिये मनाया जाता है। यही वो दिन होता है जब अखिल भारतीय सेवा के अधिकारियों को उनकी बेहतर सेवा के लिए सम्मानित भी  किया जाता है। यही वो अहम दिन होता है जब अधिकारियों को नई चुनौतियों से निपटने के लिये अपनी नीतियों पर मंथन करने का मौका तो मिलता ही है, साथ ही उनमें बेहतर प्रदर्शन की भावना भी पैदा होती है । 

प्रशासनिक अधिकारियों के लिये ये दिन अहम इस लिये भी होता है क्योकि इस दिन 'सार्वजनिक प्रशासन में प्रधानमंत्री उत्कृष्ठता अवार्ड'  दिया जाता है । इस लिये पूरी निष्ठा और ईमानदारी से देश की सेवा करने वाले प्रशासनिक अधिकारियों को इस खास दिन का इंतजार रहता है। 

(सौजन्य सोशल मीडिया)

आइए इस खास दिन के मौके पर, ग्लैमर और प्रतिष्ठा से युक्त भारतीय शासन तंत्र की रीढ़ कही जाने वाली सिविल सेवा के बारे में बात करते हैं । इस सेवा में शामिल होने का सपना देश के अधिकतर युवा पाले रहते हैं। आधुनिकता के इस दौर में जब प्राइवेट सेक्टर में अच्छी खासी सैलरी की अपर्चुनिटी मौजूद है, बावजूद इसके युवाओं में सिविल सेवा का ग्लैमर कम नहीं हुआ है।  पूर्व की ही भांति ही आज भी इस नौकरी को पाने के लिये युवा लालायित रहता है। आइये समझते हैं कैसे इस सेवा में शामिल होकर देश के विकास में पूरे समर्पण के साथ अपना योगदान दिया जा सकता है ।

युवाओं को क्यो आकर्षित करती है सिविल सेवा ?

शिक्षा पूरी करने के बाद किसी भी युवा के लिये तीन बाते बेहद महत्वपूर्ण होती हैं । इन्ही बातों को ध्यान में रखकर वो अपने कैरियर के बारे में सोचता है। वो तीन चीजे हैं पद, प्रतिष्ठा, और सुरक्षित नौकरी  जी हां, सिविल सेवा ही है जहां पर कोई भी युवा इन तीनों चीजों को प्राप्त कर सकता है। यही वजह है कि सिविल सर्विसेज देश की सबसे ज्यादा प्रतिष्ठित सेवा है। जो महत्वाकाक्षी युवाओं को हमेशा ही अपनी ओर खींचती है। यहीं पर कोई भी युवा Ambition और Social responsibility के बीच बैलेंस स्थापित करता है। इसी कारण लाखों की संख्या में इंजीनियरिंग, मेडिकल, मैनेजमेंट जैसे अन्य शानदार क्षेत्रों का मोह  छोड़ कर युवा सिविल सेवा के लिये किस्मत आजमाते हैं।

(फोटो सौजन्य सोशल मीडिया )

पद और प्रतिष्ठा
कार्य की विविधता इस क्षेत्र की विशेषता होती है, करियर की शुरुआत में ही कई तरह के महत्वपूर्ण और जिम्मेदार पदों पर सेवा का अनुभव मिलता है , जो किसी अन्य क्षेत्रों की नौकरी में देखने को नहीं मिलता। 

(सौजन्य सोशल मीडिया)

केन्द्र और राज्य सिविल सेवा
सिविल सेवा के अंतर्गत सभी  सरकारी विभाग आते हैं, जिनके कार्यो को अलग-अलग विभाजित किया गया है। प्रशासनिक सेवा की नौकरी दो तरीके की होती है पहली  केंद्रीय सिविल सेवा और दूसरी राज्य सिविल सेवा । केन्द्रीय सिविल सेवा के अधिकारियों का सेलेक्शन संघ लोक सेवा आयोग करता है, जबकि राज्य के अधिकारियों का सेलेक्शन राज्य लोक सेवा आयोग करते हैं ।

कैसे होता है चयन ? 
संघ लोक सेवा आयोग हर साल देश भर में इस परीक्षा का अखिल भारतीय स्तर पर आयोजन करता है । यह परीक्षा तीन चरणों में संपन्न होती है- प्रारंभिक,  मुख्य, और साक्षात्कार। प्रारंभिक परीक्षा  objective प्रकार की होती है।जबकि  मुख्य परीक्षा लिखित परीक्षा होती है।  जिसमें प्रतियोगी छात्र कीी अध्ययन और विश्लेषण क्षमता का टेस्ट होता है। जिसके बाद अंतिम चरण में साक्षात्कार होता है जिसमें प्रतियोगी छात्र की पूरी पर्सनैलिटी परखी जाती है। कुछ इसी तरह राज्यों में भी सिविल सेवा का चयन राज्य स्तर पर किया जाता है । 

साक्षात्कार होता है बेहद अहम 
साक्षात्कार सिविल और राज्य सेवा का  महत्त्वपूर्ण पड़ाव होता है , इसके माध्यम से  प्रतियोगी छात्र के knowledge से ज्यादा उसके व्यक्तित्व को परखा जाता है । यहां प्रतियोगी की ईमानदारी, सहजता, जागरूकता तथा power of expression को देखा जाता है। विषम परिस्थितियों में निर्णय लेने की क्षमता, दबाव में संतुलन बनाये रखने जैसे गुणों को भी प्रतियोगी में देखा जाता है। 

कहां- कहां मिलेंगे अवसर ?

भारतीय विदेश सेवा
केंद्रीय सचिवालय सेवा ग्रुप 
पुरातत्व सेवा, ग्रुप
भारतीय वानस्पतिक सर्वेक्षण, 
केंद्रीय इंजीनियरिंग सेवा 
केन्द्रीय स्वास्थ्य सेवा,
केंद्रीय राजस्व रासायनिक सेवा
सामान्य केंद्रीय सेवा,
भारतीय भूवैज्ञानिक सर्वेक्षण,
भारतीय लेखा परीक्षा और लेखा सेवा
भारतीय सिविल लेखा सेवा
भारतीय रक्षा लेखा सेवा
भारतीय मौसम सेवा, ग्रुप 
भारतीय डाक सेवा, ग्रुप
भारतीय डाक और टेलीग्राफ यातायात सेवा
भारतीय राजस्व सेवा
भारतीय नमक सेवा
व्यापारिक समुद्री प्रशिक्षण पोत सेवा, 
खान सुरक्षा महानिदेशालय
विदेशी संचार सेवा,
सर्वे ऑफ इंडिया
भारतीय दूरसंचार सेवा
भारत की जूलॉजिकल सर्वे,
भारतीय सिविल सेवा फ्रंटियर
केंद्रीय न्यायिक सेवा (ग्रेड I, II, III और IV)
रेलवे निरीक्षणालय सेवा
दिल्ली तथा अंडमान और निकोबार द्वीप ग्रुप सिविल सेवा, ग्रेड I.
दिल्ली और अंडमान और निकोबार द्वीप पुलिस सेवा, ग्रेड II.
भारतीय निरीक्षण सेवा, ग्रुप 'ए'
भारतीय आपूर्ति सेवा,
केन्द्रीय सूचना सेवा 
भारतीय सांख्यिकी सेवा
भारतीय आर्थिक सेवा
टेलीग्राफ यातायात सेवा, ग्रुप
केन्द्रीय जल अभियांत्रिकी सेवा
सेंट्रल पावर इंजीनियरिंग सर्विस
कंपनी लॉ बोर्ड सेवा
केंद्रीय पूल के श्रम अधिकारियों
केंद्रीय इंजीनियरिंग सेवा (सड़क)
भारतीय डाक और टेलीग्राफ लेखा और वित्त सेवा
भारतीय प्रसारण (इंजीनियर्स) सेवा
केंद्रीय व्यापार सेवा
सशस्त्र बलों के मुख्यालय सिविल सेवा 
केंद्रीय सचिवालय राजभाषा सेवा

राज्य सिविल सेवा
राज्य सिविल सेवा परीक्षाओं और भर्ती का आयोजन भारत के राज्यों द्वारा की जाती है। राज्य नागरिक सेवाओं के अधिकारियों की भर्ती विभिन्न राज्यों द्वारा राज्य लोक सेवा आयोगों के माध्यम से की जाती है। 

राज्य सिविल सेवा
राज्य पुलिस सेवा
ब्लॉक डेवलपमेंट अधिकारी
तहसीलदार / तालुकदार / सहायक कलेक्टर.
उत्पाद शुल्क और कराधान अधिकारी
रोजगार अधिकारी जिला
खजाना अधिकारी जिला
जिला कल्याण अधिकारी
सहायक रजिस्ट्रार सहकारी सोसायटी
जिला खाद्य एवं आपूर्ति अधिकारी / नियंत्रक.
किसी भी अन्य क्लास-I/क्लास-II सेवा नियमों के अनुसार संबंधित राज्य द्वारा अधिसूचित

निश्चित सफलता के लिये महत्वपूर्ण  
इस प्रतियोगिता में सफलता पाने के लिये विशेष समर्पण के साथ रणनीति के साथ धैर्य पूर्वक तैयारी करने की आवश्यकता होती है। निरंतर अभ्यास और रेग्युलर अध्ययन करके इस परीक्षा में सफलता प्राप्त कर सकते हैं । जो अन्य सूत्र आवश्यक है वो कुछ इस प्रकार से हैं । 

दृढ़ इच्छा शक्ति बनाए रखना 
लगातार  परिश्रम करने की क्षमता
लक्ष्य के प्रति निष्ठा बेहद आवश्यक
वैकल्पिक विषयों का सही चयन
सम-सामयिकी पर मजबूत पकड़
प्रामाणिक पुस्तकों का चयन
एक साल का गहन अध्ययन आवश्यक

अगर आप सामान्य परिवार से संबंध रखते हैं, आपकी पृष्ठभूमि बेहद सामान्य है, समुचित संसाधन नहीं हैं, फिर भी चिंता न करें और न ही  निराश हों , अगर आपमें धैर्य और परिश्रम ये दो गुण हैं तो आप जरूर सफल हो सकते हैं। बस एक बार मन में ठान कर चुनौती को स्वीकार कर के देखिये, सफलता आपके  कदम जरूर चूमेगी । बस इस बात का ध्यान जरूर रखें की आपकी तैयारी पूरी रणनीतिक तरीके से हो। इसके साथ ही इस सेवा में सफलता के लिये आप तमाम अनुभवी लोगों से और सिविल सेवा की कोचिंग से भी गाइडलाइन ले सकते हैं । 

विमल श्रीवास्तव 

Advertisement
Back to Top