क्या देश भर में घूम रहे हैं मानव बम ? तबलीगी जमात ने बढ़ाई मुश्किल

are people participated in tablighi jamaat playing role of Human Bomb raised big question - Sakshi Samachar

क्या देश में घूम रहे हैं कोरोना मानव बम ?

कई प्रदेशों में पहुंचे तबलीगी जमात में शामिल लोग

शासन और प्रशासन की बढ़ी परेशानी

दिल्ली में आयोजित तब्लीगी जमात के धार्मिक कार्यक्रम में शामिल लोगों ने केन्द्र और प्रदेश सरकारों के होश उड़ा कर रख दिये हैं । हाल ही में तेलंगाना में 6 लोगों की मौत के बाद शासन और प्रशासन की चिंता और भी बढ गयी है। अब अलग- अलग प्रदेशों में तब्लीगी जमात कार्यक्रम शामिल हुए लोगों को चिन्हित किया जा रहा है। जाहिर सी बात है कि सरकारों की ये चिंता गैरवाजिब नहीं है। जितने भी लोगों का अभी तक पता लगाया गया है उनमें से ज्यादातर कोरोना पॉजिटिव पाये गये हैं , जिन्हे आइसोलेशन में रखा गया है। 

लेकिन हैरानी की बात तो ये है कि इन लोगों को अपनी इस करतूत पर जरा भी अफसोस नहीं है। दिल्ली सरकार के मुताबिक यहां से 15सौ लोगों को खदेड़ा गया, जब कि कोरोना वायरस के 24 लोग केवल दिल्ली में ही कोरोना पॉजिटिव पाए गये हैं । मामले में दिल्ली पुलिस ने निजामुद्दीन मरकज प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है। 

आखिर क्यों खुद को छिपा रहे हैं ये लोग ?

दिल्ली में लॉकडाउन के बावजूद तबलीगी जमात ने कार्यक्रम जारी रहा। गौरतलब है कि दुनिया भर के कई देशों में फैली दिल्ली स्थित संस्था में विदेशी लोगों का भी आना-जाना बना रहा। अब मामला प्रकाश में आने के बाद अब प्रबंधन से जुड़े लोग अपने-अपने तर्क दे रहे हैं। वहीं यहां से निकले लोग देश के कई हिस्सों में फैल चुके हैं। अफसोस तो इस बात का है कि ये लोग खुद से शासन प्रशासन के सामने नहीं आ रहे हैं और इन्हे खोजने में प्रदेश सरकारों के होश उड़े हैं। 

देश के कई प्रदेशों में पहुंचने से बढ़ी चिंता

तबलीगी जमात में बड़ी संख्या में  शामिल होने के बाद अब ये लोग आंध्रप्रदेश, तेलंगाना, तमिलनाडु, बिहार, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश, बिहार, उत्तर प्रदेश में फैल चुके होंगे। अब जरा अंदाजा लगाइये कि वहां से निकलने के बाद ये लोग कितने लोगों के संपर्क में ये लोगो आए होंगे। जाहिर सी बात है कि माने या ना माने ये सभी कोरोना मानव बम से कम नहीं है। जाहिलियत की इंतिहा देखिये, खुद तो कोरोना पॉजिटिव हुए ही, अपने परिवार को भी संक्रमित कर रहे हैं। इतना ही नहीं अब अपने संपर्क में आने वाले लोगों को भी संक्रमित कर रहे हैं। बड़ा सवाल ये है कि ये लोग खुद को सामने क्यों नहीं ला रहे हैं जिससे सरकारों को कोरोना का संक्रमण रोकने में मदद मिल सके। 

इसे भी पढ़ें

जानिए, कहां है तबलीगी जमात के संस्थापक का पोता मौलाना साद?​

क्या इन्हे कोरोना मानव बम कहना उचित होगा ?

देश भर में कोरोना का संक्रमण लगातार बढ़ रहा है। लोगों को लॉकडाउन किया गया है। ऐसे में सवाल यही उठता है कि ऐसे लोग कोरोना संक्रमित होने के बावजूद खुद को छिपा रहे हैं और लॉकडाउन और सरकार के गाइडलाइन की धज्जियां उड़ा रहे हैं ।

इसे क्या कहा जाए, क्या ये मानव बम नहीं हैं तो क्या हैं । सभी को सोचना होगा ऐसे मानव बम से सतर्क भी रहना होगा तभी समाज और देश को बचाया जा सकता है। 
  

Advertisement
Back to Top