मंगलवार विशेष: जानें किन लोगों से नाराज रहते हैं हनुमानजी, किन पर मां लक्ष्मी कृपा नहीं करती

tuesday special Know on which people Hanuman got anger whom  devi Laxmi does not grace - Sakshi Samachar

ऐसे लोगों पर कृपा नहीं करते हनुमानजी

मां लक्ष्मी भी इन लोगों से रहती है नाराज 

हनुमानजी ऐसे देवता है जो अपने भक्तों पर जल्दी से प्रसन्न हो जाते हैं और तुरंत उनके संकट दूर करते हैं। हनुमानजी के भक्त को कभी किसी तरह का भय नहीं सताता क्योंकि हनुमानजी सबसे पहले अपने भक्त का भय दूर करते हैं। वहीं यह भी माना जाता है कि हनुमानजी कलयुग के एकमात्र ऐसे देवता हैं जो अपने भक्तों के सारे कष्ट तुरंत दूर कर देते हैं। भक्तों के संकट हरने वाले हनुमानजी अष्ट सिद्धियों के स्वामी हैं। 

 वे अपने भक्तों की प्रत्येक मनोकामना पूर्ण करते हैं। कहते हैं कि जो भक्त प्रतिदिन हनुमान चालीसा का पाठ करता है और श्रीराम का नाम जपता है उसके जीवन पर कभी बुरी और आसुरी शक्तियों का कोई प्रभाव नहीं पड़ता है। हनुमान जी चिरंजीवी हैं। उनको भगवान राम ने कलयुग के अंत तक पृथ्वी लोक में निवास करने का वरदान दिया है इसलिए हनुमान जी अपने पूर्ण स्वरूप के साथ पृथ्वी पर मौजूद हैं। 

वहीं यह भी बताया जाता है कि हनुमान जी ने साक्षात अपने कई भक्तों को दर्शन भी दिए हैं और ऐसा माना जाता है कि जिस स्थान पर नित्य श्रीराम कथा का पाठ होता है वहां कथा सुनने हनुमान जी अवश्य आते हैं। हनुमान जी जिस तरह भक्तों की रक्षा करते हैं उसी प्रकार वे दुष्टों को दंड भी देते हैं। 

प्राचीन धर्मग्रंथों के अनुसार कुछ काम ऐसे हैं जिनके करने से व्यक्ति हनुमान जी की कृपा से वंचित रह जाता है और उन व्यक्तियों को कलयुग का पापी माना गया है। जो भी स्त्री अथवा पुरूष ऐसे कार्य करता है तो वह हनुमान जी को कभी प्रसन्न नहीं कर सकता। ऐसे व्यक्ति को हनुमान जी दंड का पात्र समझते हैं। हनुमानजी की मंगलवार और शनिवार को विशेष पूजा होती है। जो भक्त भक्तिभाव से हनुमानजी की पूजा करता है उनके पास किसी तरह का कोई भय व संकट नहीं रहता। 

तो आइए यहां जानते हैं ऐसे कुछ कामों के बारे में जिनको करने वाले स्त्री-पुरूष से हनुमान जी सदैव नाराज रहते हैं और ऐसे घर में ना तो मां लक्ष्मी का वास होता है और ना ही हनुमान जी का, और ऐसे स्थान पर रहने वाले व्यक्ति के घर में भी सदैव दरिद्रता आती है।

-सबसे पहले तो यह जान लें कि जिस घर के लोगों का कोई आराध्य नहीं है और जो लोग भगवान पर विश्वास नहीं करते हैं तथा जहां सदैव ही ईश्वर का अपमान किया जाता है ऐसे घर में रहने वाले लोगों पर हनुमान जी कभी कृपा नहीं करते हैं। जहां पर श्रीराम का अपमान किया जाता है, ऐसे दुष्टों को दंड का पात्र ही समझा जाता है। 

- जिस घर के सदस्य सदा मांस और शराब का सेवन करते हों, ऐसे घर से देवी लक्ष्मी चली जाती हैं। ऐसे घर में रहने वाले लोग सदा दरिद्र ही रहते हैं। शास्त्रों के अनुसार जिस घर के लोग रोज मांस खाते हों अथवा शराब का सेवन करते हैं, ऐसे लोगों को हनुमान जी की कभी कृपा नहीं मिलती है। 

- जिस घर में महिलाओं के साथ दुर्व्यवहार किया जाता है, जहां पर पुरुष अपनी मर्दानगी दिखाने के लिए महिलाओं पर हाथ उठाते हैं अथवा रोज उनके साथ मारपीट करते हैं। ऐसे व्यक्ति को हनुमान जी दंड का पात्र समझते हैं। मृत्यु के बाद तो ये लोग नरक में जाते ही हैं लेकिन अपने कर्मों की सजा मृत्यु लोक में रहते हुए भी भुगतते हैं। 

इसे भी पढ़ें: 

रखने जा रही हैं पहली बार छठ पूजा का व्रत तो पहले से कर लें तैयारी, ये है पूरी पूजा सामग्री की लिस्ट

- जिस घर में रहने वाले परिवार के लोगों के बीच में एकता ना हो, भाई-बहनों में सदा झगड़े होते हों, ऐसे घर में रहने वाले लोग कभी सुखी नहीं रह सकते और हनुमान जी व मां लक्ष्मी की कृपा से वंचित रह जाते हैं। जिस प्रकार राम, लक्ष्मण, भरत और शत्रुघ्न इन चारों भाईयों के बीच में प्रेम तथा सम्मान था। उसी प्रकार परिवार में एक-दूसरे के प्रति मान-सम्मान और प्रेम होना आवश्यक है। तभी हनुमानजी की कृपा प्राप्त होती है साथ ही वहां मां लक्ष्मी भी रहना पसंद करती हैं। 
 

Advertisement
Back to Top