चंद्रग्रहण 2020 : जानें आखिर क्यों खास है 5 जून का चंद्रग्रहण, क्यों नहीं लगेगा सूतक

Know why lunar eclipse of June 5 is special why there will be no Sutak - Sakshi Samachar

5 जून को ज्येष्ठ पूर्णिमा के दिन चंद्रग्रहण है 

यह चंद्रग्रहण खास है और इसका सूतक नहीं लगेगा

पूजा-पाठ भी नहीं रुकेंगे और न ही मंदिर के कपाट बंद होंगे

हम सब यह तो जानते ही हैं कि 5 जून, शुक्रवार को चंद्रग्रहण लगने वाला है पर क्या आप जानते हैं कि यह ग्रहण सामान्य रूप से लगने वाले चंद्रगहण से बिल्कुल अलग है। जी हां, इस ग्रहण में आप चांद को देख भी सकते हैं और चांद को देखकर खा-पी भी सकते हैं। ग्रहण का सूतक नहीं रहेगा, इस वजह से पूर्णिमा से जुड़े सभी पूजन कर्म किए जा सकेंगे। 

क्यों खास है ये चंद्रग्रहण

 5 जून ज्येष्ठ मास की पूर्णिमा हैं और इस​ दिन उपछाया चंद्र ग्रहण लगने जा रहा है।  इस ग्रहण को पूरे भारत में देखा जा सकेगा। ग्रहण मध्य रात्रि 11 बजकर 16 मिनट से रात 2 बजकर 34 मिनट तक रहेगा। ग्रहण के दौरान चंद्रमा के आकार में भी कोई परिवर्तन नहीं होगा। इस दौरान चंद्रमा ​वृश्चिक राशि में होंगे। उपछाया चंद्रग्रहण जो 5 जून को लगने वाला है इसे शास्त्रों में वास्तविक चंद्रगहण से अलग माना गया है। 

क्यों नहीं लगेगा सूतक

इस ग्रहण में नियम अलग होते हैं और कोई सूतक नहीं माना जाता। पूजा-पाठ और ग्रहण के दौरान जागने को ​लेकर भी कोई पाबंदी नहीं होती है। इसे आप देख सकते हैं। इस दौरान भोजन भी कर सकते हैं। दान का नियम भी इस चंद्रग्रहण के साथ नहीं है।

जून में दो ग्रहण 

इस बार जून महीने में दो ग्रहण लगने जा रहे हैं। इसमें पहला ग्रहण 5 जून को लगेगा और दूसरा 21 जून को। 5 जून को चंद्र ग्रहण है वहीं 21 जून को सूर्य ग्रहण लगेगा। जून में लगने वाले ये दोनों ही ग्रहण भारत में दिखाई देंगे। यह चंद्र ग्रहण भारत के अलावा यूरोप, अफ्रीका, एशिया और ऑस्ट्रेलिया में भी दिखाई देगा। वहीं 21 जून को लगने वाला सूर्य ग्रहण भारत, दक्षिण पूर्व यूरोप और एशिया में दिखाई देगा।

इसे भी पढ़ें : 

क्या आपका बर्थ डे जून में है, तो यहां जानिये अपनी खूबियां व खामियां

निर्जला एकादशी पर ऐसे करेंगे पूजा तो मिलेगा श्री हरि का शुभाशीर्वाद, जानें पूजा विधि, महत्व व मुहूर्त​

Advertisement
Back to Top