श्रावण 2020 : भगवान शिव को चढ़ाएंगे ये चीजें तो होंगे प्रसन्न, इन चीजों को चढ़ाने से आता है क्रोध

know what to offer lord shiva in sawan and what not  - Sakshi Samachar

भगवान शिव को प्रिय है सावन का महीना 

शिव-शंकर को चढ़ाएं ये चीजें 

ये चीजें चढ़ाने से आता है क्रोध 

 

भगवान भोलेनाथ का अति प्रिय महीना श्रावण शुरू हो चुका है और इसके शुरू होते ही लगने लगे हैं भोले के जयकारे। श्रावण के महीने में हर ओर शिव पूजा की धूम होती है, कांवड़ लेकर निकल जाते है कांवड़िये और रुद्राभिषेक के साथ शिव की प्रिय चीजों का भी भक्त ध्यान रखते हैं।

पर इस बार कोरोना के चलते सावन की रौनक कुछ फीकी पड़ी है और कांवड़ यात्रा पर भी रोक है पर आप अपने घर पर पूरे विधि-विधान से पूजा करके शुभ फल तो पा ही सकते हैं। 

शिव पूजा में यह भी ध्यान रखा जाता है कि शिव को जो चीजें अप्रिय हो उनसे दूर रहा जाए वरना शिव क्रोधित भी हो सकते हैं।

शिव पूजा में जहां मंत्रों का जाप होता है वहीं रुद्राष्टकम का पाठ, स्तुतियों का पाठ भी किया जाता है।

तो यहां हमारे लिए यह जानना जरूरी हो जाता है कि आखिर शिव को क्या चढ़ाना चाहिए जिससे वे प्रसन्न हो और क्या न चढ़ाएं ...

आइये पहले जानते हैं कि सावन में शिव को कैसे करें प्रसन्न और उनकी कृपा पाने के लिए क्या चढ़ाएं...

-सावन में शिव लिंग की पूजा का विशेष महत्व होता है और इसके पूजन से सारे कष्ट दूर हो जाते हैं। प्रतिदिन सावन में इसकी पूजा करें और अगर यह न हो सके तो सावन सोमवार को तो पूजा अवश्य करें।

- शिव का गंगाजल के साथ ही पंचामृत से भी अभिषेक करें। पंचामृत में दूध, दही, घी, शहद और शक्कर होते हैं जो शिव को प्रिय है।

- शिव को बेलपत्र अति प्रिय है और प्रतिदिन बेलपत्र चढ़ाने से प्रतिष्ठा बढ़ती है।

- शिवजी को भांग चढ़ाने से प्रेत बाधा के साथ ही चिंता भी दूर हो जाती है।

- धतूरे के फूल को चढ़ाने से विषैले जीवों का खतरा समाप्त हो जाता है।

-शिवजी को शमी पत्र चढ़ाने से शनि की साढ़ेसाती व अशुभ ग्रहों के दोष से हम बच जाते हैं।

अब जानें कि आखिर शिवजी कौन सी चीजें चढ़ाने की गलती न करें ....

- शिवजी को तुलसी के पत्ते गलती से भी न चढ़ाएं।

- वहीं कुछ लोग शिवपूजा में कुमकुम का उपयोग करते हैं जबकि कुमकुम सुहाग की निशानी है और शिवजी को कुमकुम नहीं चढ़ता।

- वैसे तो शिवजी को सफेद फूल प्रिय होता है पर केतकी का सफेद फूल उन्हें अप्रिय है। इसलिए भूलकर भी शिवपूजा में उसका उपयोग न करें। कहते हैं कि केतकी के फूल ने शिवजी से झूठ बोला था और इसीका उन्हें श्राप भी मिला है।

- हम किसी भी पूजा के संपन्न होने के बाद नारियल चढ़ाते हैं और शिव पूजा के बाद भी यही करते हैं पर भगवान शिव को नारियल नहीं चढ़ाना चाहिए। नारियल का संबंध लक्ष्मी से है और लक्ष्मी भगवान विष्णु की पत्नी।

- कुमकुम की तरह हल्दी भी भगवान शिव को नहीं चढ़ती। हल्दी का उपयोग सौंदर्य को निखारने के लिए किया जाता है और शिव बैरागी हैं। शिव की पूजा में चंदन का उपयोग होता है।

- शिवलिंग की परिक्रमा भी आधी होती है और कभी भी उनकी पूरी परिक्रमा करने की गलती नहीं करनी चाहिए।

 

Advertisement
Back to Top