जानें पारिजात के पेड़ के चमत्कारी फायदे, लक्ष्मी पूजा में होता है इस फूल का इस्तेमाल

know benefits of parijaat tree planting in home it's flowers are used in laxmi puja  - Sakshi Samachar

पारिजात का पेड़ घर में लगाने से खुल जाते हैं किस्मत के ताले

पारिजात के पेड़ से दूर हो जाते हैं वास्तुदोष 

घर में पेड़-पौधे लगाने से, उनकी देखभाल करने से जहां हमें सुकून व शांति का एहसास होता है वहीं कुछ पेड़-पौधों को घर में लगाने से कई तरह के फायदे भी होते हैं। वास्तु (Vastu) के अनुसार तो घर में हरा-भरा वातावरण हो तो उस घर में रहने वालों को सकारात्मक ऊर्जा (Positive energy) मिलती है। 

वहीं कुछ पेड़-पौधे तो ऐसे भी है जिनका वास्तु के हिसाब से ही नहीं बल्कि धार्मिक व पौराणिक हिसाब से भी बड़ा महत्व है और इन पौधों को घर मे लगाने से हमें कई तरह के फायदे हो सकते हैं। ऐसा ही एक पेड़ है पारिजात (Parijat tree) का जिसका धार्मकि महत्व तो है ही वहीं इसके कई अन्य चमत्कारिक फायदे भी बताए गए हैं। 

ऐसा ही एक पेड़ है पारिजात का जिसे हरसिंगार भी कहा जाता है। पेड़ के साथ-साथ इसके फूलों का भी महत्व है। इसके फूल बेहद सुंदर होते हैं और सुगंधित भी। जहां इन फूलों का इस्तेमाल भगवान कृष्ण (Lord krishna) की पूजा में होता है वहीं ये फूल मां लक्ष्मी (Mata laxmi) को भी चढ़ते हैं। 

घर में पारिजात का पेड़ लगाने के बहुत फायदे हैं। कहते हैं कि घर में ये पेड़ लगाने से स्वयं लक्ष्मी का आपके घर में वास होता है साथ ही ऐसे घर में कभी किसी चीज की कमी नहीं होती। 

तो आइये यहां जानते हैं पारिजात के पेड़ और फूल के चमत्कारी फायदे ......

- कहते हैं कि पारिजात का वृक्ष जिसके भी घर के आसपास होता है उसके घर के सभी तरह के वास्तुदोष दूर हो जाते हैं।

-पारिजात के फूलों को खासतौर पर लक्ष्मी पूजन के लिए इस्तेमाल किया जाता है लेकिन केवल उन्हीं फूलों का इस्तेमाल किया जाता है, जो अपने आप पेड़ से टूटकर नीचे गिर जाते हैं। जहां यह वृक्ष होता है वहां पर साक्षात लक्ष्मी का वास होता है।

-पारिजात के फूलों की सुगंध आपके जीवन से तनाव हटाकर खुशियां ही खुशियां भर सकने की ताकत रखते हैं। इसकी सुगंध आपके मस्तिष्क को शांत कर देती है। घर परिवार में खु‍शी का माहौल बना रहता है और व्यक्ति लंबी आयु प्राप्त करता है।

-पारिजात के ये अद्भुत फूल सिर्फ रात में ही खिलते हैं और सुबह होते-होते वे सब मुरझा जाते हैं। यह फूल जिसके भी घर-आंगन में खिलते हैं वहां हमेशा शांति और समृद्धि का निवास होता है।

-हृदय रोगों के लिए हरसिंगार का प्रयोग बेहद लाभकारी है। इस के 15 से 20 फूलों या इसके रस का सेवन करना हृदय रोग से बचाने का असरकारक उपाय है लेकिन यह उपाय किसी आयुर्वेदिक डॉक्टर की सलाह पर ही किया जा सकता है। इसके फूल, पत्ते और छाल का उपयोग औषधि के रूप में किया जाता है।

-माना जाता है कि पारिजात के पेड़ को छूने मात्र से ही व्यक्ति की थकान मिट जाती है।

-पौराणिक मान्यता अनुसार पारिजात के वृक्ष को स्वर्ग से लाकर धरती पर लगाया गया था। नरकासुर के वध के पश्चात एक बार श्रीकृष्ण स्वर्ग गए और वहां इन्द्र ने उन्हें पारिजात का पुष्प भेंट किया। वह पुष्प श्रीकृष्ण ने देवी रुक्मिणी को दे दिया।

इसे भी पढ़ें: 

रविवार को ऐसे करेंगे सूर्य देव की पूजा तो मिलेगा यश के साथ सेहत का वरदान, न करें ये गलतियां

देवी सत्यभामा को देवलोक से देवमाता अदिति ने चिरयौवन का आशीर्वाद दिया था। तभी नारदजी आए और सत्यभामा को पारिजात पुष्प के बारे में बताया कि उस पुष्प के प्रभाव से देवी रुक्मिणी भी चिरयौवन हो गई हैं। यह जान सत्यभामा क्रोधित हो गईं और श्रीकृष्ण से पारिजात वृक्ष लेने की जिद्द करने लगी।
 

Advertisement
Back to Top