Kartik Purnima 2020 : कार्तिक पूर्णिमा आज, जाने क्यों होती है तुलसी पूजा

Kartik Purnima 2020 Know Why Tulsi Puja Done On Kartik Purnima - Sakshi Samachar

इस दिन भगवान विष्णु ने लिया था  मत्स्य अवतार

कार्तिक पूर्णिमा की पूजा विधि

हैदराबाद : कार्तिक मास की पूर्णिमा आज है। आज के दिन भगवान विष्णु और महालक्ष्मी की पूजा करने का विधान है। पुराणों में भी इस पूर्णिमा का विशेष महत्व बताया गया है क्योंकि कार्तिक माह विष्णु जी को प्रिय होता है। इस दिन देव दिवाली मनाने की भी परंपरा है। वहीं कार्तिक मास की एकादशी के दिन तुलसी का भगवान विष्णु के शालीग्राम रूप के साथ विवाह हुआ था। इस दिन स्नान और दान का खास महत्व है। 

कोरोना काल में सावधानी बरतते हुए घर में पहले से रखे हुए गंगाजल को जल में डालकर स्नान कर सकते है।  इसके अलावा कार्तिक  पूर्णिमा के दिन गरीबों को अन्न, कंबल, ऊनी वस्त्रों का दान करने से कई गुना पुण्य मिलता है। 

इस बार कार्तिक पूर्णिमा पर सर्वार्थसिद्धि योग व वर्धमान योग बन रहे हैं, जो कार्तिक पूर्णिमा के महत्व को और भी बढ़ा रहे हैं। कहा जाता है कि  इस दिन तुलसी पूजा का भी विशेष महत्व है। कहा जाता है कि पूर्णिमा तिथि के दिन तुलसी का बैकुंठ धाम में आगमन हुआ था।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन यानी आज चंद्र ग्रहण पड़ने जा रहा है। आपको बता दें कि यह केवल उप छाया चंद्र ग्रहण है और यह भारत में नहीं देखा जा सकेगा। ज्योतिष शास्त्र में पूर्णिमा के दिन चंद्र ग्रहण लगने से इसका महत्व और भी बढ़ गया है। चंद्र ग्रहण वृषभ राशि में लगने जा रहा है, जो शुक्र की राशि है और शुक्र भौतिक सुख-सुविधाओं के कारक ग्रह हैं। हालांकि इस ग्रहण का कोई भी सूतक काल मान्य नहीं होगा। 

इस दिन भगवान विष्णु ने लिया था  मत्स्य अवतार

पूर्णिमा की अधिष्ठात्री देवी महालक्ष्मी हैं और इस दिन दान-पुण्य का फल कई जन्मों तक प्राप्त होता है। इस पूरे महीने में भगवान विष्णु और महालक्ष्मी की पूजा करने का विधान है, क्योंकि इसी दिन भगवान विष्णु ने मत्स्य अवतार लिया था। एक अन्य मान्यता के अनुसार कार्तिक पूर्णिमा के दिन महादेव ने त्रिपुरासुर नाम के राक्षस का वध किया था। इसलिए इसे त्रिपुरी पूर्णिमा भी कहते हैं। 

कार्तिक पूर्णिमा की पूजा विधि

शाम के समय लक्ष्मी नारायण जी की आरती करने के बाद तुलसी जी की आरती करें और साथ ही दीपदान भी करें। घर की चौखट पर दीपक जलाएं। कोशिश करें कि कार्तिक पूर्णिमा के दिन किसी ब्राह्मण, गरीब या जरूरतमंद को भोजन करवाएं।

कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजन का धार्मिक महत्व

हिंदू धर्म के अनुसार कार्तिक माह विष्णु जी को बेहद प्रिय होता है। कार्तिक मास की एकादशी के दिन तुलसी का भगवान विष्णु के शालीग्राम रूप के साथ विवाह हुआ था।

-कार्तिक पूर्णिमा के दिन तुलसी पूजन इसलिए भी किया जाता है क्योंकि मान्यताओं के अनुसार इसी दिन तुलसी का पृथ्वी पर आगमन हुआ था। 

-मान्यता है कि इस दिन घर में तुलसी के पौधे के आगे दीपक जलाने और भगवान विष्णु की पूजा करने से मां लक्ष्मी प्रसन्न होती हैं।  

Advertisement
Back to Top