हनुमान जयंती 2020 : हर तरह के संकट से मुक्ति दिलाता है हनुमान चालीसा का पाठ, बरसती है मारुति की कृपा

Importance of hanuman chalisa reading  - Sakshi Samachar

हनुमान जयंती पर ऐसे करें पवनपुत्र को प्रसन्न

इस दिन अवश्य करें हनुमान चालीसा का पाठ

हनुमान चालीसा के पाठ से होते हैं ये लाभ

चैत्र पूर्णिमा को हनुमान जन्मोत्सव यानी हनुमान जयंती का त्योहार मनाया जाता है। इस बार यह पर्व 8 अप्रैल, बुधवार को मनाया जाएगा। इस दिन विशेष रूप से हनुमान जी की 
पूजा की जाती है, उन्हें चोला चढ़ाया जाता है और इसके बाद हनुमान चालीसा का पाठ भी किया जाता है।  माना जाता है कि हनुमान चालीसा के पाठ से हनुमान जी प्रसन्न होते हैं और भक्त के सब संकट दूर करके उस पर अपनी कृपा बरसाते हैं। वैसे तो भक्तजन हनुमान चालीसा का पाठ हर दिन या फिर शनिवार व मंगलवार को करते हैं पर हनुमान जयंती को यह किया जाए तो इसके अद्भुत लाभ मिलते हैं। 

हनुमान जयंती के अवसर पर आप हनुमान जी की आराधना करें और हनुमान चालीसा का पाठ करें। हनुमान चालीसा का पाठ अपने आपमें ही उनकी पूजा के लिए संपूर्ण है। हनुमान चालीसा हनुमान जी के पराक्रम के गुणगान से परिपूर्ण है। उसकी चौपाइयों को पढ़ने से आपके जीवन के सारे कष्ट, रोग, भय, दरिद्रता, जड़ता, बुद्धिहीनता जैसी बुराइयों का अंत हो जाता है। आपके बिगड़े काम बन जाते हैं। 

पौराणिक मान्यताओं के अनुसार, देवताओं ने जिन मंत्रों से हनुमान जी को शक्तियां प्रदान की थीं और उनके गुणों का गान किया था, उनके सार को ही तुलसीदास जी ने चौपाई और दोहों की मदद से हनुमान चालीसा की रचना की।

आइये यहां जानते हैं हनुमान चालीसा के पाठ से होने वाले लाभ के बारे में ....

वैसे तो हनुमान चालीसा में कोई मंत्र नहीं है लेकिन उनकी चौपाइयों में आपकी समस्याओं का समाधान छिपा है। प्रतिदिन स्नान के बाद आप हनुमान चालीसा का पाठ करते हैं तो इसका चमत्कारिक लाभ आपको स्वयं महसूस होगा।

- संकट कटै मिटै सब पीरा। जो सुमिरै हनुमत बलबीरा।।

- संकट तें हनुमान छुड़ावै। मन क्रम बचन ध्यान जो लावै।।

- भूत पिसाच निकट नहिं आवै। महाबीर जब नाम सुनावै।।

इन 3 चौपाइयों को पढ़ने से व्यक्ति के सभी संकट मिट जाते हैं, सभी दुखों का नाश हो जाता है। किसी भी प्रकार का भय उसे नहीं रहता, वह निडर हो जाता है।

यदि आप किसी कार्य को कर रहे हैं लेकिन आपके लाख प्रयासों के बाद भी सफलता नहीं मिल रही है तो फिर हुनमान चालीसा की इस चौपाई का स्मरण करें।

- भीम रूप धरि असुर संहारे। रामचंद्रजी के काज संवारे।।

आप हनुमान जी से शक्ति की कामना करते हैं तो आपको नीचे की इस चौपाई का स्मरण करना चाहिए। इससे आपको कठिन परिस्थितियों से लड़ने के लिए शक्ति मिलेगी।

- अष्ट-सिद्धि नवनिधि के दाता। अस बर दीन जानकी माता।।

यदि आप किसी रोग से पीड़ित हैं, उस रोग से निदान चाहते हैं तो आपको हनुमान चालीसा की इस चौपाई का जाप करना चाहिए।

- नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।।

हनुमान चालीसा का एक दोहा है 'भूत पिशाच निकट नहीं आए, महावीर जब नाम सुनावे। इस दोहे में बताया गया है कि जो व्यक्ति नियमित हनुमान चालीसा का पाठ करता है तो उसके आस-पास भूत-पिशाच और दूसरी नकारात्मक शक्तियां नहीं आती हैं।

हनुमान चालीसा का नियमित पाठ करने वाले व्यक्ति का मनोबल बढ़ जाता है और उसे किसी भी तरह का भय नहीं रहता है।

मनुष्य जीवन का परम लक्ष्य माना गया है मुक्ति यानी शरीर त्याग के बाद परमधाम में स्थान। हनुमान चालीसा में बताया गया है 'अन्त काल रघुबर पुर जाई। जहाँ जन्म हरि–भक्त कहाई।। और देवता चित्त न धरई। हनुमत् सेई सर्व सुख करई।।

यानी जो व्यक्ति हनुमान जी का ध्यान करता है उनकी पूजा और हनुमान चालीसा का पाठ नियमित करता है उसके परम धाम जाने का मार्ग सरल हो जाता है।

इसे भी पढ़ें : 

हनुमान जयंती 2020 : इस दिन यूं राशि अनुसार पवनपुत्र की पूजा करें और मनोवांछित फल पाएं

हनुमान जयंती 2020 : जानें आखिर क्यों भगवान शिव को लेना पड़ा हनुमान अवतार, क्या था इसका कारण

Advertisement
Back to Top