शुक्रवार को यूं मां लक्ष्मी के साथ करेंगे गणेशजी की पूजा तो होगी धन की बरसात

friday puja tips to please laxmi ganesh - Sakshi Samachar

शुक्रवार मां लक्ष्मी को प्रिय है

इस दिन मां लक्ष्मी की विशेष पूूजा होती है

मां लक्ष्मी के साथ गणेशजी की पूजा लाभदायक होती है

हर कोई चाहता है कि उसका दिन अच्छा बीते। उसके साथ सब कुछ अच्छा हो और हर कदम पर सफलता उसके कदम चूमे। यही नहीं जीवन में भी हम यही चाहते हैं इसीलिए तो सुबह-सवेरे दिन की अच्छी शुरुआत के लिए पूजा करके ही घर से निकलते हैं। घर में पूजा-पाठ के लिए इसीलिए तो पूजा घर बनाया जाता है और उसके वास्तु पर भी ध्यान दिया जाता है जिससे कि पूजा के शुभ फल हमें प्राप्त हो सकें। इसके अलावा पूजा-पाठ के माध्यम से ही व्यक्ति ईश्वरीय ज्ञान को प्राप्त करता है।

साथ ही हमारे हिंदू धर्म में तो भिन्न इच्छाओं के लिए विभिन्न देवी-देवताओं को पूजा जाता है। जैसेकि भय से छुटकारा पाने के लिए व शक्ति अर्जित करने के लिए हनुमानजी की पूजा होती है तो सुखी-वैवाहिक जीवन के लिए शिव-पार्वती को पूजा जाता है। वहीं जीवन में सुख-समृद्धि पाने के लिए शुक्रवार को लक्ष्मी जी की पूजा तो होती है साथ ही गणेशजी की पूजा करने से तो वारे-न्यारे हो जाते हैं।

हमारे शास्त्रों में प्रत्येक कर्मकांड के लिए एक विधि सुनिश्चित की गई है जिसमें प्रत्येक ईश्वरीय शक्ति के लिए एक निश्चित पूजा-नियम है।

शुक्रवार को सुखी और आर्थिक रूप से संपन्न जीवन की कामना हेतु की गई पूजा में इन सात चीजों का ध्यान अवश्य रखना चाहिए। ऐसा करने से आपका जीवन सुखमय होगा और आपकी अच्छे दिन की कामना पूरी होगी।

तो आइये जानते हैं कि कैसे करें शुक्रवार को लक्ष्मी-गणेश की पूजा ....

- शुक्रवार को सबसे पहले तो ब्रह्म मुहूर्त में उठें और स्नानादि से निवृत्त होकर मां लक्ष्मी व गणेश का मन में ध्यान कर लें।

-इसके बाद पूर्व दिशा या ईशान कोण में एक चौकी रखें। चौकी पर लाल या गुलाबी वस्त्र बिछाएं।

-पहले गणेशजी की मूर्ति रखें, फिर उनके दाहिने और लक्ष्मी जी को रखें।

-पूजा के लिए आसन पर बैठें और अपने चारों ओर जल छिड़क लें।

-इसके बाद संकल्प लेकर पूजा आरम्भ करें। एक मुखी घी का दीपक जलाएं।

-फिर मां लक्ष्मी और भगवान गणेश को फूल और मिठाइयां अर्पित करें।

- इसके बाद पहले भगवान गणेश फिर मां लक्ष्मी के मन्त्रों का जाप करें।

- अंत में आरती करें और शंख ध्वनि करें।

- सबको मां लक्ष्मी व गणेशजी का प्रसाद बांटें और खुद भी ग्रहण करें।

इसे भी पढ़ें : 
अब चारधाम यात्रा पर भी पड़ सकता है कोरोना का असर, डिजिटल दर्शनों की तैयारी कर रहे मंदिर के पुजारी

दुर्गाष्टमी से शुरू हुआ अप्रैल का महीना, जानें इस माह के प्रमुख व्रत-त्योहार​

Advertisement
Back to Top