शनिवार को भूल से भी न करें ये काम, वरना शनिदेव हो जाएंगे नाराज

don't do this things on saturday or else shanidev will get anger  - Sakshi Samachar

शनिवार को शनिदेव की होती है पूजा

शनिवार को भूल से भी न करें ये काम

शनिवार को विशेष रूप से शनिदेव की पूजा होती है। देखा जाए तो शनिदेव के नाम से ही लोग घबराने लगते हैं पर शनिदेव न्याय के देवता है और वे लोगों को उनके कर्मों के हिसाब से ही फल देते हैं। बुरे कर्म करने वाले शनिदेव के हाथों कर्मों का बुरा फल भोगते हैं।

दूसरी ओर जो लोग अच्छे कर्म करते हैं, सबका भला करते हैं वे शनिदेव के प्रिय होते हैं और शनिदेव उनका कभी बुरा नहीं करते, अच्छे लोगों पर सदैव शनिदेव की कृपा दृष्टि रहती है। 

शनिवार को शनिदेव की पूजा की जाती है, उन्हें तेल चढ़ाया जाता है साथ ही कुछ ऐसे काम भी है जो शनिवार को नहीं किए जाते। अगर ये काम कर लिए जाए तो शनिदेव के कोप का भागी बनना पड़ता है। इन कामों को करने से कुंडली में शनि की स्थिति कमजोर होती है। 

तो आइये यहां जानते हैं कि आखिर शनिवार को कौन से काम नहीं करने चाहिए ...

-सबसे पहले तो यह जान लें कि शनिवार के दिन सरसों का तेल नहीं खरीदना चाहिए। इस दिन शनिदेव को सरसों का तेल अर्पित किया जाता है। शनिवार के दिन सरसों का तेल दान किया जाता है। 

- शनिवार के दिन लोहे से बनी हुई वस्तुएं भी घर में नहीं लानी चाहिए। शनि देव लोहे का अस्त्र धारण करते हैं। यह बहुत मजबूत धातु है, इसलिए इसे शनि की धातु माना गया है।
 
- शनिवार के दिन पीपल के पेड़ के नीचे दीपक जलाना चाहिए और सिक्का अर्पित करना चाहिए।  
-शनिवार के दिन उड़द या उड़द की दाल घर में नहीं लानी चाहिए, इस दिन उड़द की दाल की खिचड़ी का दान करना सही रहता है। 
- शनि न्याय प्रिय हैं इसलिए शनिवार को माता-पिता बड़े बुजुर्गों और किसी गरीब का अपमान भूलकर भी नहीं करना चाहिए, नहीं तो शनिदेव नाराज हो जाते हैं। माता-पिता की सेवा करने से शनिदेव प्रसन्न होते हैं। 


- शनिवार के दिन किसी जीव-जन्तु को भी नहीं सताना चाहिए। 
- शनिवार के दिन जरुरतमंदों की मदद करनी चाहिए, इससे शनिदेव प्रसन्न होते हैं। 
- शनिवार के दिन न तो किसी को जूते-चप्पल दें और न ही किसी से जूते लें। न ही इस दिन जूते और चप्पल खरीदने चाहिए। इससे सफलता में रुकावट आती हैं। 

- शनिवार के दिन सूर्यास्त के बाद ही शनिदेव के लिए दीपक जलाना चाहिए। सूर्यास्त से पहले शनिदेव की पूजा नहीं करनी चाहिए।

 

Advertisement
Back to Top