अब चारधाम यात्रा पर भी पड़ सकता है कोरोना का असर, डिजिटल दर्शनों की तैयारी कर रहे मंदिर के पुजारी

corona can affect chardham yatra  - Sakshi Samachar

अक्षय तृतीया के बाद से शुरू होती है चार धाम यात्रा
इस बार चार धाम यात्रा पर भी पड़ेगा कोरोना का असर
 

यह तो हम जानते ही हैं कि कोरोना वायरस का संकट हम पर ही नहीं बल्कि पूरे विश्व पर मंडरा रहा है। इसीके चलते हमारे देश में लॉकडाउन चल रहा है वहीं यह भी कहा नहीं जा सकता कि इसके तुरंत बाद सब कुछ ठीक हो जाएगा क्योंकि अभी भी कोरोना के नए मामले लगातार सामने आ रहे हैं। 

हमने चैत्र नवरात्रि, रामनवमी सब इसके साये में ही वहीं अप्रैल के अंत में अक्षय तृतीया का पावन पर्व मनाया जाता है और इस दिन और इसके बाद ही चार धाम यात्रा शुरू बद्रीनाथ, केदारनाथ के कपाट खुल जाते हैं और चार धाम यात्रा शुरू हो जाती है। पर अब जैसा माहौल बन गया है कोरोना को लेकर उसके बाद उत्तराखंड की इस चार धाम यात्रा पर भी संशय के बादल मंडराते नजर आ रहे हैं क्योंकि अप्रैल के आखिरी हफ्ते में गंगोत्री, यमुनोत्री, केदारनाथ और बद्रीनाथ मंदिर का कपाट खुलने है। 

छह महीने तक चलने वाली चार धाम यात्रा के लिए गंगोत्री और यमुनोत्री धाम के कपाट 26 अप्रैल, केदारनाथ धाम के कपाट 29 अप्रैल और बद्रीनाथ धाम के कपाट 30 अप्रैल को खुलने है।  वहीं मंदिरों से जुड़े पुजारी और अधिकारियों का कहना है कि कोरोना को लेकर माहौल और स्थिति ठीक नहीं हुई तो वो डिजिटल पूजा व दर्शन कराना ही पसंद करेंगे।
 
गंगोत्री धाम कमिटी के सचिव दीपक सेमवाल ने कहा कि कोरोना वायरस के कारण अगर श्रद्धालुओं को आने की इजाजत नहीं मिलती है तो भी पुजारी परंपरा के अनुसार पूजा-पाठ करेंगे। उन्होंने कहा कि कपाट खोलने का एक शुभ मुहुर्त होता है और उसे टाला नहीं जा सकता। हम कपाट खोलने के दौरान भी कोरोना को लेकर सरकार के सारे निर्देशों का पालन करेंगे और कोई भीड़ नहीं लगने देंगे। 

सेमवाल ने कहा कि श्रद्धालुओं के पास पूजा के लिए स्लॉट ऑनलाइन बुक करने का विकल्प है और कोरोना संकट को देखते हुए डिजिटल तरीके से पूजा-दर्शन सुरक्षित रहेगा। उन्होंने बताया कि मंदिर के गर्भगृह के अंदर फोटोग्राफी और वीडियोग्राफी प्रतिबंधित है इसलिए उसके अलावा बाकी सारे पूजा-पाठ और कपाट खोलने को ऑनलाइन देखा जा सकता है।

इससे पहले उत्तराखंड के सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत फरवरी में ही ऐलान कर चुके हैं कि दुनिया भर के श्रद्धालु चार धाम के अलावा राज्य के प्रमुख मंदिरों के ऑनलाइन दर्शन कर सकेंगे। उन्होंने कहा था कि इससे उन भक्तों को मदद होगी जो शारीरिक दिक्कतों या अन्य वजहों से चार धाम नहीं आ पाते।

 बद्रीनाथ-केदारनाथ मंदिर समिति के मीडिया प्रभारी हरीश गौर ने कहा कि सारे धाम तय तारीख पर खुलेंगे लेकिन कोरोना वायरस के मद्देनजर सरकारी गाइडलाइंस के मुताबिक खास एहतियात बरती जाएगी।

इसे भी पढ़ें : 

रामनवमी 2020 : राम के अनन्य भक्त थे हनुमान, तो फिर क्यों राम ने पवनपुत्र को दिया मृत्युदंड

राम नवमी 2020 : जानें आखिर भगवान राम को चौदह वर्ष का वनवास ही क्यों मिला, क्या था इसका कारण​

Advertisement
Back to Top