पश्चिम बंगालः भाजपा नेता का शव घर के पास लटका मिला, बीजेपी और तृणमूल के बीच शुरू आरोप-प्रत्यारोप का दौर

West Bengal: BJP leader's body found hanging near house, allegations going on between BJP and Trinamool - Sakshi Samachar

कोलकाता : भाजपा के वरिष्ठ नेता देबेन्द्र नाथ रॉय का शव पश्चिम बंगाल के उत्तरी दिनाजपुर जिले में स्थित उनके घर के पास सोमवार सुबह लटका मिला। रॉय ने हेमताबाद की अनुसूचित जाति के लिए आरक्षित सीट से माकपा के टिकट पर विधानसभा चुनाव में जीत दर्ज की थी, लेकिन पिछले साल लोकसभा चुनाव के बाद वह भाजपा में शामिल हो गए थे। हालांकि उन्होंने माकपा से विधायक के तौर पर इस्तीफा नहीं दिया था।

दुकान के पास लटका मिला शव

जिला पुलिस के एक वरिष्ठ अधिकारी ने कहा, ‘‘रॉय का शव हेमताबाद इलाके में सोमवार सुबह एक दुकान के पास लटका मिला। हमने मामले में जांच शुरू कर दी है। फॉरेंसिक टीम मौके पर पहुंच गई है और उनके शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया है।''

भाजपा नेता के परिवार ने मामले में सीबीआई जांच की मांग करते हुए हत्या की आशंका जतायी है। परिवार के एक सदस्य ने कहा, ‘‘हमें लगता है कि यह हत्या है। इसकी सीबीआई जांच होनी चाहिए।'' भाजपा के राज्य नेतृत्व ने रॉय की हत्या को सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस पार्टी की सोची समझी साजिश करार दिया।

जेब से बरामद हुआ सुसाइड नोट

पश्चिम बंगाल पुलिस ने बताया, 'मृतक की शर्ट की जेब से सुसाइड नोट बरामद हुआ है। अपनी मौत के पीछे विधायक ने दो लोगों को जिम्मेदार ठहराया है। मामले की जांच जारी है।'

पश्चिम बंगाल बीजेपी ने कहा, 'उत्तर दीनाजपुर की रिजर्व सीट हेमताबाद से बीजेपी विधायक देबेन्द्र नाथ रॉय का शव उनके गांव के बिंदल में लटका हुआ मिला। पार्टी ने आगे कहा, लोगों में इस बारे में स्पष्ट राय है कि उन्हें पहले मारा गया और फिर लटका दिया गया।'

सीपीएम से बीजेपी में हुए शामिल
पिछले साल लोकसभा चुनाव के परिणाम आने के बाद बंगाल की सत्ताधारी पार्टी टीएमसी के दो विधायक और 50 के करीब पार्षद बीजेपी में शामिल हुए थे। इनके अलावा हेमताबाद से सीपीएम के विधायक देबेन्द्र नाथ रॉय ने भी पार्टी की सदस्यता ली थी।

मौत पर उठ रहे सवाल
पश्चिम बंगाल में बीजेपी विधायक देबेन्द्र नाथ रॉय की मौत पर राजनीति शुरू हो गई है। बीजेपी इस संदेहास्पद मौत को हत्या बता रही है। वहीं राज्यपाल जगदीप धनखड़ ने भी विधायक की मौत पर सवाल उठाए हैं। साथ ही सीएम ममता बनर्जी पर निशाना साधते हुए इसे प्रतिशोध की राजनीति बताया है।

तृणमूल कांग्रेस के गुंडों द्वारा की गई जघन्य हत्या

भाजपा के राज्य अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा, ‘‘यह तृणमूल कांग्रेस के गुंडों द्वारा की गई जघन्य हत्या है। तृणमूल रे की इलाके में लोकप्रियता को लेकर परेशान थी। हम सच सामने लाने के लिए मामले में स्वतंत्र जांच चाहते हैं। आप राज्य की कानून एवं व्यवस्था अच्छी तरह समझ सकते हैं, जब विधायक ही सुर​क्षित नहीं है।''

यह निंदनीय एवं कायरतापूर्ण कृत्य

भाजपा के राष्ट्रीय महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा, ‘‘यह निंदनीय एवं कायरतापूर्ण कृत्य है, आज राज्य की स्थिति ऐसी बन गई है। हेमताबाद विधायक देबेन्द्र नाथ रॉय की हत्या की गई है। उनका शव लटका मिला। क्या भाजपा में शामिल होना उनका अपराध था?''

पुलिस रे की मौत के कारणों का पता लगाएगी

वहीं तृणमूल कांग्रेस के वरिष्ठ नेता एवं जिला अध्यक्ष कनाईलाल अग्रवाल ने इन सभी आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि पुलिस देबेन्द्र नाथ रॉय की मौत के कारणों का पता लगाएगी। अग्रवाल ने कहा, ‘‘पुलिस ही उनकी (देबेन्द्र नाथ रॉय की) मौत के कारण का पता लगाएगी। उन्होंने आत्महत्या की या कोई और वजह है... यह कानून तय करेगा। मैं इस पर कोई टिप्पणी नहीं करना चाहता।''
—भाषा

Advertisement
Back to Top