हेमंत हत्याकांड रिमांड रिपोर्ट में सनसनीखेज खुलासे, 7 लाख रुपये की दी गई सुपारी

sensational revelations in hemant massacre remand report - Sakshi Samachar

युगंदर रेड्डी के साथ 7 लाख रुपये में हेमंत की हत्या करने का सौदा

इसी परिचय के चलते उसने हत्या की करने की बात कबूल कर ली

हैदराबाद: ऑनर किलिंग के शिकार हेमंत हत्याकांड के रिमांड रिपोर्ट में सनसनीखेज खुलासे प्रकाश में आये हैं। आरोपियों ने पुलिस के सामने अवंती और हेमंत से अलग होने और हेमंत को मार जाने तक की योजना के बारे में सनसनीखेज खुलासे किये हैं। इसी क्रम में लक्ष्मा रेड्डी और युगंदर रेड्डी ने एक महीने पहले ही हेमंत की हत्या की साजिश रचने का खुलासा हुआ है।

गुप्त बैठक

युगंदर ने पुलिस को बताया कि गच्चीबाउली के टीएनजीओ कॉलोनी में रह रहे हेमंत को कैसे अपहरण किया जाये और कैसे हत्या किया जाये, इस बारे में एक महीने पहले योजना बनाई गई थी। इसके लिए किराये के हत्यारे कृष्णा, राजू और पाशा से बार-बार संपर्क किया गया। साथ ही लक्ष्मा रेड्डी ने अपनी बेटी अवंती को हर हाल में अपनी ओर आकर्षित करने की योजना बनाई। उन्होंने एक महीने पहले हेमंत को मारने के लिए लिंगमपल्ली स्थित लक्ष्मा रेड्डी के घर में गुप्त बैठक भी की।

अंतरजातीय विवाह

पता चला है कि अंतरजातीय विवाह करने के कारण ही हेमंत की गुरुवार को निर्मम हत्या कर दी गई थी। अवंती रेड्डी ने 10 जून को माता-पिता घर छोड़ दिया और 11 जून को हेमंत से शादी कर ली थी। अवंती और हेमंत की शादी के कारण अपमान महसूस करने वाले लक्ष्मा रेड्डी और उसकी पत्नी अर्चना ने भाई युगंदर रेड्‍डी संपर्क किया और अपना दुख व्यक्त किया।

संबंधित खबर :

हेमंत के सभी हत्यारों को एनकाउंटर कर दें : अवंती रेड्डी

बहन की पीड़ा

युगंदर रेड्डी चार महीने तक लक्ष्मा रेड्डी और बहन अर्चना के घर पर था। वह अपनी बहन अर्चना की पीड़ा बर्दाश्त कर नहीं सका। उसने अवंती को हेमंत से अलग करने का फैसला किया। इस बारे में लक्ष्मा रेड्डी के मकान में परिवार सदस्यों के साथ बैठक की। बैठक में अवंती और हेमंत को हर हाल में अलग करने का फैसला किया।

घर के पास रेक्की

विजयेंदर रेड्डी और युगेंदर रेड्डी (दोनों भाई) ने गच्चीबाउली, टीएनजीओं कॉलोनी में अवंती के घर के पास रेक्की भी की। इस महीने की 24 तारीख को दोपहर 2.30 बजे जबरन हेमंत और अवंती के मकान में घुस गए। इसी क्रम के अवंती के 12 रिश्तेदारों ने हेमंत और अवंती पर हमला किया और उन्हें जबरन कार में बिठाकर ले गये। 

चंगुल से भागे

इसके बाद अवंती और हेमंत को बातचीत करने की बताकर गोपनपल्ली की ओर ले जाने लगे। इसी दौरान हेमंत और अवंती को संदेह हुआ। दोनों उनके चंगुल से भाग खड़े हो गये।

हेमंत की निर्मम हत्या

इसी दौरान हत्यारों ने हेमंत को पकड़ लिया। मगर अवंती भागने सफल हो गई। इसके बाद हत्यारों ने शाम 7.30 बजे संगारेड्डी में  हेमंत की निर्मम हत्या कर दी। इस घटना से बचने के लिए लक्ष्मा रेड्डी और अर्चना ने काफी सावधानी बरती। मगर बाद में दोनों बाइक पर गोपनपल्ली पहुंच गये।

16 गिरफ्तार, दो फरार

हेमंत हत्या के मामले में कुल 13 रिश्तेदार शामिल हैं। युगंदर रेड्डी ने कहा कि बहन अर्चना के दुख को वह बर्दाश्त कर नहीं सका। इसीलिए हेमंत की हत्या की है। हेमंत के हत्या मामले में 18 आरोपी शामिल हैं। इनमें से दो आरोपी जगन और सैय्यद अब भी फरार हैं। 16 आरोपियों को गच्चीबाउली पुलिस ने गिरफ्तार किया। इस मामले में युगंदर रेड्डी मुख्य आरोपी है। 

इसीलिए की हत्या

युगंदर रेड्डी ने कार में हेमंत को अवंति से अलग हो जाने के बारे में बहुत समझाया। मगर उसने अवंती से अलग होने और छोड़ने से साफ इंकार किया है। इसीलिए उसकी हत्या कर दी है।

7 लाख की रुपये सुपारी

इसी क्रम एक अन्य आरोपी बिच्चु यादव ने बताया कि युगंदर रेड्डी के साथ 7 लाख रुपये में हेमंत की हत्या करने का सौदा किया गया है। उसने यह भी बताया कि 10 साल से उसका और युगंदर रेड्डी के बीच पानी सप्लाई का कारोबार है। इसी परिचय के चलते उसने हत्या की करने की बात कबूल कर ली है।
 

Advertisement
Back to Top