कोरोना को भगाने के लिए पुजारी ने दी बलि, लाश के साथ पेड़ पर गुजारी पूरी रात, कहा - भगवान ने सपने में दिए दर्शन

Priest chops Man Head by Axe  in Temple to Get rid from Covid-19 in Odisha - Sakshi Samachar

भगवान ने सपने में आकर बताई बलि की बात

लाश के साथ पेड़ पर गुजारी पूरी रात

कटक : बदलते वक्त के साथ विज्ञान और टेक्नोलॉजी तेजी से विकसित हो रहा है, लेकिन मनुष्य आज भी अंधविश्वास की जंजाल से बाहर नहीं निकल पाया है और यह बात सुनकर विश्वास नहीं होता। बलि देने से कोरोना वायरस खत्म होने का हवाला देते हुए एक पुजारी ने एक व्यक्ति की जान ले ली। ओडिशा के कटक की यह दुर्भाग्यपूर्ण घटना कल रात की है।

प्राप्त जानकारी के मुातबिक कटक जिले के बंदाहुदा गांव निवासी सनसारी ओझा (72) बंदा मा बुद्द ब्राह्मणी देई मंदिर में पुजारी है। इस बीच, सरोज कुमार प्रधान (52) पूजा करने के लिए मंदिर पहुंचा और पूजा करने के बाद प्रधान ने ओझा से बात की।

खुद भगवान ने सपने में आकर बताया

इस दौरान सनसारी ओझा ने सरोज कुमार प्रधान को बताया कि कोरोना वायरस देशभर में कहर बरपा रहा है और ऐसे में किसी व्यक्ति के प्राणत्याग (बलि) करने से भगवान मेहरबान होंगे और कोरोना को गायब कर देंगे। यह बात स्वयं भगवान उसके सपने आकर बताया है। 

इसपर प्रधान ने पुजारी से कहा कि आज की टेक्नोलॉजी के दौर में क्या आज भी आप अंधविश्वास पर भरोसा करते हैं। इसी बात को लेकर दोनों के बीच बहस हुई और ओझा ने खुद भगवान के सपने में आकर यह बात कहने का हवाला देते हुए गुस्से में वहां पहले से रखा हुआ कल्हाड़ी हाथ में लिया और उससे प्रधान के सिर पर वार कर दिया। हमले में प्रधान की मौके पर मौत हो गई। पुलिस ओझा को हिरासत में लेकर प्रधान को हिरासत में लेकर शव को पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया। प्रधान की हत्या में इस्तेमाल की गई कुल्हाड़ी को फोरेंसिक रिपोर्ट के लिए सीजकर ओझा के खिलाफ मामला दर्ज किया है। 

लाश के साथ पेड़ पर गुजारी पूरी रात

सेंट्रल रेंज के डीआईजी आशिष कुमार सिंह ने कहा कि मंदिर में पूजा करने वाला सनसारी ओझा को अंधविश्वास पर अधिक भरोसा था। इसी क्रम में खुद भगवान सपने में आकर यह बात बताने का हवाला देते हुए ओझा ने प्रधान की हत्या की। लेकिन प्राथमिक जांच में पता चला है कि हत्या के वक्त आरोपी शराब के नशे में था। बाद में लाश को आम के पेड़ पर रखकर पूरी रात उसके बगल में बैठा रहा।

इसे भी पढ़ें : 

मुंबई : कोरोना वारियर की संदिग्ध मौत, कोविड-19 स्पेशल ड्यूटी पर थी तैनात

पड़ोसन से हुआ प्यार तो किया लिव इन पार्टनर का कत्ल, सूटकेस में ठूंसी मिली महिला की लाश

पिछले कुछ समय से ओझा की मानसिक स्थिति ठीक नहीं है और पहले भी स्थानीय लोगों से कहा था कि उसे भगवान दिखे हैं। गुरुवार सुबह नशा उतरने के बाद ओझा पेड़ से उतरा और प्रधान की हत्या करने की बात स्वीकारते हुए पुलिस के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। ओझा ने मनुष्य की बलि देने पर कोरोना कम होने के इरादे से प्रधान की हत्या की है।
 

Advertisement
Back to Top