पूजा कर रही थी विकास की मां, जब गैंगस्टर को गोली मारी गई

Mother Sarla Devi worshipping while Vikas Dubey Encounter was on - Sakshi Samachar

कानपुर: जिस वक्त विकास दुबे कानपुर में एसटीएफ के साथ गोलीबारी कर रहा था। ठीक उसी वक्त विकास की मां सरला देवी भोले बाबा की आराधना कर रही थीं। इसी बीच पहले खबर आई कि विकास जिस गाड़ी में बैठा था वो पलट गई है। कुछ ही देर बाद खबर आई कि विकास का एनकाउंटर हुआ है और वो मारा गया। खबर सुनते ही विकास की मां पूजा से उठ गईं। उनकी तबीयत खराब होने लगी और उन्होंने किसी से भी बात करने से मना कर दिया। 

विकास दुबे के मारे जाने की खबर के बाद गैंगस्टर के घर पर मीडिया का जमावड़ा शुरू हो गया। लाख मनाने के बाद भी परिवार के लोग बहुत कुछ बताने की स्थिति में नहीं थे। यहां तक कि विकास दुबे एनकाउंटर पर परिवार ने किसी तरह का आरोप भी नहीं लगाया है। 

सावन में विकास दुबे करता था शिव भक्ति 

सावन महीने में हर साल विकास दुबे भोले बाबा पर जल चढ़ाने शिव मंदिर जाया करता था। इस बार भी उसने उज्जैन के महाकाल मंदिर में पूजा अर्चना की और खुद को कथित तौर पर पुलिस के हवाले कर दिया। विकास को उम्मीद थी कि भगवान भोले शंकर की कृपा से वो बच जाएगा। उसका अंदाजा सही निकला कि यूपी पुलिस के गिरफ्त में आने के बाद उसका बचना मुश्किल होगा। लिहाजा उसने सोची समझी चाल के तहत खुद को मध्य प्रदेश पुलिस के हवाले किया। 
मध्य प्रदेश पुलिस ने अपनी जिम्मेदारी को बखूबी निभाते हुए विकास दुबे को सही सलामत यूपी एसटीएफ को सौंप दिया। कानपुर पहुंचने के ऐन पहले आखिरकार विकास दुबे मार गिराया गया।

विकास दुबे के परिवार पर पुलिस का दबाव

विकास दुबे की फरारी के बाद से ही पुलिस गैंगस्टर के परिवार पर दबाव बना रही थी। यहां तक कि उसके घर को पूरी तरह खोद डाला गया। विकास की पत्नी के साथ ही उसके नाबालिग बच्चे को भी पुलिस ने अपने पास रखा हुआ था। विकास के आधा दर्जन के करीब साथियों और रिश्तेदारों को मार गिराया गया। पुलिस को उम्मीद थी कि परिवार को मुश्किल में देख विकास जरूर सरेंडर करेगा, और ऐसा हुआ भी। हालांकि विकास दुबे ये कैलकुलेट नहीं कर सका कि कानपुर पुलिस के हाथों सरेंडर के बाद भी वो सुरक्षित रहेगा। 

मां ने विकास के सियासी कनेक्शन का किया था खुलासा 

सरेंडर के ठीक बाद विकास की मां सरला देवी ने उसके समाजवादी पार्टी से जुड़े होने की बात कही थी। जबकि एनकाउंटर के ठीक बाद सपा नेता और पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर तंज कसते हुए ट्वीट किया है। माना जाता है कि विभिन्न राजनीतिक दलों के खास नेताओं से विकास दुबे के कनेक्शन थे। विकास के जिंदा रहने से इन नेताओं की साख को भी आंच आ सकती थी। 

विकास की मां ने ये भी कहा था कि अगर उनका बेटा अपराधी है तो सरकार जो करना चाहे कर सकती है। सरला देवी को भी पता था कि एक बार पुलिस के हाथ लगने के बाद उनके बेटे को मारा नहीं जा सकता है। हालांकि उनका ये आकलन गलत साबित हुआ और विकास दुबे कथित तौर पर खुद की करनी से मारा गया। 
 

Advertisement
Back to Top