तेलंगाना : पत्रकार के बेटे की निर्मम हत्या, पहाडियों में मिला शव

kidnappers killed a journalist's son in telangana - Sakshi Samachar

दीक्षित की पुरानी रंजिश के कारण की गई हत्या 

मिली जानकारी के बाद पुलिस घटनास्थल पर गई

महबूबाबाद (तेलंगाना) : पिछले रविवार को अपहरण किये गये पत्रकार रंजित कुमार के बेटे दीक्षित (9) का दुखद अंत हो गया है। अपहरणकर्ता मंदा सागर ने दीक्षित की हत्या निर्मम हत्या कर दी। रंजीत कुमार महबूबबाद शहर निवासी है और वह एक टीवी चैनल के रिपोर्टर के रूप में काम करता है।

पुलिस अधीक्षक ने गुरुवार को मीडिया को बताया कि महबूबाबाद से 5 किलोमीटर दूरी पर दीक्षित की हत्या कर दी गई। उन्होंने यह भी बताया कि जल्द से जल्द पैसा हासिल करने के उद्देश्य से ही मंदा सागर ने बच्चे का अपहरण किया। पहचाने वाला व्यक्ति होने के कारण दीक्षित उनके साथ चला गया। 

अपरहणकर्ता ने सीसी कैमरे में अपहरण के दृश्य न आ पाये इस पर विशेष ध्यान दिया है। दानमय्या पहाड़ियों पर ले जाने के बाद अपहरणकर्ता मंदा सागर को दीक्षित को कंट्रोल करना मुश्किल हो गया। इसके चलते मंदासागर ने बालक का गला दबाकर हत्या कर दी। 

                             दीक्षित अपनी मां के साथ (फाइल फोटो)

संबंधित खबर :

तेलंगाना में पत्रकार के बेटे का अपहरण, 45 लाख रुपये देने की कर रहे हैं मांग

उन्होंने बताया कि तकनीकी का उपयोग करते हुए आरोपी को गिरफ्तार किया गया। शाम 6 बजे दीक्षित का अपहरण किया गया और रात को 8 बजे के आसपास हत्या कर दी। बालक द्वारा अपहरणकर्ता को पहचाने जाने के कारण ही हत्या कर दी गई है।

पुलिस अधीक्षक ने यह बी बताया कि रविवार को दीक्षित का अपहरण किया गया। अपरहरणकर्ता ने बालक को छोड़ने के एवज में 45 माता पिता से लाख रुपये की मांग की। मगर बालक के माता-पिता ने इतनी रकम नहीं होने की बात बताई। 

                           दीक्षित (फाइल फोटो)

इसके जवाब में अपरहणकर्ता ने बालक की हत्या करने की धमकी दी। फिर भी बालक के माता-पिता ने ऐसा-वैसा करके रकम जमा किये। बुधवार को दोपहर से बालक को अपहरणकर्ता से छु़ड़वाने की कोशिश की। इसी क्रम में अपरणकर्ता के बताये गये ठिकानों पर दीक्षित का पिता देर रात तक इंतजार करता रहा। मगर अपरहणकर्ता नहीं आया।

उन्होंने बताया कि इस दौरान अपहरणकर्ता इंटरनेट कॉल के जरिए दीक्षित के माता-पिता को धमकी देता रहा। साथ ही कहा कि उन्हें कोई कुछ नहीं करेगा। कोई भी उसे पहचान नहीं पायेगा। पुलिस ने इस मामले को चुनौती के रूप में लिया। 100 पुलिस से दस टीमों को गठन किया गया। आखिर आरोपी को हिरासत में लिया गया। मगर तब तक बालक की हत्या कर दी गई थी। महबूबाबाद से पांच किलोमीटर दूरी पर शव पाया गया।

एसपी ने कहा कि इस मामले की और गहन पूछताछ की जाएगी। शाम को एक बार फिर मीडिया को संबोंधित किया जाएगा।

Advertisement
Back to Top