गैंगस्टर विकास दुबे मामले में पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, दुबे का एक साथी दयाशंकर पुलिस की गिरफ्त में

Kanpur Encounter : Police caught gangster Vikas Dubey's accomplice Dayashankar - Sakshi Samachar

कानपुर : गैंगस्टर विकास दुबे मामले में पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी मिली है। विकास दुबे का एक साथी दयाशंकर, जो उस दिन एनकाउंटर के दौरान मौके पर मौजूद था, अब पुलिस ने उसे गिरफ्तार कर लिया है।

बताया जा रहा है कि विकास दुबे के इस साथी, दयाशंकर के एक पांव में गोली लगी हुई है इसलिए उसे अस्पताल में भर्ती करा दिया गया है। उसने पुलिस को बताया कि सारी जानकारी उन्हें फोन के जरिये ही मिली थी। ​दयाशंकर ने बताया कि विकास दुबे ने हमें फोन करके बुलाया गया था।

दयाशंकर की गिरफ्तारी पुलिस के लिए एक बड़ा लीड माना जा रहा है। इसके बाद यह कयास लगाए जा रहे हैं कि पुलिस की छानबीन सही दिशा में जा रही है। फोन कॉल्स के जरिये पुलिस जिस तरह से सारी जान​कारियां इकट्ठा कर रही हैं, उस दिशा में पुलिस आगे अपनी कार्रवाई को और भी तेज करने के मूड में है।

बता दें कि विकास दुबे कानपुर शूटआउट के बाद से ही फरार है। उत्तर प्रदेश की पुलिस उसकी तलाश में जगह-जगह छापेमारी रही है। उसके खिलाफ 50 हजार का इनाम भी जारी किया गया है। कानपुर मुठभेड़ में 8 पुलिसकर्मियों की मौत के जिम्मेदार कुख्यात अपराधी विकास दुबे की जानकारी जो देगा, उसे 50 हजार रुपये का इनाम दिया जाएगा।

एनकाउंटर में मारे जाने का था डर

आरोपी विकास दुबे को पुलिस दबिश की जानकारी काफी पहले हो चुकी थी। उसको शक था कि कहीं पुलिस एनकाउंटर करके उनको मार न दे, इसलिए उसने गुरुवार को ही अपने कई परिचितों को घर पर हथियारों के साथ बुला लिया था। जांच कर रही पुलिस ने आरोपी विकास दुबे के जानने वाले असलहाधारी लोगों के यहां छापेमारी की है। हालांकि ज्यादातर लोग फरार हैं।

वहीं, दूसरी ओर इस मामले में कानपुर के आईजी मोहित अग्रवाल ने चौबेपुर के थानाध्यक्ष विनय तिवारी को सस्पेंड कर दिया गया है। जांच में ये बात सामने आई है कि पुलिस से जुड़े कुछ अफसरों ने अपराधी विकास दुबे को पुलिस रेड की सूचना दी थी।

Loading...
Advertisement
Back to Top