बाल विवाह के बाद सुहागरात मनाना चाहता था पति, लेकिन पत्नी को पसंद थी सहेलियां और फिर...

Husband wanted to have a first Night with wife after child Marriage but women interested in her girl Friends - Sakshi Samachar

पत्नी ने अपने अधिकारी पति की इलेक्ट्रिक कटर से की हत्या

सात साल पहले हुआ सीमा का चरण सिंह से बालविवाह

कई लड़कियों से थे सीमा के संबंध

जोधपुर : राजस्थान के जोधपुर जिले से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। दरअसल यहां एक समलैंगिक पत्नी ने ही अपने पति जहरीला इंजेक्शन देकर हत्या की। इसके बाद उसकी लाश को टुकड़े टुकड़े कर अलग अलग नालों में फेंक दिया।  आरोपी महिला की पहचान सीमा के रूप में हुई है। खबरों की मानें तो महिला ने अपने पति की हत्या के लिए इलेक्ट्रिक कटर का इस्तेमाल किया था जिसे पुलिस ने बरामद कर लिया है। हालांकि पुलिस को मृतक चरणसिंह के शरीर के कुछ भाग तो नहीं मिले हैं, उनकी तलाश जारी है। 

कैसे दिया वारदात को अंजाम
मिली जानकारी के अनुसार सीमा और चरण सिंह का साल 2013 में बाल में विवाह हो गया था। पिछले कई दिनों से गौना ( शादी की रस्म) को लेकर बातचीत चल रही थी लेकिन सीमा गौने के लिए राजी नहीं हो रही थी। जब सीमा के  पति चरण सिंह उसे ससुराल लाने की जिद करने लगा तो सीमा को गुस्सा आ गया और उसने अपने बहनों के साथ अपने पति की हत्या की खौफनाक साजिश रची। इसके बाद सीमा ने अपने पति चरण सिंह से प्रेमपूर्वक बातें करते हुए उसे अपनी बहनों के घर बुलाने पर राजी कर लिया। 

कई लड़कियों से थे सीमा के संबंध
आरोपी महिला सीमा समलैंगिक है। लंबे समय से सीमा के कई लड़कियों के साथ समलैंगिक संबंध थे। वह पुरुषों से काफी नफरत करने लगी थी। इस दौरान जब चरण सिंह के परिवार की ओर से बाल विवाह को विवाह में बदलने का दबाव बढ़ा तो सीमा ने तय कर लिया कि वह चरण सिंह के साथ कभी नहीं जाएगी।

पत्नी के साथ वैवाहिक संबंध बनाना चाहता था पति
पिछले कुछ महीनों से मृतक चरण सिंह उर्फ सुशील जाट अपनी पत्नी के साथ वैवाहिक संबंध बनाना चाहता था लेकिन उसकी पत्नी सीमा ने उसे मना कर दिया और इस बात को लेकर दोनों के बीच काफी विवाद भी हुए। उसके बाद 10 अगस्त को सीमा ने चरण सिंह को बनाड़ थाना इलाके में अपनी बहनों के किराए के मकान पर बुलाया ओर इस वारदात को अंजाम दिया।

क्या है हत्या की वजह
पुलिस ने मामले का खुलासा करते हुए जानकारी दी है कि  महिला ने इस जघन्य अपराध को अपने बहनों के साथ मिलकर अंजाम दिया है। हत्या की जो वजह यह सामने आई है कि आरोपी महिला लड़को से नफरत करती थी जिस वजह से उसने इस घटना को अंजाम दिया। जांच के दौरान सामने आया कि मृतक चरण सिंह उर्फ सुशील मेड़ता का निवासी था और कृषि विभाग में अधिकारी था। उसका सीमा नाम की लड़की से 2013 में बाल विवाह हुआ। शादी के बाद लगभग 7 साल तक सीमा अपने घर पर ही रही। वह चरण सिंह के पास नहीं गई।

Advertisement
Back to Top