कभी मां न बन पाने के दुख ने कैसे इस महिला को पहुंचाया जेल, जानिए उसकी दर्द भरी दास्तान...

How did the pain of not being a mother take this woman to jail, know her painful story - Sakshi Samachar

लखनऊ : आप अब कभी मां नहीं बन पाएंगी... भगवान माने जाने वाले डॉक्टर के मुंह से यह वाक्य मानो सीमा की जिंदगी का सबसे बडा दर्द बन गया था। हर वक्त उसे यही दर्द सालता रहता कि वह अब कभी मां नहीं बन पाएगी। पत्नी का यह दर्द पति संजय से भी जब देखा नहीं गया तो आखिरकार उसने पत्नी को खुश रखने के लिए उसके गलत काम में उसका साथ दे दिया।

घटना 24 मई की है, जब उत्तर प्रदेश के क्वींस मैरी अस्पताल में एक महिला ने उस वक्त 12 दिन के एक नवजात बच्चे को चुरा लिया, जब डॉक्टर ने उसे यह बता दिया था कि अब वह कभी मां नहीं बन पाएगी। इस नवजात बच्चे के बारे में महिला को उसके पति ने ही बताया था, जो क्वींस मैरी अस्पताल के पास ही नमकीन वगैरह बेचता था।

दुखद यह है कि बच्चे के आने की खुशी में जब इस दंपत्ति ने पास-पड़ोस में केक बांटा, तो लोगों के साथ उनकी इस खुशी को बांटने के उनके निर्णय ने ही उन्हें जेल का रास्ता दिखा दिया। फिलहाल दोनों पुलिस की हिरासत में हैं। असल में, लापता बच्चे के पिता जगदीश ने इस संबंध में चौक पुलिस स्टेशन में एक प्राथमिकी दर्ज कराई थी। उसके बाद से ही पुलिस बच्चे की तलाश कर रही थी।

VIDEO : Ganga Dussehra 2020, पतित पावनी गंगा की पूजा से धुलते हैं सारे पाप

नवजात के पिता जगदीश ने बताया कि पत्नी ममता ने 13 मई को सी-सेक्शन के जरिए बच्चे को जन्म दिया, लेकिन 24 मई को उन्हें एक और सर्जरी करानी पड़ी। जब ममता को सर्जरी के लिए ले जाया जा रहा था, तब उसके पति जगदीश ने बच्चे को एक महिला को सौंप दिया, जिसका चेहरा ढका हुआ था। उन्हें लगा कि उक्त महिला अस्पताल की ही स्टाफ है, इसलिए बच्चे को उसे सौंपकर वह पत्नी के साथ चले गए। वापस आने पर उन्होंने देखा कि महिला बच्चे सहित गायब है। शिकायत दर्ज कराने के बाद पुलिस ने अस्पताल के सीसीटीवी फूटेज  खंगाले। करीब 250 परिवारों से पूछताछ की, जिसके बाद सोमवार को सीमा और संजय पकड़े गए।

यह भी पढें : पटना में नाबालिग से 6 बदमाशों ने किया गैंगरेप, लॉकडाउन में दिखी वहशत

स्टेशन हाउस ऑफिसर विश्वजीत सिंह ने कहा, "हमने अस्पताल के आस-पास के क्षेत्रों के सीसीटीवी फूटेज को स्कैन किया। महिला को रिक्शे पर सवार होकर डालीगंज चौराहे की ओर जाते हुएण देखा गया था। वहां से उसे रिवर बैंक कॉलोनी की ओर जाते देखा गया। इलाके में रहने वाले विभिन्न परिवारों से पूछताछ के दौरान एक व्यक्ति ने बताया कि एक अर्धनिर्मित घर के पास केक बांटे गए थे, जहां दंपत्ति किराये पर रहते थे। संजय ने पूछताछ के दौरान अपना जुर्म कबूल कर लिया।" उसने बताया कि गर्भपात हो जाने के बाद से ही उसकी पत्नी अवसाद में थी क्योंकि डॉक्टरों ने उसे बताया था कि वह दोबारा गर्भवती नहीं हो पाएगी। यही वजह थी कि उन्हें ऐसी हरकत करनी पडी।

यह भी पढें : 5 दिन पहले हुई लवमैरिज का दर्दनाक अंत, बंद कमरे में फंदे पर झूली पत्नी तो पति ने .....

Advertisement
Back to Top