नोकिया वोडाफोन आइडिया ने DSR प्रौद्योगिकी स्थापित करने का पहला चरण किया पूरा, आंध्र समेत कई राज्यों में मिलेंगी बेहतर सेवाएं

Nokia Vodafone Idea Completes  first Phase of DSR Technology - Sakshi Samachar

2500 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम बैंड में 5,500 टीडी-एलटीई ‘मैसिव मिमो'

कोविड-19 संकट के दौरान डेटा की बढ़ती मांग को पूरा करने में मदद

नई दिल्ली :  दूरसंचार उपकरण बनाने वाली नोकिया और दूरसंचार सेवा प्रदाता कंपनी वोडाफोन आइडिया ने बुधवार को देश में पहले चरण के तहत ‘डायनेमिक स्पेक्ट्रम रिफर्मिंग' (डीएसआर) प्राद्यौगिकी स्थापित करने का काम पूरा होने की घोषणा की। डीएसआर प्रौद्योगिकी से उपलब्ध स्पेक्ट्रम के बेहतर उपयोग से डेटा समेत ग्राहकों को बेहतर सेवा मिलती है। 

अनुबंध के तहत नोकिया ने आठ सर्किलों में 2500 मेगाहर्ट्ज स्पेक्ट्रम बैंड में 5,500 टीडी-एलटीई ‘मैसिव मिमो' (अत्याधुनिक 4 जी प्रौद्योगिकी) सेल लगाया है। ये आठ सर्किल (सेवा क्षेत्र) हैं... मुंबई, कोलकाता, गुजरात, हरियाणा, उत्तर प्रदेश (पूर्व), उत्तर प्रदेश (पश्चिम), बंगाल का शेष हिस्सा और आंध्र प्रदेश। ‘मैसिव मिमो' स्पेक्ट्रम के अनुकूलतम उपयोग के साथ बेहतर सेवा उपलब्ध कराने में सक्षम है। 

वोडाफोन आइडिया के मुख्य प्रौद्योगिकी अधिकारी विशांत वोरा ने एक बयान में कहा, ‘‘डीएसआर हमें अधिक नेटवर्क क्षमता और डेटा (इंटरनेट) की गति उपलब्ध कराता है, जिसके जरिये हम अपने ग्राहकों को बेहतर नेटवर्क सेवा दे पाएंगे। वोडाफोन आइडिया पहली कंपनी है, जो डीएसआर प्रौद्योगिकी का परीक्षण कर रही है।'' इस प्रौद्योगिकी से वोडाफोन आइडिया ‘ट्रैफिक' के हिसाब से विभिन्न प्रौद्योगिकी के तहत स्पेक्ट्रम साझा कर सकेंगी। 

वोरा ने कहा, ‘‘हमने भारत में बड़ी संख्या में ‘एम मिमो' लगाया है और ‘एम मिमो' प्रौद्योगिकी में निवेश से कोविड-19 संकट के दौरान डेटा की बढ़ती मांग को पूरा करने में मदद मिली है।'' डीएसआर और ‘एम मिमो‘ के उपयोग से वोडाफोन आइडिया आसानी से 5जी प्रौद्योगिकी को भी अपना सकेगी। 

इसे भी पढ़ें : 

वोडाफोन-आइडिया के शेयरों में 30 प्रतिशत का उछाल, जानिए क्यों बढ़ी शेयरों की Value ?

नोकिया के उपाध्यक्ष और भारत में कंपनी प्रमुख संजय मलिक ने कहा, ‘‘ऐसे समय जब ‘कनेक्क्टिविटी' महत्वपूर्ण है, डीएसआर और ‘एम मिमो' की तैनाती से वोडाफोन आइडिया अपने ग्राहकों के नेटवर्क क्षमता को बढ़ा सकेगी।'' नोकिया के एमबिट इंडेक्स 2020 के अनुसार हाल के समय में देश में डेटा का उपयोग तेजी से बढ़ा है। पिछले चार साल में ‘डेटा ट्रैफिक' 44 गुना बढ़ा है जो दुनिया में सर्वाधिक है।

Advertisement
Back to Top