तिरुपति उपचुनाव में राजनीतिक लाभ हासिल करने का प्रयास कर रहे चंद्रबाबू : मंत्री वेल्लमपल्ली

Vellampalli Srinivas informs temple security in Andhra Pradesh - Sakshi Samachar

चंद्रबाबू के कार्यकाल के दौरान क्षतिग्रस्त मंदिरों का किया जा रहा पुनरुद्धार

ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूद निजी मंदिरों की सुरक्षा पर धर्मस्व और पुलिस की नजर

विजयवाड़ा : आंध्र प्रदेश (Andhra Pradesh) के मंत्री वेल्लमपल्ली श्रीनिवास (Vellampalli Srinivas) ने कहा कि पुलिस विभाग ने राज्य में मौजूद 57,584 मंदिरों की मैपिंग की है। अंतर्वेदी (Antarvedi)  की घटना से पहले 3 हजार मंदिरों में सीसीटीवी (CCTV) कैमरे लगाये  गये हैं। फिलहाल प्रदेश में 39,076 सीसीटीवी कैमरे लगाये हैं। धर्मस्व (Endowment) विभाग की निधि किसी और विभाग की ओर डाइवर्ट नहीं की गई है। 

मंत्री ने कहा कि मुख्यमंत्री वाईएस जगन मोहन रेड्डी के नेतृत्व में वाईएसआरसीपी के सत्तारूढ़ होने के बाद सैकडों और हजारों की तादाद में हमले होने का गलत प्रचार किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि चंद्रबाबू नायडु के कार्यकाल के दौरान क्षतिग्रस्त मंदिरों का पुनरुद्धार किया जा रहा है। तिरुपति उपचुनाव में राजनीतिक लाभ हासिल करने के उद्देश्य से चंद्रबाबू नायडू कूटनीति कर रहे हैं। मंत्री ने कहा कि वाईएसआरसीपी के कार्यकाल के दौरान धर्मस्व विभाग से संबंधित 8 मंदिरों में असामाजिक घटनाओं को अंजाम दिया गया। इससे जुड़े कुछ आरोपियों को पुलिस ने हिरासत में लिया है। 

वेल्लमपल्ली श्रीनिवास ने कहा कि राजमंड्री में सुब्रह्मण्यम स्वामी मंदिर में मूर्ति क्षतिग्रस्त करने की घटना की जांच सीआईडी को सौंपने आदेश दिया गया। उस मंदिर की देखरेख टीडीपी के नेता गन्नी कृष्णा करते हैं। 

इसे भी पढ़ें :

सीआईडी करेगी रामतीर्थम मंदिर घटना की जांच, CM जगन ने दिये आदेश

TDP विधान परिषद सदस्यों ने नियमावली का किया उल्लंघन, चेयरमैन से की जायेगी शिकायत

वेल्लमपल्ली ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में मौजूद निजी मंदिरों की सुरक्षा पर धर्मस्व और पुलिस ने नजर रखी है। निजी मंदिरों की सुरक्षा के बारे में मंदिर निर्वहन समिति के सहयोग से काम करने का पुलिस विभाग ने निर्णय लिया है। पिछले दो सालों में प्रदेश में 31 मंदिरों में अलग-अलग घटनाएं घटी। इनमें से 23 मंदिरों की देखरेख निजी व्यक्तियों द्वारा की जाती है। समीक्षा के दौरान अधिकारियों ने बताया कि धर्मस्व विभाग के अधीन 8 मंदिरों में अलग-अलग घटनाएं घटी। इन घटनाओं को अंजाम  देनेवाले कुछ आरोपी पुलिस की हिरासत में हैं। 

मंत्री श्रीनिवास ने कहा कि गुप्त धन के लिए खुदाई करना, हुंडी की चोरी आदि घटनाओं को मिलाकर पुलिस ने 88 मामले दर्ज किये हैं। इन मामलों में पुलिस ने 159 आरोपियों को गिरफ्तार किया है। इनमें से कुछ अपराधियों को दो साल की सजा सुनाई गई है। कुछ आरोपी रिमांड पर हैं। विजयवाड़ा बस स्टैंड के निकट मंदिर की देखरेख की जिम्मा टीडीपी से जुड़े कर्मचारी संगठन के सदस्य का है। मंदिर में तात्कालिक तौर पर मिट्टी से बनी मूर्ति की प्राणप्रतिष्ठा की गई। इस मंदिर का धर्मस्व विभाग से कोई संबंध नहीं है। उन्होंने चंद्रबाबू से पूछा कि मंदिर की सुरक्षा पर ध्यान देने की बजाय टीडीपी ने लापरवाही क्यों की।

Related Tweets
Advertisement
Back to Top